Breaking News:

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान का हर युवा साधक है डिग्रीधारी, अच्छा करियर छोड़ बने है सन्यासी

सिंहस्थ 2016 के महाकुंभ में हजारो कैम्पों में एक ऐसा भी कैम्प है जो सबसे अलग है। इस कैम्प की खासियत यहां का वैभव नहीं, साधक हैं। इस कैम्प से जुड़ा हर साधक कोई आम आदमी नहीं है, अच्छी-खासी डिग्री और करियर को छोड़ संन्यास की राह पर चलने वाले युवा है। कोई एमबीए, कोई डॉक्टर, कोई एम.टेक. तो कोई इंजीनियर। यहां आप जिससे मिलेंगे, उसके पास ऐसी ही कई भारी-भरकम डिग्री होगी। ये कैम्प है दिव्य ज्योति जागृति संस्थान का। समाधिस्थ आशुतोष महाराज द्वारा 1983 में स्थापित इस संस्थान से इस समय लाखों युवा जुड़े हैं जो अपना परिवार, करियर सब कुछ छोड़कर समाज सेवा में लगे हैं। दिव्य ज्योति जागृति संस्थान, कन्या भ्रूण हत्या, पशु संरक्षण विकलांग पुनर्वास, चिकित्सा, ध्यान, योग जैसे क्षेत्रों में काम कर रहा है। इस संस्थान की सबसे बड़ी खूबी यहां के साधक और साध्वियां हैं। ये सभी युवावस्था में ही परिवार और करियर को छोड़कर आशुतोष महाराज के मिशन से जुड़े और संन्यासी जीवन जीते हुए युवाओं को सनातन धर्म, समाज सेवा आदि से जोड़ रहे हैं।

इन्ही में कुछ साध्वी का परिचय आप के समक्ष प्रस्तुत है-

omprabha-bharti

साध्वी ओमप्रभा भारती

कनाडा से आईँ साध्वी ओमप्रभा भारती 1995 से इस संस्थान से जुड़ी हैं और 2005 में उन्होंने संस्थान में पूर्णकालीन साध्वी बनीं। कनाडा में साइकोलॉजी में मास्टर डिग्री कर चुकी साध्वी कहना है की समाज को बेहतर बनाना ही हमाराउद्देश्य है ।

ruchika-bharti

साध्वी रुचिका भारती

साध्वी रुचिका भारती एम.बी.ए. पासआउट दिल्ली की हैं। उनका कहा है की आशुतोष महाराज की आध्यात्म के प्रति उनकी दृष्टि ने उन्हें काफी प्रभावित किया। वे 1996 से संस्थान से जुड़ी हैं। उनका कहना है कि जो शांति और परमात्मा हम बाहर खोज रहे हैं वो हमारे भीतर ही है |

manibala-bharti

साध्वी मणिबाला भारती

दिल्ली की मणिबाला भारती एम.एससी (मैथेमेटिक्स) हैं। संस्थान से 2008 से जुड़ी हैं और तब से लगातार युवाओं में अध्यात्म का प्रचार कर रही हैं। उनका कहना है कि हमारी जितनी परंपराएं हैं उनको लेकर कई सवाल मन में थे, जब इस संस्थान से जुड़ी तो उन परंपराओं के पीछे के लॉजिक समझ में आए।

deepa-bharti

साध्वी दीपा भारती

2012 से इस जुड़ी मूलतः दिल्ली की रहने वाली साध्वी दीपा भारती बी.टेक. हैं, ह्यूमन राइट्स में डिप्लोमा और सोशल वर्क में भी पढ़ाई की है। उनका कहना है कि आशुतोष महाराज से मिलने के बाद उन्हें ये समझ में आया कि ईश्वर देखने का विषय है, अगर हम अपने भीतर ध्यान-योग के सहारे से ऐसी शक्ति जगाएं तो परमात्मा को अपने भीतर ही देख सकते हैं।

aashtha-bharati

 

साध्वी आस्था भारती
संस्थान से 10 साल जुड़ी साध्वी आस्था भारती संस्थान की कथा व्यास हैं और श्रीमद्भागवत कथा करती हैं। अपनी कथाओं के जरिए वे नशा मुक्ति, देशभक्ति, समाज सेवा आदि पर युवाओं को संदेश दे रही हैं ।

Leave A Comment