Breaking News:

अरविंद पांडेय ने हरेला कार्यक्रम के अंर्तगत “मेरा गांव हरा भरा गांव” अभियान का किया शुभारंभ -

Monday, July 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3161, आज कुल 37 नए मरीज मिले -

Monday, July 6, 2020

विरेन्द्र सिंह रावत बने खेलों मास्टर गेम्स फाउंडेशन इंडिया उत्तराखंड के महासचिव -

Monday, July 6, 2020

उत्तराखंड के हित में सदैव करते रहेंगे धरने प्रदर्शनः आप -

Monday, July 6, 2020

डॉ0 रमेश पोखरियाल ’निशंक’ ने पब्लिक रिलेशंस सोसायटी ऑफ इण्डिया के ’विजय भारत अभियान’ का किया शुभारम्भ -

Monday, July 6, 2020

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में गड़बड़ी पर डीएसओ होंगे जिम्मेवार : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, July 6, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कोविड-19 को लेकर पांच बातों पर विशेष जोर जरूरी, जानिए खबर -

Sunday, July 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3124, आज कुल 31 नए मरीज मिले -

Sunday, July 5, 2020

अनुष्का विराट और कोरोना महामारी का समय …… -

Sunday, July 5, 2020

उत्तराखंड : तीन महिलाओं की कोसी नदी में डूबने की खबर, एक महिला का मिला शव -

Sunday, July 5, 2020

जरा हटके : यह शख्स सोने के मास्क का कर रहे उपयोग -

Sunday, July 5, 2020

देहरादून : सिटी बस संघ के 145 चालकों एवं परिचालकों को दिया राशन -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3093, आज कुल 45 नए मरीज मिले -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना की लड़ाई में लगातार सतर्कता जरूरी: सीएम उत्तराखंड -

Saturday, July 4, 2020

आरडी प्रोडक्शन पूरे करेगा मॉडलिंग और एक्टिंग के सपने , जानिए खबर -

Saturday, July 4, 2020

“दिल बेचारा” सुशांत की आखिरी फ़िल्म को लेकर खुलासा -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3048, आज कुल 64 नए मरीज मिले -

Friday, July 3, 2020

आरटीआई कार्यकर्ता सैफअली सिद्दीकी के पत्र पर राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने जांच के आदेश दिए , जानिए खबर -

Friday, July 3, 2020

उत्तराखंड में बने जड़ी बूटी मंडी : डा. राणा -

Friday, July 3, 2020

त्रिवेन्द्र सरकार ने जारी की 11 करोड़, जानिए क्यों -

Friday, July 3, 2020

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल का रहा मिला-जुला असर

देहरादून । ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर श्रमिक विरोधी कानून, वेतन समझौता, पुरानी पेंशन बहाल करने समेत विभिन्न मांगों को लेकर राष्ट्रीयकृत बैंक, भारतीय जीवन बीमा निगम समेत अन्य बीमा कंपनियों का काम काफी हद तक प्रभावित रहा। ठेका श्रमिक, संविदा, आउटसोर्स कर्मियों को समान काम का समान वेतन, मजदूरों को न्यूनतम वेतन 21 हजार रुपये देने, वेज एक्ट वापस लिए जाने जैसी दर्जनभर मांगों के समर्थन में देशभर की ट्रेड यूनियनों से जुड़े कर्मचारी आज हड़ताल पर रहे। हड़ताल से बैंकों, बीमा कंपनियों, आयकर, समेत केंद्र व राज्य सरकार के तमाम सरकारी कार्यालयों में कामकाज प्रभावित हुआ है। देहरादून में आज परेड ग्राउंड में ट्रेड यूनियन के सदस्यों ने प्रदर्शन किया। एस्लेहॉल स्थित पीएनबी बैंक के सामने कर्मचारियों का द्वारा प्रदर्शन किया गया। यहां गांधी पार्क के सामने सीपीआईएम के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। वहीं भारत बंद के चलते घंटाघर के पास इलाहाबाद बैंक के कर्मचारियों ने भी प्रदर्शन किया। हरिद्वार में ऋषिकुल आयुर्वेद कॉलेज में कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। यहां बैंक कर्मचारी भी प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतरे। चंद्राचार्य चैक पर ट्रेड यूनियन के पदाधिकारियों ने रैली निकाली। भेल में हड़ताल कर कर्मियों ने सड़क पर रैली निकाल कर अपना विरोध दर्ज कराया। हल्द्वानी के बुद्धापार्क में ट्रेड यूनियनों के साझा मंच द्वारा आयोजित धरने पर बैठे विभिन्न संगठनों के लोग बैठे। रुद्रपुर में किसानों ने भारत बंद के आह्वान पर मलसी गांव में प्रदर्शन किया और गन्ने की ट्रॉली रोकी। ट्रेड यूनियन के आह्वान पर मजदूर संगठनों और आशा कार्यकर्ताओं ने भी प्रदर्शन किया। सीटू के सचिव लेखराज ने बताया कि एक दिवसीय देशव्यापी हड़ताल को छात्रों, युवाओं समेत तमाम सरकारी विभागों ने समर्थन दिया। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सचिव राजेंद्र पुरोहित ने कहा कि देशव्यापी हड़ताल महंगाई, बेरोजगारी व सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ है। उत्तराखंड मेडिकल एवं सेल्स रिप्रेजेंटेटिव्स एसोसिएशन ने भी विभिन्न ट्रेड यूनियनों की ओर से आयोजित देशव्यापी हड़ताल को समर्थन दिया। ट्रेड यूनियन की देशव्यापी हड़ताल का ऋषिकेश में मिलाजुला असर देखने को मिला। यहां भी पूरी तरह कार्य प्रभावित रहा। ऊर्जा निगम कर्मचारी संघ अभियंता संघ के बैनर तले अधिकारी और कर्मचारी शाम पांच बजे तक कार्य बहिष्कार पर रहेे। इन सभी ने डिविजन कार्यालय में एकत्र होकर केंद्र सरकार की नीति के खिलाफ प्रदर्शन किया। हड़ताल के चलते कुछ बैंकों में सुबह से ही ताले लटके रहे, जिसके कारण उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।  बैंक एंप्लॉइज यूनियन के जिला सचिव मयंक गुप्ता और उत्तराखंड संयुक्त ट्रेड यूनियन के प्रदेश महासचिव अशोक वर्मा ने कहा कि देश में बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। निजीकरण के कारण श्रमिकों की नौकरियां जा रही है। सरकार समान कार्य समान वेतन के आदेश को लागू नहीं कर रही है। उन्होंने प्रदेश सरकार भी निशाना साधा। कहा, नीतियां भी औद्योगिकरण के खिलाफ है, जिससे पूरी तरह माहौल श्रमिकों के विरोध में जा रहा है। हड़ताल के कारण पीएनबी, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, ओरिएंटल बैंक ऑफ इंडिया, उत्तराखंड ग्रामीण बैंक, देना बैंक, जहां बंद रहे। वहीं, हाइड्रो इलेक्ट्रिक एसोसिएशन के कर्मचारी भी काम से विरक्त रहें। तीर्थ नगरी की मोबाइल की दुकानें भी बन रही। संयुक्त ट्रेड यूनियनों की देशव्यापी हड़ताल को रोडवेज कर्मियों ने भी समर्थन दिया है, लेकिन बसों का संचालन सुचारू रखा।

Leave A Comment