Breaking News:

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

शीघ्र ही नई शिक्षा नीति : निशंक -

Sunday, November 17, 2019

उत्तराखंड : युवा इनोवेटर्स ने विकसित किए ऊर्जा दक्ष वाहन -

Sunday, November 17, 2019

यमकेश्वर : कार्यरत स्टार्ट अप को मुख्यमंत्री ने दिए 10 लाख रूपए -

Sunday, November 17, 2019

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भारत से साध्वी भगवती सरस्वती ने किया सहभाग -

Saturday, November 16, 2019

देहरादून में हुआ भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा का भव्य स्वागत, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

भिक्षा मांग रहे बच्चो को भिक्षा की जगह शिक्षा दे : एडीजी अशोक कुमार -

Friday, November 15, 2019

हरिद्वार : पर्यटकों के लिए खुले राजा जी रिजर्व पार्क के दरवाजे -

Friday, November 15, 2019

शहर में दूसरा प्लास्टिक बैंक हुई स्थापित, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड में ‘‘सबका साथ-सबका विकास’’ जनयोजना अभियान 2 दिसम्बर से , जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड : सीएम त्रिवेंद्र ने सांसद आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की -

Thursday, November 14, 2019

अंगीठी की गैस से दम घुटने के कारण मां-बेटी की मौत -

Thursday, November 14, 2019

भारतीय वन्य जीव संस्थान का दल पहुंचा परमार्थ निकेतन -

Thursday, November 14, 2019

पिथौरागढ़ विस उपचुनाव: प्रचार को कांग्रेस प्रभारी भी -

Thursday, November 14, 2019

डॉक्टरों के लिए देश में काम करने का न्यूनतम समय तय होना चाहिए: संसदीय समिति

doctar

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मामलों की स्थायी समिति ने कहा कि करदाताओं के पैसे से चलने वाले कॉलेजों में पढ़ाई करके बनने वाले डॉक्टरों की देश के प्रति भी कुछ जिम्मेदारी है। इसलिए कुछ समय तक देश में काम करके ही उन्हें विदेश जाने की अनुमति मिलनी चाहिए। समिति ने डेंटल कौंसिल ऑफ इंडिया, नर्सिग कौंसिल ऑफ इंडिया समेत चिकित्सा से जुड़ी संस्थाओं को पुनगर्ठित कर उन्हें प्रभावी बनाने की आवश्यकता जताई। इनका कार्य नेशनल मेडिकल कमीशन बिल, 2017 के प्रावधानों के अनुरूप होना चाहिए। संसदीय समिति ने सिफारिश की है कि डॉक्टरों के लिए देश में काम करने का न्यूनतम समय तय होना चाहिए। इसमें से कम से कम एक वर्ष ग्रामीण क्षेत्र के लिए होना चाहिए। इसके बाद ही डॉक्टरों को विदेश जाकर कार्य करने की अनुमति मिलनी चाहिए। संसदीय समिति ने यह सिफारिश पढ़ाई पूरी करके बड़ी संख्या में डॉक्टरों के विदेश जाने के चलन को ध्यान में रखकर की है। मेडिकल कौंसिल ऑफ इंडिया के विश्वसनीयता खोने से सतर्क समिति ने प्रस्तावित नेशनल मेडिकल कमीशन के सदस्यों के लिए व्यावसायिक और पेशेगत जिम्मेदारियों की घोषणा अनिवार्य किए जाने की सिफारिश की है। समिति ने सभी पैरामेडिकल और अन्य हेल्थकेयर व्यवसायों के लिए लाइसेंसिंग व्यवस्था लागू करने तथा उनके लिए मानदंड तय करने की भी सिफारिश की है। नेशनल मेडिकल कमीशन बिल 2017 संसद में पिछले हफ्ते ही रखा गया है। प्रोफेसर रामगोपाल यादव की अध्यक्षता वाली समिति ने इस बिल में शामिल करने के लिए ये सिफारिशें की हैं।

Leave A Comment