Breaking News:

नए भारत निर्माण में स्वच्छता निभाएगी महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Monday, September 18, 2017

‘हिमालय लोक समृधि वृक्ष अभियान’ रूपी पहल को घर घर पहुंचाए जनता -

Monday, September 18, 2017

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ होगा बंद ! -

Monday, September 18, 2017

जरा हटके : 15 साल की उम्र में बनी माँ , अब है आठ बच्चों की माँ … -

Monday, September 18, 2017

समाज के विकास के लिए महिलाओं को पुरूषों के समान अधिकार मिलना जरूरी : सीएम -

Monday, September 18, 2017

‘‘स्वच्छता ही सेवा’’ के तहत सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने झाड़ू लगाकर किया श्रमदान -

Sunday, September 17, 2017

18 नवंबर को मसूरी में लोट-पोट करेंगी ‘गुत्थी’ -

Sunday, September 17, 2017

बांग्लादेश जाने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या हुई 389,000 -

Sunday, September 17, 2017

आखिर कहा नवजात बच्चों को मिलती है ग्रेजुएशन, जानिए खबर -

Sunday, September 17, 2017

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी जन्मदिन की बधाई -

Saturday, September 16, 2017

खेल ट्रांसपेरेंट कपड़ो की… -

Saturday, September 16, 2017

रेयान इंटरनेशनल स्कूल केस : हत्यारा कोई और है – वकील मोहित वर्मा -

Saturday, September 16, 2017

जब कुत्ते ने हत्यारों के घर लेकर पहुंचा पुलिस , जानिए खबर -

Saturday, September 16, 2017

देहरादून की सफाई व्यवस्था निरीक्षण हेतु हर वार्ड में नामित होंगे नोडल अधिकारी -

Saturday, September 16, 2017

उत्तराखंड : सचिवालय परिसर में पीक थूकना पडेगा महंगा -

Saturday, September 16, 2017

गरीबी नहीं रोक सकी अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहलवान बनाना, जानिए खबर .. -

Friday, September 15, 2017

मानसिक रोगों से अंजान भारतीय, जानिये खबर … -

Friday, September 15, 2017

KBC : चूक गए करोड़पति बनते वीरेश चौधरी -

Friday, September 15, 2017

अब आधार से ड्राइविंग लाइसेंस को करना होगा लिंक -

Friday, September 15, 2017

सीएम ने किया ’स्वच्छता ही सेवा‘ कार्यक्रम का शुभारम्भ -

Friday, September 15, 2017

देश के लिए मेडल जितने वाली खिलाड़ी के हाथ में अब चाय की केतली

santosh

सोनीपत | खेल को बढ़ावा देने पर हरियाणा सरकार भले ही हमेशा से जोर देती आ रही है लेकिन राज्य में कई ऐसे खिलाड़ी भी हैं, जिन्हें इसका लाभ नहीं अभी तक नही मिल रहा है। जिस खिलाड़ी के हाथ में देश के लिए मेडल दिखता आज उसके हाथ में चाय की केतली है और वो चाय बेचकर गुजारा कर रही है। ओलिम्पिक में मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों पर सरकार पैसों और इनामों की बारिश कर रही है, लेकिन हरियाणा के सोनीपत में एक ऐसी प्लेयर है, जो नेशनल और स्टेट लेवल पर 7 गोल्ड मेडल जीतने के बाद भी चाय बेचने को मजबूर है। प्रैक्टिस के दौरान 23 साल की वुमन वेट लिफ्टिर संतोष के घुटने में चोट लग गई थी और अब उनके पास इलाज के लिए पैसे तक नहीं है। मजबूरी में उनको गेम छोड़ना पड़ा। संतोष अब हरियाणा सरकार से मदद की गुहार लगा रही है ताकि अपना इलाज करवाने के बाद आराम से चल फिर सके।संतोष ने बताया कि गरीबी के कारण वह दंगल भी लड़ती है। उसी पैसे से अपना परिवार चलाती है यहां तक कि उसके पास पढ़ाई के पैसे भी नहीं हैं। विदित हो की संतोष के पिता राजेन्द्र कुमार चाय की दुकान चलाते हैं और किराए के मकान में रहते हैं। 7 लोगों के परिवार का गुजारा गरीबी के कारण बड़ी मश्किल से चलता है। राजेंद्र कुमार का कहना है कि वो चाहते हैं कि उनकी बेटी खेलों में एक अलग मुकाम हासिल करे लेकिन गरीबी के कारण उसे अब खेल छोड़ना पड़ा। मां का कहना है कि सरकार खिलाड़ियों के लिए इतना सब कुछ कर रही है, अब बस संतोष का इलाज करा दे।

Leave A Comment