Breaking News:

अगर तैयारी पूरी थी तो परिणाम क्यों नहीं, जानिए खबर -

Wednesday, May 23, 2018

देश मे तापमान 40 डिग्री के पार, उत्तराखण्ड में अलर्ट -

Wednesday, May 23, 2018

स्वरोजगार से लगेगा पलायन पर अंकुश : मुख्यमंत्री -

Wednesday, May 23, 2018

दिल्ली सरकार ने 575 निजी स्कूलों को दिया बढ़ी फीस वापस करने का आदेश -

Wednesday, May 23, 2018

पीएम द्वारा चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के प्रगति की सराहना, जानिए ख़बर -

Wednesday, May 23, 2018

कुमारस्वामी बने कर्नाटक के सीएम, विपक्षी ने दिखाई एकता -

Wednesday, May 23, 2018

उत्तराखण्ड में होगी टी.वी. सीरियल स्पिलिट विला सीजन 11 की शूटिंग जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

कुमारस्वामी कल लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ -

Tuesday, May 22, 2018

हाईकोर्ट ने एकलपीठ के आदेश को किया रद्द, निकाय चुनाव कराने का रास्ता साफ -

Tuesday, May 22, 2018

फिल्म ‘सूरमा’ का नया पोस्टर रिलीज, फिल्म 13 जुलाई को होगी रिलीज -

Tuesday, May 22, 2018

एसबीआई का घाटा 7718 करोड़ पर पहुंचा जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने केदारनाथ धाम में 10 बैड के अस्पताल का किया उद्घाटन -

Monday, May 21, 2018

शराब दुकानों के आवंटन में करोड़ो का खेल : विकेश सिंह नेगी -

Monday, May 21, 2018

एक खतरनाक वायरस जो चमगादड़ से फैलता है जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

पुजारी ने सीएम नायडू पर लगाया 100 करोड़ के घोटाले का आरोप, जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

हरियाणा बोर्ड ने 10वीं का रिजल्‍ट जारी किया, 51% बच्‍चे पास -

Monday, May 21, 2018

आंध्र प्रदेश स्पेशल ट्रेन में ग्वालियर के पास 4 डिब्बों में लगी आग जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

भारत ने किया ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

उत्तराखंड पुलिस ने किया मांउण्ट एवरेस्ट फतह, मुख्यमंत्री ने दी बधाई -

Sunday, May 20, 2018

पीएम मोदी कल करेंगे राष्ट्रपति पुनित के साथ बैठक -

Sunday, May 20, 2018

नहीं चेते तो 10 साल में नहीं दिखेगी गोरैया

save-sparrows

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ रहा प्रदूषण, संचार साधनो का बेतहाशा उपयोग, भोजन और ठहरने की निरंतर होती जा रही कमी पक्षियों की जान ले रही है। इस समस्या से गोरैया सहित दुर्लभ पक्षी या तो लुप्त हो चुके हैं या फिर लुप्त होने के कगार पर हैं। दिल्ली वन विभाग के आंकड़ों में यह बात सामने आई है कि दिल्ली में दुर्लभ पक्षियों की 5 प्रजातियां लुप्त हो चुकी हैं। सात प्रजातियां लुप्त होने की स्थिति में पहुंच गई हैं। विशेषज्ञों की मानें तो यदि यही हाल रहा तो आने वाले 10 सालों में गोरैया व बची हुई अन्य प्रजातियां भी लुप्त हो चुकी होंगी। सरकार इस समस्या से दिल्ली सरकार अनभिज्ञ नहीं है, मगर सरकार का कहना है कि हालात ऐसे हो चुके हैं कि इस क्षेत्र में सरकार के स्तर पर ही सभी कुछ संभव नहीं दिख रहा है। दिल्ली के वन एवं पर्यावरण मंत्री कहते हैं कि पक्षियों की होती कमी चिंता का विषय है। मगर इनके संरक्षण के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। गोरैया और अन्य पक्षियों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए दिल्ली सरकार असोला भाटी वन्य जीव अभयारण्य में कार्यक्रम का आयोजन करती है। इस दौरान नेचर वकिं भी आयोजित की जाती है। राजधानी को प्रदूषण मुक्त बनाने एवं वहां की हरियाली को बढ़ाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। दिल्ली में 9 किलोमीटर वन क्षेत्र बढ़ाया गया है। वन क्षेत्रों में जलाशयों का विकास किया गया है। इस सब के पीछे का उद्देश्य पक्षियों को बचाना है। वहीं पक्षियों के संरक्षण के लिए काम कर रहे फैयाज कुदसर कहते हैं कि पक्षी कैसे बचेंगे आज सबसे बड़ी चुनौती उनके भोजन और आवास को लेकर है। गोरैया जैसे छोटे पक्षियों के लिए न ही रहने की ठौर बची है और न ही उनके लिए भोजन की व्यवस्था बची है। खेत खलिहान नहीं हैं। संचार के साधनो का हो रहा बेतहाशा उपयोग पक्षियों की जान ले रहा है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि यदि हालात ऐसे ही रहे तो 10 साल में गोरैया सहित अन्य कई पक्षियों का नामोनिशान ही मिट चुका होगा। वन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र से विलुप्त हो चुके पक्षी। देशी गिद्ध, लंबी चोंच वाला गिद्ध, राज गिद्ध, काला गिद्ध व सफेद गिद्ध। कुछ साल पहले तक दिल्लीएनसीआर क्षेत्र में काला गिद्ध देखा गया है, अब नहीं है।

Leave A Comment