Breaking News:

श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली के आयोजन स्थलों पर पौधारोपण होगा : नैथानी -

Friday, May 29, 2020

हरेला पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगाः सीएम -

Friday, May 29, 2020

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन -

Friday, May 29, 2020

ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन -

Friday, May 29, 2020

ब्लैकमेल : न्यूज़ पोर्टल संचालक हुआ गिरफ्तार -

Friday, May 29, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 716, आज सबसे अधिक 216 मरीज मिले -

Friday, May 29, 2020

उत्तराखंड : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 602 , देहरादून में आज आये 54 नए मामले -

Friday, May 29, 2020

उत्तराखंड : दुकान खुलने का समय प्रातः 7 बजे से सांय 7 बजे तक हुआ -

Thursday, May 28, 2020

कोरोना कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या पहुँची 500 -

Thursday, May 28, 2020

टीवी अभिनेत्री का सड़क हादसे में हुई मौत -

Thursday, May 28, 2020

बिहार की बेटी ज्योति के मुरीद हुए विदेशी भी, जानिए खबर -

Thursday, May 28, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना’’ का शुभारंभ हुआ -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 493 -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री राहत कोष में आज यह दिए दान, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

देहरादून से विशेष ट्रेन द्वारा हज़ारो मजदूर बिहार एंव उत्तर प्रदेश के लिए रवाना, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 469, आज 69 मरीज मिले कोरोना के -

Wednesday, May 27, 2020

ऋषिकेश-धरासू हाइवे पर 440 मीटर लंबी टनल हुई तैयार, सीएम त्रिवेंद्र ने जताया आभार -

Wednesday, May 27, 2020

कोरोना का कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीज हुए 438 -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

पिरूल से विद्युत उत्पादन के द्वितीय चरण के प्रस्तावों को मिली मंजूरी

देहरादून । मुख्य सचिव की अध्यक्षता में परियोजना अनुमोदन समिति की बैठक आयोजित की गई जिसमें पिरूल (चीड़ की पत्तियां) से विद्युत उत्पादन एवं ब्रिकेट बनाये जाने हेतु द्वितीय चरण में प्राप्त प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। उरेडा द्वारा इस नीति में 10 कि.वा. से 250 कि.वा. क्षमता तक की विद्युत उत्पादन इकाईयों के साथ-साथ 2000 मि.टन क्षमता तक की बायोमास ब्रिकेटिंग तथा बायो आयल इकाईयों की स्थापना कराये जाने हेतु द्वितीय चरण में दिनांक 26 जून, 2019 को  त्च् िके माध्यम से प्रस्ताव आमंत्रण किये गये थे जिसके सापेक्ष अन्तिम तिथि दिनांक 30 अगस्त, 2019 तक कुल 17 प्रस्ताव विभिन्न फर्मोंध्विकासकर्ताओं द्वारा जमा कराये गये, जिसमें 385 कि.वा क्षमता के 16 प्रस्ताव पिरूल से विद्युत उत्पादन हेतु एवं 1200 मी.टन का 01 प्रस्ताव ब्रिकेट बनाये जाने हेतु प्राप्त हुआ।मुख्य परियोजना अधिकारी वैकल्पिक ऊर्जा श्री अरूण कुमार त्यागी ने बताया कि उत्तराखण्ड राज्य में प्रति वर्ष लगभग 6 लाख मि.टन पिरूल (चीड़ की पत्तियां) उपलब्ध होती हैं, इसके अतिरिक्त लगभग 8 मि.टन अन्य बायोमास जैसे कृषि उपज अवशेष, लैन्टना आदि भी उपलब्ध है। इस प्रकार प्रति वर्ष 14 लाख मि.टन पिरूल एवं अन्य बायोमास उपलब्ध हो सकता है। इस उपलब्ध बायोमास से लगभग 150 मे.वा. विद्युत उत्पादन एवं 2000 मिट्रिक टन तक की ब्रिकेटिंग एवं बायो आयल उत्पादन की सम्भावना है। राज्य सरकार द्वारा पिरूल से विद्युत उत्पादन एवं ब्रिकेटिंग इकाईयों की स्थापना  के लिये इन क्षेत्रों में स्थित वन पंचायतों, स्वयं सहायता समूहों, महिला मंगल दलों आदि संस्थाओं को अपने क्षेत्र में पिरूल एकत्रीकरण करने तथा सम्बन्धित उद्यमी को उपलब्ध कराये जाने के लिये रू. 1ध्- प्रति कि.ग्रा. की दर से राज सहायता के रूप में दिये जाने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया है। सम्बन्धित संस्थाओं द्वारा एकत्रित किये गये पिरूल को उद्यमियों को विक्रय किये जाने के लिए  डवन्  किया जायेगा तथा आपसी सहमति से निर्धारित दरों पर विक्रय किया जायेगा। बैठक में सचिव ऊर्जा राधिका झा, सचिव वित्त सौजन्या, अपर सचिव ऊर्जा आलोक शेखर तिवारी, मुख्य परियोजना अधिकारी, वैकल्पिक ऊर्जा अरूण कुमार त्यागी आदि उपस्थित थे।

Leave A Comment