Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

तभी शायद ‘‘ऊँ‘‘ का भाव सार्थक हो सकेगा…..

om

 

“जीवन की पुकार’’(मन की बात)
कल का दिन देश के इतिहास में,नये भारत की राह में,विश्व गुरू/जगद्गुरू बनने की राह में एक महत्तवपूर्ण टर्निंग प्वाइंट,तीन तलाक के खिलाफ लोकसभा में विधेयक पारित होना,इस चीज को यदि हम धर्म विशेष(मुस्लिम धर्म) तक सीमित रखे तो सम्भवतः कुछ कमी रह जायेगी,व्यापक रुप से इस चीज को यदि हम जीवन धर्म तक ले जाएं तो सम्भवतः हमें व हमारे देश को वह स्थान मिल जायेगा,जिसकी हम कल्पना करते हैं। पंच महाभूत/पंच तत्वों में से प्रथम तत्व पृथ्वी जो धारण करती है जीवन को तथ्रत्रा जीवन के पुरुषार्थ/लक्ष्य जिसमें प्रथम चीज ,धर्म(धर्म,अर्थ,काम और मोक्ष में से) इन दोनों प्रथम चीजों (धरती और धर्म) के विषय में हम सोच चुके हैं,मातृ शक्ति/नारी शक्ति को स्थायित्व मिले तो निश्चित ही धरती तत्व को भी स्थिरता मिलेगी,परिणाम स्वरुप जीवन में भी यह चीज लक्षित होगी। एक तरफ धर्म निरपेक्षता,जिस पर चल कर आज हम यहां तक पहुंच गये हैं न्यायालय भी यह कह चुका है कि हिंदुत्व जीवन जीने का तरीका है,पद्धति है, तो क्यों न हम हिन्दुत्व शब्द को ‘‘जीवनत्व‘‘ में परिवर्तित कर दें, और जीवन भी न केवल मनुष्यों का वरन, समस्त पशु-पक्षी, जीव-जन्तु, वृक्ष-वनस्पति यहां तक कि समग्र जड उर्जा जिसमें धरती, वायुु, जल, अग्नि तथा आकाश सम्मिलित हों, तभी शायद ‘‘ऊँ‘‘ का भाव सार्थक हो सकेगा, इन सभी बातों को यदि ‘‘बूंद में सागर‘‘ की तहत कहें तो अभी तक हम धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को जीवन के पुरूषार्थ/ लक्ष्य मान कर आए हैं, क्यों न अब हम इन चीजों को जीनव की कलायें मान कर चलें, तो सम्भवतः जीवन की स्थिति कुछ और हो।

 

vinod kumar 'jivan ki pukar''

– विनोद कुमार ‘‘जीवन की पुकार”

क्लेमेंटाउन देहरादून

Leave A Comment