Breaking News:

उत्तराखंड : महसूस हुए भूकंप के झटके -

Tuesday, November 19, 2019

उत्तराखण्ड : समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल निलंबित -

Tuesday, November 19, 2019

मैट्रो से नही दून-ऋषिकेश व हरिद्वार को मिनी मैट्रो से जोड़ा जायेगा -

Tuesday, November 19, 2019

भोजपुरी फिल्म प्रोड्यूसर एवं फिल्म निर्देशक सीएम से की भेंट -

Tuesday, November 19, 2019

केदारनाथ परिसर में बनेगा भगवान शिव की पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाओं का नया संग्रहालय, जानिए खबर -

Tuesday, November 19, 2019

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

गांधी पार्क में ओपन जिम का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Monday, November 18, 2019

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

शीघ्र ही नई शिक्षा नीति : निशंक -

Sunday, November 17, 2019

उत्तराखंड : युवा इनोवेटर्स ने विकसित किए ऊर्जा दक्ष वाहन -

Sunday, November 17, 2019

यमकेश्वर : कार्यरत स्टार्ट अप को मुख्यमंत्री ने दिए 10 लाख रूपए -

Sunday, November 17, 2019

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

दिव्यांग डिम्पी ने जीवन की दुश्वारियों को मजबूत इरादों से किया परास्त

dimpi

रुद्रप्रयाग | कौन कहता है कि आसमान में छेद नहीं हो सकता। एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो। कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है अगस्त्यमुनि क्षेत्र की बालिकाओं ने। जिन्होंने विकट परिस्थितियों को मात देकर सफलता के झण्डे गाड़े हैं। उनकी इस सफलता पर उनके मां बाप तो गौरवान्वित महसूस कर ही रहे हैं, बल्कि पूरा क्षेत्र ही उनकी सफलता पर बधाई देते हुए गौरवान्वित हो रहा है। इसमें पहला नाम है डिम्पी बैंजवाल का, जिसने जीवन की दुश्वारियों को अपने मजबूत इरादों से परास्त किया है। उसने दिव्यांग होते हुए हाई स्कूल की बोर्ड परीक्षा 62 प्रतिशत अंक पाकर प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की है। परीक्षा में 62 प्रतिशत अंक लाना कोई बड़ी उपलब्धि नहीं है, लेकिन विपरीत परिस्थितियों में खुद को स्थापित करने का जज्बा हर किसी में नहीं होता। दरअसल, बैंजी ग्राम के शिक्षक अरविन्द बैंजवाल की पुत्री डिम्पी पोलियोग्रस्त है और उसके दोनों पैर कार्य नहीं करते हैं। ऐसे में उसने किसी तरह वर्ष 2006 में आठवीं तक शिक्षा ले ली थी। उसके बाद उसकी पढ़ाई छूट गई। आठ साल बाद माता पिता की प्रेरणा से उसने अगस्त्यमुनि राबाइंका में प्रवेश लिया और अपनी पढ़ाई पुनः प्रारम्भ कर ली। उसकी लगन को देखते हुए उसके गांव के ही भूपेन्द्र बैंजवाल ने उसे स्कूल तक लाने तथा स्कूल से घर ले जाने की जिम्मेदारी ली। विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती विजया बड़थ्वाल ने बताया कि डिम्पी न केवल पढ़ाई में ही अच्छी है बल्कि विद्यालय में होने वाली अन्य गतिविधियों जैसे निबन्ध लेखन, भाषण प्रतियोगिता आदि में भी बढ़-चढ़कर प्रतिभाग करती रहती है। इस कड़ी में दूसरा नाम है स्यूर बांगर की रहने वाली मोनिका जिसने आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि की होने के उपरान्त भी हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा में मेरिटसूची में 15 वीं रैंक हासिल की। विद्या मन्दिर अगस्त्यमुनि में पढ़ने वाली मोनिका की मां पठालीधार स्कूल में चतुर्थ श्रेणी में कार्यरत हैं। तथा बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले इसलिए अगस्त्यमुनि में निवास करती हैं। मोनिका ने भी मां के संघर्ष की लाज रखते हुए उनके सपनों को ऊंची उड़ान दी है। इसी कड़ी में तीसरा नाम कृतिका रावत का है जिसने नोएडा के रामाज्ञा स्कूल में केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12 वीं की परीक्षा में 94.4 प्रतिशत अंक लाकर विद्यालय में टाॅप किया है। कृतिका के माता पिता उत्तराखण्ड विद्यालयी शिक्षा में प्रवक्ता पद पर कार्यरत हैं। पिता हर्षवर्धन रावत राजकीय शिक्षक संघ जनपद रुद्रप्रयाग के अध्यक्ष भी है। कृतिका ने केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से पढ़ाई करने का निश्चय किया और नौंवी कक्षा से ही अपने मामा के साथ नोएडा में पढ़ाई कर रही है। घर एवं मां बाप से दूर रहकर विद्यालय में टाॅप करना अपने आप में एक मिशाल है।

Leave A Comment