Breaking News:

बुजुर्गो से ठगी करने वाला गिरफ्तार , जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

फीस वृद्धि के खिलाफ आयुष छात्रों का आंदोलन जारी -

Tuesday, November 12, 2019

धूमधाम से मनाया गया 550वां प्रकाशोत्सव -

Tuesday, November 12, 2019

पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके, जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

बचपन की कुछ बातें और उनसे जुडी कुछ यादें….. -

Tuesday, November 12, 2019

प्रकाशपर्व: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने मत्था टेक प्रदेश की खुशहाली की कामना की -

Tuesday, November 12, 2019

उत्तराखण्ड: सीएम को फोन पर धमकी देने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Monday, November 11, 2019

छात्रो ने फैशन शो में पेश किया नया क्लेक्शन -

Monday, November 11, 2019

पौड़ी के विकास में सीता माता सर्किट होगा मील का पत्थर साबित : सीएम -

Monday, November 11, 2019

सिन्मिट कम्युनिकेशन्स द्वारा मिस टैलेंटेड का आयोजन -

Monday, November 11, 2019

सीएम त्रिवेंद्र 550वें प्रकाश उत्सव एवं कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं -

Monday, November 11, 2019

शहर के इस हालात पर अवैध टैक्सी स्टैंड जिम्मेदार, जानिए खबर -

Sunday, November 10, 2019

एक दिसम्बर को केंद्रीय कूर्मांचल परिषद का द्विवार्षिक चुनाव -

Sunday, November 10, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने फिल्म “शुभ निकाह” का मुहूर्त शॉट लिया -

Sunday, November 10, 2019

पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत घायल, ऋषिकेश एम्स में भर्ती -

Sunday, November 10, 2019

डीएम सविन बंसल की एक पहलः स्कूूली बच्चों को सिखा रहे चित्रकारी -

Sunday, November 10, 2019

रास्ते में पड़े सिंगल यूज प्लास्टिक को भी उठाएं: सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, November 10, 2019

IPL-2020 : तीन नए शहर होगे सकते है शामिल , जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

उत्तराखंड सैन्यधाम और विद्याधाम भी : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह -

Saturday, November 9, 2019

आयुष्मान की सबसे बड़ी ओपनर बनी ‘बाला’, जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान का हर युवा साधक है डिग्रीधारी, अच्छा करियर छोड़ बने है सन्यासी

सिंहस्थ 2016 के महाकुंभ में हजारो कैम्पों में एक ऐसा भी कैम्प है जो सबसे अलग है। इस कैम्प की खासियत यहां का वैभव नहीं, साधक हैं। इस कैम्प से जुड़ा हर साधक कोई आम आदमी नहीं है, अच्छी-खासी डिग्री और करियर को छोड़ संन्यास की राह पर चलने वाले युवा है। कोई एमबीए, कोई डॉक्टर, कोई एम.टेक. तो कोई इंजीनियर। यहां आप जिससे मिलेंगे, उसके पास ऐसी ही कई भारी-भरकम डिग्री होगी। ये कैम्प है दिव्य ज्योति जागृति संस्थान का। समाधिस्थ आशुतोष महाराज द्वारा 1983 में स्थापित इस संस्थान से इस समय लाखों युवा जुड़े हैं जो अपना परिवार, करियर सब कुछ छोड़कर समाज सेवा में लगे हैं। दिव्य ज्योति जागृति संस्थान, कन्या भ्रूण हत्या, पशु संरक्षण विकलांग पुनर्वास, चिकित्सा, ध्यान, योग जैसे क्षेत्रों में काम कर रहा है। इस संस्थान की सबसे बड़ी खूबी यहां के साधक और साध्वियां हैं। ये सभी युवावस्था में ही परिवार और करियर को छोड़कर आशुतोष महाराज के मिशन से जुड़े और संन्यासी जीवन जीते हुए युवाओं को सनातन धर्म, समाज सेवा आदि से जोड़ रहे हैं।

इन्ही में कुछ साध्वी का परिचय आप के समक्ष प्रस्तुत है-

omprabha-bharti

साध्वी ओमप्रभा भारती

कनाडा से आईँ साध्वी ओमप्रभा भारती 1995 से इस संस्थान से जुड़ी हैं और 2005 में उन्होंने संस्थान में पूर्णकालीन साध्वी बनीं। कनाडा में साइकोलॉजी में मास्टर डिग्री कर चुकी साध्वी कहना है की समाज को बेहतर बनाना ही हमाराउद्देश्य है ।

ruchika-bharti

साध्वी रुचिका भारती

साध्वी रुचिका भारती एम.बी.ए. पासआउट दिल्ली की हैं। उनका कहा है की आशुतोष महाराज की आध्यात्म के प्रति उनकी दृष्टि ने उन्हें काफी प्रभावित किया। वे 1996 से संस्थान से जुड़ी हैं। उनका कहना है कि जो शांति और परमात्मा हम बाहर खोज रहे हैं वो हमारे भीतर ही है |

manibala-bharti

साध्वी मणिबाला भारती

दिल्ली की मणिबाला भारती एम.एससी (मैथेमेटिक्स) हैं। संस्थान से 2008 से जुड़ी हैं और तब से लगातार युवाओं में अध्यात्म का प्रचार कर रही हैं। उनका कहना है कि हमारी जितनी परंपराएं हैं उनको लेकर कई सवाल मन में थे, जब इस संस्थान से जुड़ी तो उन परंपराओं के पीछे के लॉजिक समझ में आए।

deepa-bharti

साध्वी दीपा भारती

2012 से इस जुड़ी मूलतः दिल्ली की रहने वाली साध्वी दीपा भारती बी.टेक. हैं, ह्यूमन राइट्स में डिप्लोमा और सोशल वर्क में भी पढ़ाई की है। उनका कहना है कि आशुतोष महाराज से मिलने के बाद उन्हें ये समझ में आया कि ईश्वर देखने का विषय है, अगर हम अपने भीतर ध्यान-योग के सहारे से ऐसी शक्ति जगाएं तो परमात्मा को अपने भीतर ही देख सकते हैं।

aashtha-bharati

 

साध्वी आस्था भारती
संस्थान से 10 साल जुड़ी साध्वी आस्था भारती संस्थान की कथा व्यास हैं और श्रीमद्भागवत कथा करती हैं। अपनी कथाओं के जरिए वे नशा मुक्ति, देशभक्ति, समाज सेवा आदि पर युवाओं को संदेश दे रही हैं ।

Leave A Comment