Breaking News:

रमाकांत जायसवाल की कैंसर पीड़ित पत्नी की मदद को आगे आये सलमान, जानिए खबर -

Sunday, July 12, 2020

पूर्व डब्ल्यूडब्ल्यूई स्टार जल्द ही मां बनने वाली है, तस्वीरें वायरल -

Sunday, July 12, 2020

जरा हटके : प्रकृति के बीच फैशन शो -

Sunday, July 12, 2020

अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन की जाँच में भी कोरोना पॉजिटिव मिला -

Sunday, July 12, 2020

अमिताभ बच्चन को हुआ कोरोना, अस्पताल में भर्ती -

Saturday, July 11, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3417, आज कुल 45 नए मरीज मिले -

Saturday, July 11, 2020

रिकवरी रेट में उत्तराखण्ड देश में लद्दाख के बाद दूसरे नम्बर पर -

Saturday, July 11, 2020

पांच वर्ष एक झटके में निकल गए : शाहिद कपूर -

Saturday, July 11, 2020

आखिर क्यों मैदान में खिलाड़ी, अंपायर घुटने के बल बैठे, जानिए खबर -

Saturday, July 11, 2020

अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन से हुआ अलग, जानिए क्यों -

Saturday, July 11, 2020

प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सुविधा और कौशल के अनुसार व्यवसाय चयन करने का रोजगार प्रदान करने का अवसर : मदन कौशिक -

Friday, July 10, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3373, आज कुल 68 नए मरीज मिले -

Friday, July 10, 2020

विकास दुबे पुलिस मुठभेड़ में ढेर, जानिए खबर -

Friday, July 10, 2020

उत्तरांचल पंजाबी महासभा द्वारा कोमल वोहरा को महानगर महिला मोर्चा का अध्यक्ष चुना गया -

Friday, July 10, 2020

देहरादून : सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने व मास्क ना पहनने पर 21 लोगों का चालान -

Friday, July 10, 2020

जरा हटके : 300 वर्ष पुरानी वोगनबेलिया की बेल पेड़ सहित टूटी -

Friday, July 10, 2020

उत्तरांचल पंजाबी महासभा के प्रतिनिधिमंडल ने भेंट की फेस मास्क व फेस शील्ड -

Thursday, July 9, 2020

उत्तराखंड : विश्वविद्यालय स्तर पर अन्तिम वर्ष एवं अन्तिम सेमेस्टर की परीक्षायें 24 अगस्त से 25 सितम्बर -

Thursday, July 9, 2020

गफूर बस्ती के लोगों के उत्पीड़न पर अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग सख्त, जानिए खबर -

Thursday, July 9, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3305, आज कुल 47 नए मरीज मिले -

Thursday, July 9, 2020

त्रिवेंद्र सरकार की बड़ी उपलब्धि, डोबराचांठी पुल बनकर लगभग तैयार

प्रतापनगर टिहरी के लोगों का 14 साल का इंतजार जल्द खत्म होगा

देहरादून | प्रतापनगर के लोगों के लिए 14 साल के लम्बे इंतजार  के  बाद जल्द ही वह शुभ अवसर आने वाला है जिसका उन्हें वर्षों से इंतजार था। टिहरी को प्रतापनगर से सीधे जोड़ने के लिए निर्माणाधीन डोबराचांठी पुल बनकर लगभग तैयार है। डोबराचांठी पुल की सतह को आपस में जोड़ने का काम पूरा किया जा चुका है। रेलिंग और कोटिंग के बाद रोड सेफ्टी की एनओसी लेने के बाद इस पर अगले वर्ष मार्च तक लोगों की आवाजाही शुरू कर दी जाएगी। राजनीतिक नेतृत्व की दृढता व इच्छा शक्ति से किस तरह से सालों से अधर में लटके काम समय बद्धता से पूरे किए जा सकते हैं, डोबरा चांठी पुल इसका बड़ा प्रमाण है। प्रताप नगर वासियों की पीड़ा और डोबरा चांठी पुल की अहमियत को समझते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने इसे अपनी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में रखा। उन्होंने इसके लिए एकमुश्त बजट जारी किया। इसका परिणाम हम सभी के सामने है।
सीएम डैशबोर्ड पर लोकनिर्माण विभाग की-परफोर्मेंस इंडिकेटर में डोबराचांठी पुल प्रमुख बिंदु है। मुख्यमंत्री ने स्वयं इसके काम की प्रगति पर लगातार नजर रखी। इसका परिणाम भी देखने को मिला। पुल बनकर लगभग तैयार हो गया है। पुल के पूरे होने की लगभग उम्मीद खो चुके प्रतापनगर के लोगों को अब विश्वास हो गया है कि जल्द ही टिहरी आने जाने के लिए इस पुल का उपयोग कर सकेंगे।

440 मीटर लंबा डोबराचांठी पुल भारत का सबसे लम्बा मोटरेबल सिंगल लेन झूला पुल


440 मीटर लंबा डोबराचांठी पुल भारत का सबसे लम्बा मोटरेबल सिंगल लेन झूला पुल है। कई अन्य संस्थाओं के असफल हो जाने के बाद कोरियन कंपनी से इसकी डिजायनिंग कराई गई। पुल  की लागत लगभग 150 करोङ रूपए है। मुख्य सेतु के स्पान 440 मीटर में से 250 मीटर की लम्बाई में डैक लगाने का काम पूरा किया जा चुका है। अवशेष लम्बाई में कार्य चल रहा है। मार्च 2020 तक पुल आवाजाही के लिये प्रारंभ कर दिया जाएगा। साल 2006 से भागीरथी नदी पर बांध प्रभावित क्षेत्र प्रतापनगर और थौलधार को जोड़ने के लिए पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। टिहरी झील के ऊपर बनाया जा रहा डोबरा चांठी पुल का निर्माण कार्य पूरा होने से 3 लाख से ज्यादा की आबादी को जिला मुख्यालय तक आने के लिए 100 किलोमीटर की दूरी तय नहीं करनी पड़ेगी। टिहरी आने वाले पर्यटक प्रतापनगर भी आ सकेंगे। आवागमन की सुविधा होने से क्षेत्र की आर्थिकी में भी इजाफा होगा।

मार्च 2020 तक पुल बन कर होगा तैयार


प्रतापनगर आने-जाने के लिए बने पुल टिहरी झील में डूब गए थे। इस वजह से प्रतापनगर के लोगों को नई टिहरी, देहरादून, ऋषिकेश आने-जाने की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। मार्च 2020 तक पुल के बन जाने से प्रतापनगर के लोगों की आवागमन संबंधी कठिनाइयां समाप्त हो जाएंगी। डोबरा चांठी पुल का कार्य देख रहे लोक निर्माण विभाग के अधीक्षणश अभियंता शिव कुमार राय का कहना है कि पुल के दोनोंओर 440-440 मीटर लंबी रेलिंग लगाई जानी है। फिर रेलिंग के ऊपर कोटिंग का काम होना है। इस कार्य के लिए तापमान कुछ गर्म चाहिए होता है। साथ ही पुल में आवाजाही के लिए रोड सेफ्टी विभाग की एनओसी जरूरी है। इसलिए पुल पर आवागमन मार्च, 2020 में ही शुरू हो पाएगा। “डोबराचांठी पुल प्रतापनगर और थौलधार के लिए लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। पुल के निर्माण के लिए एकमुश्त राशि जारी की गई। इंजीनियरों को समय पर कार्य करने के निर्देश दिए गए। यह जल्द ही आवागमन के लिए खुल जाएगा

Leave A Comment