Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

दून को देना चाहिए पर्यावरण संरक्षण पर जो़र : मैड

MAD

देहरादून के स्मार्ट सिटी परियोजना की दूसरी सूची में भी नाम न आने से मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण (एम.डी.डी.ए.) को आत्मचिंतन करने की जरूरत है। अंधाधुंध निर्माण एवं कांक्रीट के जंगल खड़े करने के बजाय देहरादून की अपनी अनोखी पहचान को दुरुस्त करने से इस परियोजना में ही नहीं, दून का वास्तविक भला हो सकता है। यह कहना है देहरादून के शिक्षित छात्रों के संगठन मेकिंग ए डिफ्रेंस बाए बीइंग द डीफ्रेंस (मैड) का। गौरतलब है कि मैड लंबे समय से एम.डी.डी.ए. से राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (नीरी) द्वारा बनाई गई दून घाटी की रिपोर्ट को स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल करने के लिए आग्रह करता आ रहा था। जब एम.डी.डी.ए. के चाय बागान पर स्मार्ट सिटी बनाने की परियोजना को जन समर्थन नहीं मिला तब एम.डी.डी.ए. ने वह परियोजना तो छोड़ दी परंतु अपने नए आवेदन में भी पर्यावरण संरक्षण और बिंदाल-रिस्पना नदियों के पुनर्जीवन जैसे अनेक अनोखे बिंदुओं पर एम.डी.डी.ए. ने जोर नहीं दिया जिससे और शहरों के मुकाबले दून फिर पिछड़ गया। अपने पिचासी पन्नों के आवेदन में एम.डी.डी.ए. ने ‘जोन ४’ के रेट्रोफिटिंग की बात करी लेकिन तब भी जन आक्रोश के कारण चाय बागान का जो प्लैन छोड़ना पड़ा था, उसका भी जिक्र कर डाला। रेट्रोफिटिंग की परियोजना पर जोर देने के बजाय कुछ जगह तो काल्पनिक बातें की गईं और विज़न ढंग से सामने नहीं आ पाया।मैड के संस्थापक अध्यक्ष अभिजय नेगी ने कहा “इसलिए मैड ने एम.डी.डी.ए. से यह मांग की है कि वह पर्यावरण संरक्षण, बिंदाल-रिस्पना के पुनर्जीवन जैसे बिंदुओं पर जोर दे जिससे सतत विकास किया जा सके”। अपनी ओर से मैड एम.डी.डी.ए. को हर संभव मदद व सलाह देने को तत्पर है।

Leave A Comment