Breaking News:

उत्तराखंड को 18 साल बाद बीसीसीआइ से मिली मान्यता जानिए ख़बर -

Tuesday, June 19, 2018

सीएम से पांच देशों की सागर परिक्रमा पूर्ण करने वाली लेफ्टिनेंट कमाण्डर वर्तिका एवम उनकी टीम ने की भेंटवार्ता -

Tuesday, June 19, 2018

देवभूमि से एक और लाल हुआ शहीद, जानिए ख़बर -

Tuesday, June 19, 2018

महिला अधिकारी योग के प्रति की जन जागरुकता -

Tuesday, June 19, 2018

पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती की संभावना को अरुण जेटली ने किया खारिज -

Tuesday, June 19, 2018

मुख्यमंत्री ने शहीद जवान विकास गुरूंग को श्रद्धांजलि दी -

Monday, June 18, 2018

सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती -

Monday, June 18, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र से केन्द्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री रामकृपाल यादव ने की शिष्टाचार भेंट -

Monday, June 18, 2018

आयरनमैन बनाम अल्ट्रामैन जानिए ख़बर -

Monday, June 18, 2018

आॅडिशन में प्रतिभागियों ने बिखेरे जलवे, जानिए ख़बर -

Monday, June 18, 2018

मैड संस्था ने चलाया सफाई अभियान, जानिए ख़बर -

Monday, June 18, 2018

मैक्सिको ने गत चैंपियन जर्मनी को 1-0 से हराया जानिए ख़बर -

Monday, June 18, 2018

इस देश में फेसबुक, वॉट्सएेप, ट्विटर चलाने पर देना होगा टैक्स जानिए ख़बर -

Monday, June 18, 2018

उत्तराखण्ड न्यू-इंडिया में महत्वपूर्ण भागीदारी के लिए संकल्पबद्ध : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र -

Sunday, June 17, 2018

छोटे-छोटे प्रयास लाता है बड़ा परिणाम : हरक सिंह रावत -

Sunday, June 17, 2018

केजरीवाल के समर्थन में आए ममता बनर्जी सहित चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों जानिए ख़बर -

Sunday, June 17, 2018

एक मिस कॉल, और डांस की सबसे ऊंची सीढ़ी, जानिए ख़बर -

Sunday, June 17, 2018

अक्षय कुमार की फिल्म गोल्ड’ का नया टीजर रिलीज -

Sunday, June 17, 2018

प्रदूषण रोकने के लिए क्या किया? : दिल्ली हाईकोर्ट -

Sunday, June 17, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र व मंत्रियों ने किया वाॅक फाॅर योग, जानिए ख़बर -

Saturday, June 16, 2018

नेता चले अब जनता की ओर….

dun

देहरादून। राज्य बनने के बाद से ही नेताओं ने अपना ध्यान कुर्सी हासिल करने पर ही केंद्रित किए रखा, जिसके चलते राज्य विकास की की दौड़ में पिछड़ गया। विकास योजनाएं दम तोड़ती दिखाईं थी। भाजपा हो या कांगे्रस नेताओं की महत्वाकांक्षा के चलते प्रदेश का अहित देखने को मिला। मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल करने के लिए जिस तरह की खींचतान देखने को मिली उसका उदाहरण शायद ही कहीं और देखने को मिला हो। परंतु अब राष्ट्रपति शासन लगने के बाद नेताओं को अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़नी पड़ रही है। जिस जनता को उन्होंने मझधार में छोड़ दिया था अब वही उन्हें खेवनहार दिखाई देने लगी है। विधानसभा में 18 मार्च को विनियोग विधेयक के दौरान जिस प्रकार का अभूतपूर्व हंगामा हुआ। उसके बाद राज्य के राजनीतिक हालत पूरी तरह बदल गए। तत्कालीन मुख्यमंत्री से लेकर विपक्षी भाजपा एक दूसरे को झूठा और गलत ठहराते रहे। एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोपों की परिणित स्वरूप राज्य में राष्ट्रपति शासन लग गया। अब इन्हीं नेताओं को जो कल तक एक दूसरे के खिलाफ तलवारें निकाले बैठे थे अपने अस्तित्व की चिंता सताने लगी। सरकार में रहते हुए कुछ न करने के कारण जनता का भी इन्हें समर्थन हासिल नहीं हो पा रहा है। जिस जनता को इन्होंने झूठे वायदों और आश्वासनों के मकड़जाल में उलझाए रखा था। अब वह उसी जनता के दरबार में अपनी हाजिरी लगा रहे हैं और उसे उम्मीद भरी नजरों से देख रहे हैं। कांगे्रस में हुई टूट के बाद पार्टी के लिए हालात संभालना मुश्किल होता जा रहा है। कांगे्रस को अभी भी अपने और विधायकों के बागी होने का डर सता रहा है। जिसके चलते उसने अपने विधायकों को हिमाचल प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर भेज दिया है। इसे लेकर भी जनता के बीच कांगे्रस को लेकर गलत संदेश जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री सड़क पर उतरकर जनता को भाजपा की कारगुजारियों से अवगत कराने का दावा कर रहे हैं। जबकि भाजपा भी कुछ इसी तरह की रणनीति पर चल रही है। उसका मानना है कि राज्य की जनता के समक्ष हरीश रावत सरकार के कारनामांे की पोल खुल चुकी है। बहरहाल जो नेता कल तक सचिवालय और विधानसभा के फेरे लगाते थे वह आज जनता के बीच खड़े हैं और अपने पाक-साफ होने का दावा करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहें हैं।

Leave A Comment