Breaking News:

सफाई कार्मिकों को किया पुरस्कृत, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

फूल उगाने वाले किसानों के चेहरे मुरझाए, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

हेल्प मी वेलफेयर सोसायटी ने गरीबों की मदद किये -

Tuesday, April 7, 2020

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

प्रदेश भाजपा के नेता केन्द्रीय नेताओं को कर रहे गुमराह – सुरेन्द्र कुमार

surendra-kumar
देहरादून। मुख्यमंत्री के मीडिया प्रभारी सुरेन्द्र कुमार ने प्रेस वार्ता के माध्यम से कहा है कि केन्द्रीय वित्त मंत्री द्वारा आम बजट 2015-16 में संसद में जानकारी दी गई थी कि 8 योजनाओं को केन्द्रीय सहायता से मुक्त रखा जायेगा। यही नही 24 केन्द्रीय योजनाओं के फंडिंग पैटर्न में बदलाव किया गया है। केन्द्रीय वित्त मंत्री द्वारा जो जानकारी सदन में आम बजट के समय दी गई हो, वह केन्द्रीय कृषि मंत्री को मालूम न हो, ऐसा नही हो सकता है। केन्द्रीय कृषि मंत्री को उनके बयान की जानकारी न हो, ऐसा संभव नही है। लगता ये है कि केन्द्रीय कृषि मंत्री दिल्ली से जो प्रेस रिलीज लेकर देहरादून आये थे, वह देहरादून भाजपा मुख्यालय में बदल गई। वैसे भी भाजपा मुख्यालय से कभी कुछ गायम होना कभी कोई रिकार्ड गायब होना पुरानी परंपरा है। उन्होंने कहा कि राज्य को विशेष राज्य दर्जा रहना चाहिए या नही। केन्द्रीय सहायता में 90:10 का अनुपात चाहिए या नही, अर्द्ध कुम्भ 2016 के लिए केन्द्र से सहायता मिलनी चाहिए या नही। यह केन्द्रीय कृषि मंत्री उत्तराखण्ड के भाजपा नेताओं से पूछ कर तय कर सकते है। हम भी यह चाहते है कि प्रदेश भाजपा नेताओं को जनता के सामने  अपने इस संबंध में अपना पक्ष को स्पष्ट करना चाहिए कि उत्तराखण्ड को विशेष राज्य का दर्जा रहना चाहिए या नही और केन्द्रीय योजनाओं में सहायता मिलनी चाहिए या नही। श्री कुमार ने कहा कि भाजपा के एक सांसद में लोक सभा में अपनी आवाज उठायी भी थी कि फंडिंग पैटर्न बदलने और केन्द्रीय योजनाएं की सहायता बंद होने से उत्तराखण्ड को लगभग 2500 करोड़ रुपये का नुकसान होगा, लेकिन भाजपा के प्रदेश नेताओं ने उनकी आवाज भी बंद करा दी है। अगर केन्द्रीय कृषि मंत्री को ये सब बात पता होता, तो वे राज्य के लिए कुछ न कुछ देकर जाते है। इससे लगता है कि प्रदेश भाजपा ने उनको गुमराह किया है। उन्होंने वित्त मंत्री का 28 फरवरी, 2015 को संसद में दिये गये भाषण की छायाप्रति भी प्रेस को जारी की। उन्होंने यह भी बताया कि केन्द्र पोषित योजनाओं का फंडिंग पैटर्न बदलना, विशेष राज्य के दर्जा के तहत 90:10 अनुपात तथा 14वें वित्त आयोग की संस्तुतियां लागू करना तीनो-तीनो अलग-अलग विषय है। इनको मिस मैच नही किया जाना चाहिए।
वहीं दूसरी ओर श्री कुमार ने कहा कि भाजपा नेताओं द्वारा 16 जून को जो सीएम आवास घेराव करने का कार्यक्रम रखा गया है, वह केवल प्रपंच और नाटक है। उन्होंने कहा कि ज्यों ज्यों चारधाम यात्रा अपने चरम पर पहुंच रही और यात्रियों की संख्या बढ़ रही है, उससे भाजपा नेता बौखलाहट में है। चारधाम यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्री साधना और अपने ईष्टदेव की पूजा अर्चना के लिए आ रहे है। ईष्टदेव की पूजा में विध्न डालने वालो को हमारे शास्त्रों में क्या कहा जाता है, वह सबको पता है। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा प्रदेश की गरिमा से जुड़ी हुई है, उसे प्रभावित करना भाजपा को शोभा नही देता है। यह हमारी आर्थिकी से भी जुड़ी हुई है, ऐसे में चारधाम यात्रा में विध्न डालने से गलत संदेश जायेगा। भाजपा नेताओं को घेराव करना ही है, तो राज्यहित में केन्द्र सरकार द्वारा बंद की गई योजनाओं की धनराशि दिलाने के लिए दिल्ली का घेराव करे।

Leave A Comment