Breaking News:

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भारत से साध्वी भगवती सरस्वती ने किया सहभाग -

Saturday, November 16, 2019

देहरादून में हुआ भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा का भव्य स्वागत, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

भिक्षा मांग रहे बच्चो को भिक्षा की जगह शिक्षा दे : एडीजी अशोक कुमार -

Friday, November 15, 2019

हरिद्वार : पर्यटकों के लिए खुले राजा जी रिजर्व पार्क के दरवाजे -

Friday, November 15, 2019

शहर में दूसरा प्लास्टिक बैंक हुई स्थापित, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड में ‘‘सबका साथ-सबका विकास’’ जनयोजना अभियान 2 दिसम्बर से , जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड : सीएम त्रिवेंद्र ने सांसद आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की -

Thursday, November 14, 2019

अंगीठी की गैस से दम घुटने के कारण मां-बेटी की मौत -

Thursday, November 14, 2019

भारतीय वन्य जीव संस्थान का दल पहुंचा परमार्थ निकेतन -

Thursday, November 14, 2019

पिथौरागढ़ विस उपचुनाव: प्रचार को कांग्रेस प्रभारी भी -

Thursday, November 14, 2019

मुख्यमंत्री ने 150 करोड़ रूपए लागत की विभिन्न विकास योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास -

Thursday, November 14, 2019

जनभावनाओं के अनुरूप श्रीराम का भव्य मंदिर जल्द : सीएम योगी आदित्यनाथ -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : मंत्रिमंडल की बैठक में 27 फैसलों को मंजूरी -

Wednesday, November 13, 2019

फीस वृद्धि : छात्रों में भारी आक्रोश, की तालाबंदी -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : 25 नवंबर से शुरू होगा खेल महाकुम्भ, जानिए खबर -

Wednesday, November 13, 2019

तम्बाकू सेवन की आदत से बचने की अपील

uk cm

देहरादून । मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विश्व तम्बाकू निषेध दिवस की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में प्रदेशवासियों से तम्बाकू सेवन की आदत से बचने की अपील की है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू एक ऐसा जहर है, जो शारीरिक रूप से तो हानिकारक है ही, साथ ही, इसके सामाजिक व आर्थिक दुष्प्रभाव भी पड़ते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक स्वस्थ शरीर ही स्वस्थ व विकसित राष्ट्र के निर्माण का आधार है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू, सिगरेट, बीड़ी गुटखा आदि की आदत को छोड़ने के लिए हमें संकल्प लेकर प्रदेश व राष्ट्र के विकास में भागीदार बनना होगा।

खबरे और भी …..

यह पायलट प्रोजेक्ट दिखाता है युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य और उनकी बढ़ती भागीदारी को

देहरादून । उत्तराखंड में युवा, जो मानसिक परेशानी का अनुभव करते हैं (जिसे मनो-सामाजिक विकलांगता भी कहा जाता है) अक्सर उन्हें कलंक, बहिष्कार का अनुभव करना पड़ता है और जहां वे रहते हैं, उनके स्कूलों और समुदायों में उनके साथ भेदभाव किया जाता है। इमैनुएल हॉस्पिटल एसोसिएशन और मेलबोर्न विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाल ही में शोध को प्रकाशित किया है जिसमें मनो-सामाजिक विकलांगता वाले 142 युवाओं के बीच एक कार्यक्रम (नई दिशा-2) की प्रभावशीलता को दिखाता है, जिसने समुदाय में उनके समावेश को बढ़ाया और उनके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लेकर आया। अधिकांश युवा, देहरादून शहर या उसके आस-पास के इलाकों, कुछ मलिन बस्तियों और कुछ देहरादून जिले के ग्रामीण इलाकों में जैसे सहसपुर रहते हैं। देहरादून जिले में रहने वाली डॉ. कैरन माथियास ने बताया कि “मानसिक-सामाजिक विकलांगता पूरे भारत भर में बहुत बड़ी समस्या है। वास्तव में मानसिक बीमारी भारत के 600 मिलियन युवाओं में खराब स्वास्थ्य का सबसे बड़ा कारण है,” “लेकिन समूह की बैठकों और नई दिशा के मॉड्यूल में भाग लेने से, हमने कई युवाओं को अच्छी चीजों में बदलते हुए देखा, जो कि वास्तव में उत्साहजनक था। सामाजिक समावेश को बढ़ाने के लिए पूरी दुनिया में लगभग कोई अध्ययन नहीं हुआ है।”
अध्ययन में भाग लेने वाली युवा महिलाओं ने बताया कि उन्हें घर से निकलने और स्वतंत्र रूप से इधर उधर जाने में अधिक आत्मविश्वास महसूस हुआ। एक युवा महिला जो नई दिशा हस्तक्षेप का हिस्सा थी, उसने कहा कि “इससे पहले, स्कूल जाने के लिए मेरी माँ मेरे साथ जाती थी और मुझे लेने के लिए भी उसे आना पड़ता था, लेकिन समूह में शामिल होने के बाद मैंने उससे कहा कि इसकी कोई जरूरत नहीं है, और अब मैं खुद से स्कूल आती-जाती हूँ।“युवा महिलाओं ने यह भी महसूस किया कि वे नई चीजों को शुरू करने में सक्षम हैं जैसे ओपन स्कूलिंग से कक्षा दस के अध्ययन को पूरा करना और कई युवा महिलाओं ने समूह में भागीदारी के बाद रोजगार भी शुरू किया।

Leave A Comment