Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक

आम आदमी पार्टी पर संकट का बादल छंटने का नाम नहीं ले रहा है। मुख्य सचिव से मारपीट के आरोप में दिल्ली की एक अदालत ने आम आदमी पार्टी के दो विधायकों को गुरुवार तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। हालांकि, इससे पहले दिल्ली की अदालत ने मुख्य सचिव से मारपीट के आरोप में पुलिस की तरफ से विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जरवाल की दो दिनों की पुलिस रिमांड की मांग को खारिज कर दिया। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट शेफाली बरनाला टंडन ने दिल्ली पुलिस की याचिका को खारिज करते हुए दोनों विधायकों की जमानत याचिका को सुनवाई के लिए आगे रखा है।  हालांकि, पुलिस हिरासत में दोनों को देने से क्यों इनकार किया गया इस बारे में अभी जानकारी नहीं मिल पायी है। दोनों ही विधायकों को कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट में पेश किया गया जहां पर पहले से ही भारी तादाद में आप के कार्यकर्ता मौजूद थे। दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर आम आदमी पार्टी के विधायकों ने उनके साथ धक्का मुक्की और मारपीट की थी। अंशु प्रकाश के इस दावे को अब उनकी मेडिकल रिपोर्ट ने और पुख्ता कर दिया है। इस रिपोर्ट में उनके चेहरे पर घाव होने की बात सामने आई है। पुलिस के मुताबिक मुख्य सचिव अंशु प्रकाश की मेडिकल रिपोर्ट में उनके चेहरे पर कट का निशान और कंधे पर चोट के निशान पाए गए हैं। इसके साथ ही पुलिस के मुताबिक उनके चेहरे और आसपास की जगहों पर सूजन होने की भा पुष्टि हुी है। बता दें कि इस मामले में आरोपी और आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान ने जामिया नगर थाने में सरेंडर किया है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उन्होंने अमानतुल्ला खान को गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस AAP विधायक अमानतुल्ला खान की मंगलवार से ही तलाश कर रही थी। पुलिस ने जिन विधायकों के खिलाफ शिकायत दर्ज की है, उसमें अमानतुल्ला का भी नाम शामिल है. मंगलवार को हुए इस मामले में दिल्ली पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की थी। इसके पहले सुबह दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वीके जैन को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था । वीके जैन ने ही मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को फोन कर बैठक में आने को कहा था। पुलिस सुबह 7 बजे महारानी बाग में उनके घर गई थी। पूछताछ के लिए उन्हे हिरासत में लिया था। हाई कोर्ट ने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ आप विधायकों द्वारा कतिथ तौर पर मारपीट के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ के समक्ष एक अधिवक्ता ने इस मामले में तत्काल न्यायिक हस्तक्षेप की मांग की थी। पीठ ने कहा कि दिल्ली पुलिस मामले की जांच कर रही है और कोर्ट जांच का परिणाम आने का इंतजार करेगी। पीठ ने कहा कि मीडिया में दोनों पक्षों की अलग-अलग कहानी आ रही है, इसलिए फिलहाल किसी तरह का अदालती हस्तक्षेप उचित नहीं होगा।

Leave A Comment