Breaking News:

प्रकाशपर्व: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने मत्था टेक प्रदेश की खुशहाली की कामना की -

Tuesday, November 12, 2019

उत्तराखण्ड: सीएम को फोन पर धमकी देने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Monday, November 11, 2019

छात्रो ने फैशन शो में पेश किया नया क्लेक्शन -

Monday, November 11, 2019

पौड़ी के विकास में सीता माता सर्किट होगा मील का पत्थर साबित : सीएम -

Monday, November 11, 2019

सिन्मिट कम्युनिकेशन्स द्वारा मिस टैलेंटेड का आयोजन -

Monday, November 11, 2019

सीएम त्रिवेंद्र 550वें प्रकाश उत्सव एवं कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं -

Monday, November 11, 2019

शहर के इस हालात पर अवैध टैक्सी स्टैंड जिम्मेदार, जानिए खबर -

Sunday, November 10, 2019

एक दिसम्बर को केंद्रीय कूर्मांचल परिषद का द्विवार्षिक चुनाव -

Sunday, November 10, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने फिल्म “शुभ निकाह” का मुहूर्त शॉट लिया -

Sunday, November 10, 2019

पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत घायल, ऋषिकेश एम्स में भर्ती -

Sunday, November 10, 2019

डीएम सविन बंसल की एक पहलः स्कूूली बच्चों को सिखा रहे चित्रकारी -

Sunday, November 10, 2019

रास्ते में पड़े सिंगल यूज प्लास्टिक को भी उठाएं: सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, November 10, 2019

IPL-2020 : तीन नए शहर होगे सकते है शामिल , जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

उत्तराखंड सैन्यधाम और विद्याधाम भी : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह -

Saturday, November 9, 2019

आयुष्मान की सबसे बड़ी ओपनर बनी ‘बाला’, जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने हिन्दी, गढ़वाली एवं कुमांऊनी फिल्मकारों को अनुदान राशि के चेक किये वितरित -

Saturday, November 9, 2019

अयोध्या में मंदिर भी और मस्जिद भी, जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

मिसेज दून दिवा सीजन-4 का फिनाले 16 को , जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

उत्तराखंड देश विदेशो में बनाई अपनी खास पहचान : सीएम -

Friday, November 8, 2019

सहायक अभियोजन अधिकारी पद के लिए करे 20 तक आवेदन -

Friday, November 8, 2019

निजी स्कूलों पर हिंसा के द्वारा मनमानी रोकना उचित नहीं

school_chale_ham

निजी स्कूलों की मनमानी पर आंदोलन और धरना सरकार के दबाव के लिए एक रास्ता दिखता है पर जिस तरह से निजी स्कूलों पर छात्र संगठन अपनी मनमानी कर रहे है वह कितना उचित है | निजी स्कूलों द्वारा फ़ीस कम करने के लिए स्कूलों पर हिंसक व्यवहार करना क्या उचित है, जिस तरह से स्कूल कालेज मनमानी फ़ीस उसूल रहे है उसको सही ठहराया नहीं जा सकता है परन्तु जब कोई संगठन हिंसक आचरण करता है तो उसको भी सही नहीं ठहराया जा सकता है |स्कूलों की फ़ीस रूपी मनमानी को रोकना अति आवश्यक है पर स्कूलों में तोड़ फोड़ कर के हम बच्चो को क्या संदेश दे रहे है |ऐसा करना बच्चो के मन में हिंसक प्रवित्य लाना है न की दवाव का रास्ता |सरकार ऐसे संगठनो पर कड़ी निगरानी कर उचित कारवाई करे परन्तु सरकार भी जनता का पर हो रहा शोषण का भी ध्यान रखे जिससे निजी स्कूलों की मनमानी पर लगाम लगया जा सके |

अरुण कुमार यादव (संपादक )

Leave A Comment