Breaking News:

बुजुर्गो से ठगी करने वाला गिरफ्तार , जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

फीस वृद्धि के खिलाफ आयुष छात्रों का आंदोलन जारी -

Tuesday, November 12, 2019

धूमधाम से मनाया गया 550वां प्रकाशोत्सव -

Tuesday, November 12, 2019

पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके, जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

बचपन की कुछ बातें और उनसे जुडी कुछ यादें….. -

Tuesday, November 12, 2019

प्रकाशपर्व: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने मत्था टेक प्रदेश की खुशहाली की कामना की -

Tuesday, November 12, 2019

उत्तराखण्ड: सीएम को फोन पर धमकी देने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Monday, November 11, 2019

छात्रो ने फैशन शो में पेश किया नया क्लेक्शन -

Monday, November 11, 2019

पौड़ी के विकास में सीता माता सर्किट होगा मील का पत्थर साबित : सीएम -

Monday, November 11, 2019

सिन्मिट कम्युनिकेशन्स द्वारा मिस टैलेंटेड का आयोजन -

Monday, November 11, 2019

सीएम त्रिवेंद्र 550वें प्रकाश उत्सव एवं कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं -

Monday, November 11, 2019

शहर के इस हालात पर अवैध टैक्सी स्टैंड जिम्मेदार, जानिए खबर -

Sunday, November 10, 2019

एक दिसम्बर को केंद्रीय कूर्मांचल परिषद का द्विवार्षिक चुनाव -

Sunday, November 10, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने फिल्म “शुभ निकाह” का मुहूर्त शॉट लिया -

Sunday, November 10, 2019

पौड़ी सांसद तीरथ सिंह रावत घायल, ऋषिकेश एम्स में भर्ती -

Sunday, November 10, 2019

डीएम सविन बंसल की एक पहलः स्कूूली बच्चों को सिखा रहे चित्रकारी -

Sunday, November 10, 2019

रास्ते में पड़े सिंगल यूज प्लास्टिक को भी उठाएं: सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, November 10, 2019

IPL-2020 : तीन नए शहर होगे सकते है शामिल , जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

उत्तराखंड सैन्यधाम और विद्याधाम भी : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह -

Saturday, November 9, 2019

आयुष्मान की सबसे बड़ी ओपनर बनी ‘बाला’, जानिए खबर -

Saturday, November 9, 2019

बचपन में सड़कों पर मांगी है भीख, आज हैं करोड़ों की कंपनी के मालिक

pehchan

जब चाहत हो किसी चीज के पाने की वह पूरा जरूर होता है ऐसी ही एक कहानी हर उस शख्स की हो सकती है जो हालात के सामने घुटने टेकने के बजाय उनसे लड़ने की ठान लेते हैं | हिम्मते मर्दा तो मददे खुदा जैसी कहावतें भी इन्हीं शख्सियतों के लिए कही गई हैं | 50 वर्षीय रेणुका आराध्या घनघोर गरीबी से निकल कर आज अपना करोड़ों का साम्राज्य स्थापित करने वाले इस शख्स की जिंदगी हम सभी हताश-निराश लोगों के लिए प्रेरणा हो सकती है | रेणुका बंगलुरू के नजदीक एनेकल तालुक के गोपसांद्रा गांव से ताल्लुक रखते हैं | उनके पिताजी राज्य सरकार द्वारा आवंटित एक मंदिर के पुजारी थे | हालांकि इसके लिए उन्हें कोई तयशुदा वित्तीय मदद नहीं मिलती थी | पूजा के बाद वे और उनके पिताजी नजदीकी गांव में घूम-घूम कर चावल, रागी और ज्वार मांगा करते. उस मिले राशन को पास के बाजार में बेचा जाता और मिली रकम से पूरे घर का गुजारा चलता | उनके एक भाई और बहन का गुजारा भी इसी से चलता.कक्षा 6 की पढ़ाई के बाद उन्हें पिता ने किन्हीं घरों में घरेलू कामकाज के लिए लगा दिया | वर्तमान समय में यही शख्स आज करोड़ों की कंपनी के मालिक बना हुआ है जो इस स्थिति से गुजरने वालो के लिए एक आदर्श बन सकते है |

Leave A Comment