Breaking News:

2019 के शैक्षणिक सत्र में आधा हो जाएगा NCERT का पाठ्यक्रम -

Sunday, February 25, 2018

आपदा पुनर्निर्माण कार्य में मानकों की उड़ाई जा रही धज्जियां -

Sunday, February 25, 2018

एनएच-74 मुआवजा घोटाले की 300 करोड़ की राशि कहां गई : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत -

Sunday, February 25, 2018

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर 2-1 से सीरीज पर किया कब्जा -

Sunday, February 25, 2018

श्रीदेवी का 54 की उम्र में आकस्मिक निधन -

Sunday, February 25, 2018

जीएसटी ‘ई-वे बिल’ एक अप्रैल से लागू किया जा सकता है -

Saturday, February 24, 2018

सुपर डांसर के टॉप-5 में पहुंचे, देहरादून के आकाश थापा -

Saturday, February 24, 2018

भारत में गरीब और गरीब हो रहे हैं… -

Saturday, February 24, 2018

‘इन्वेस्टर मीट’ की सजावट में खर्च हो गए करोड़ रुपये -

Saturday, February 24, 2018

हेमकुंड साहिब के कपाट 25 मई को खुलेंगे -

Saturday, February 24, 2018

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

नहीं चेते तो 10 साल में नहीं दिखेगी गोरैया

save-sparrows

नई दिल्ली। दिल्ली में बढ़ रहा प्रदूषण, संचार साधनो का बेतहाशा उपयोग, भोजन और ठहरने की निरंतर होती जा रही कमी पक्षियों की जान ले रही है। इस समस्या से गोरैया सहित दुर्लभ पक्षी या तो लुप्त हो चुके हैं या फिर लुप्त होने के कगार पर हैं। दिल्ली वन विभाग के आंकड़ों में यह बात सामने आई है कि दिल्ली में दुर्लभ पक्षियों की 5 प्रजातियां लुप्त हो चुकी हैं। सात प्रजातियां लुप्त होने की स्थिति में पहुंच गई हैं। विशेषज्ञों की मानें तो यदि यही हाल रहा तो आने वाले 10 सालों में गोरैया व बची हुई अन्य प्रजातियां भी लुप्त हो चुकी होंगी। सरकार इस समस्या से दिल्ली सरकार अनभिज्ञ नहीं है, मगर सरकार का कहना है कि हालात ऐसे हो चुके हैं कि इस क्षेत्र में सरकार के स्तर पर ही सभी कुछ संभव नहीं दिख रहा है। दिल्ली के वन एवं पर्यावरण मंत्री कहते हैं कि पक्षियों की होती कमी चिंता का विषय है। मगर इनके संरक्षण के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। गोरैया और अन्य पक्षियों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए दिल्ली सरकार असोला भाटी वन्य जीव अभयारण्य में कार्यक्रम का आयोजन करती है। इस दौरान नेचर वकिं भी आयोजित की जाती है। राजधानी को प्रदूषण मुक्त बनाने एवं वहां की हरियाली को बढ़ाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। दिल्ली में 9 किलोमीटर वन क्षेत्र बढ़ाया गया है। वन क्षेत्रों में जलाशयों का विकास किया गया है। इस सब के पीछे का उद्देश्य पक्षियों को बचाना है। वहीं पक्षियों के संरक्षण के लिए काम कर रहे फैयाज कुदसर कहते हैं कि पक्षी कैसे बचेंगे आज सबसे बड़ी चुनौती उनके भोजन और आवास को लेकर है। गोरैया जैसे छोटे पक्षियों के लिए न ही रहने की ठौर बची है और न ही उनके लिए भोजन की व्यवस्था बची है। खेत खलिहान नहीं हैं। संचार के साधनो का हो रहा बेतहाशा उपयोग पक्षियों की जान ले रहा है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि यदि हालात ऐसे ही रहे तो 10 साल में गोरैया सहित अन्य कई पक्षियों का नामोनिशान ही मिट चुका होगा। वन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र से विलुप्त हो चुके पक्षी। देशी गिद्ध, लंबी चोंच वाला गिद्ध, राज गिद्ध, काला गिद्ध व सफेद गिद्ध। कुछ साल पहले तक दिल्लीएनसीआर क्षेत्र में काला गिद्ध देखा गया है, अब नहीं है।

Leave A Comment