Breaking News:

हेल्प मी वेलफेयर सोसायटी ने गरीबों की मदद किये -

Tuesday, April 7, 2020

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

डेढ़ कुंतल पौधों को पैदल मार्ग से जवानों ने पहुंचाया धाम,जानिए खबर

javan

रुद्रप्रयाग। केदारनाथ में तैनात पुलिस कर्मियों ने केदारनाथ में रूद्राक्ष के पौधे को पहुंचाकर इतिहास रचने का कार्य किया है। पहली बार केदारनाथ धाम में रूद्राक्ष के पौधे का रोपण हुआ है। भारी बारिश के बीच गौरीकुंड-केदारनाथ 18 किमी पैदल यात्रा मार्ग से केदारनाथ धाम में लगभग डेढ़ कुंतल का रूद्राक्ष का पेड़ पहुंचाया गया। जिसकी विधिवत पूजा-अर्चना करने के बाद स्थापना की गई है। अब देश-विदेश से बाबा के दराबर में पहुंचने वाले भक्तों को भगवान शिव के अतिप्रिय रूद्राक्ष के पौधे के दर्शन भी होंगे। दरअसल, भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग के रूप में विख्यात केदारनाथ धाम में आज तक रूद्राक्ष का पौधा नहीं था। माना जाता है कि भगवान शिव को रूद्राक्ष अतिप्रिय है। रूद्राक्ष की माला धारण करने से भी मनुष्य के पाप दूर होते हैं। रूद्राक्ष को भगवान शिव का ही स्वरूप माना जाता है, लेकिन शिव धाम होने के बाद भी केदारनाथ धाम में रूद्राक्ष नहीं था। जिसे देखते हुये केदारनाथ में मौजूद पुलिस कर्मियों ने केदारनाथ धाम के लिये रूद्राक्ष का पौधा मंगवाया। पुलिस ने केदारनाथ के लिये रूद्राक्ष के पौधे को देहरादून से गौरीकुंड तक वाहन से मंगवाया। इसके बाद गौरीकुंड से केदारनाथ तक 18 किमी की चढ़ाई पर पुलिस के जवान लगभग डेढ़ कुंतल के इस पौधे को स्वयं अपने कंधों पर धाम में ले गये। जहां पुलिस चैकी केदारनाथ के नंदी बेस कैंप में विधिवत पूजा-अर्चना के साथ रूद्राक्ष के पौधे का वृक्षा रोपण किया गया। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने श्रद्धालुओं को प्रसाद भी वितरित किया। अब केदारनाथ दर्शनों के लिये पहुंचने वाले यात्रियों को एक साथ केदारनाथ धाम में ब्रम्हकमल और रूद्राक्ष के दर्शन हो जाएंगे। रूद्राक्ष और ब्रम्हकमल भगवान शिव को अति प्यारे होते हैं। केदारनाथ पुलिस चैकी इंचार्ज बिपिन चन्द्र पाठक के नेतृत्व में रूद्राक्ष का पौधा केदारनाथ धाम में पहुंचा है। चैकी इंचार्ज ने ही केदारनाथ में ब्रम्हवाटिका की स्थापना की है और वही चाहते थे कि अब धाम में रूद्राक्ष का भी पौधा हो। उन्होंने कहा कि पुलिस के जवान गौरीकंुड से केदारनाथ तक पौधों को अपने कंधों पे ले आये। सभी जवानों ने रूद्राक्ष के पौधे को धाम तक पहुंचाने में अपना पूरा सहयोग दिया है। भारी बारिश के बीच भी जवान पौधे को धाम में लाते रहे। उन्होंने कहा कि केदारनाथ के मुख्य पुजारी गंगाधर लिंग के साथ ही स्थानीय तीर्थ पुरोहित भी इस पहल की सराहना कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पौधे के धाम में पहुंचने के बाद विधिवत पूजा की गई। सभी श्रद्धालुओं के लिये बाबा केदार को चढ़ने वाला प्रसाद बनाया गया। उन्होंने कहा कि पौधे को केदारनाथ धाम पहुंचाने में राहुल कुमार, जीतपाल सिंह नेगी आदि का सहयोग रहा |

Leave A Comment