Breaking News:

सोशल मीडिया पर कार्तिक आर्यन की मां की चर्चा , जानिए खबर -

Saturday, June 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1245 , जिनमे 422 मरीज हुए ठीक -

Saturday, June 6, 2020

नेक कार्य : सोनू सूद ने जहाज बुक कर उत्तराखंड के प्रवासियों को घर भेजा -

Saturday, June 6, 2020

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

नगर निगम के अब नही काटने पड़ेंगे माता-पिता को चक्कर , जानिए ख़बर

देहरादून । नगर निगम में शामिल नए इलाकों में बने कैलाश अस्पताल और मैक्स अस्पताल निगम के जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने के साफ्टवेयर से जुड़ गए हैं। ऐसे में इन अस्पतालों में जन्मे बच्चों का जन्म प्रमाण पत्र निगम से आसानी से बन पाएगा। माता-पिता को इसके लिए चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। मुख्य नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. कैलाश जोशी के अनुसार नगर निगम के बड़े अस्पतालों को भी जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र के साफ्टवेयर से जोड़ दिया गया है। जन्म प्रमाण पत्र बनाने के लिए अस्पताल से पैदाइश के मिले प्रमाण पत्र के साथ निगम से मिले एक फार्म को भरना होता है। बच्चे का जन्म घर पर हुआ है तो संबंधित व्यक्ति को बच्चे के जन्म के वर्ष का पानी या बिजली के बिल की कॉपी देनी होती है। क्षेत्रीय सफाई सुपरवाईजर की जांच रिपोर्ट लगती है और दो गवाह को लिखित में देना होता है। बच्चे को जन्मे एक साल से अधिक होने पर एसडीएम कोर्ट से वैरीफिकेशन होता है। मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए सबसे अधिक श्मशान घाट की रसीद होती है। अस्पताल में मृत्यु होने पर चिकित्सक की ओर से प्रमाणित कॉपी भी लगानी पड़ती है। अस्पताल की ओर से दी जानकारी से भी मिलान किया जाता है।

Leave A Comment