Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

बाईपास सर्जरी की मदद से बचाई ट्रिपल वेसल रोग से ग्रस्त मरीजों की जान

madat

हल्दवानी। उत्तर भारत के अग्रणी सुपर स्पेशियलिटी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं में से एक ‘‘मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हास्पीटल, पटपडगंज’’ ने चुनौतिपूर्ण बाईपास सर्जरी की मदद पूर्व उनकी पूरी जांच की गई। एंजियोग्राफी से पता चला है कि उन्हें गंभीर ट्रिपल वेसल कोरोनरी आर्टरी रोग है। कार्डिएक सर्जनों की टीम ने तुरंत सीएबीजी सर्जरी करने का फैसला किया जिसे टोटल आर्टरी रिवैस्कुलराइजेशन के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने बताया कि यह सर्जरी तकनीकी रूप से बहुत ही कठिन है और ज्यादातर कार्डिएक केन्द्रों पर यह सर्जरी नहीं की जाती है। इससे पहले कई कार्डिएक सेंटर ने मरीज की यह सर्जरी नहीं की। मैक्स हास्पीटल, पटपडगंज के अनुभवी एवं दक्ष कार्डिएक सर्जनों को इस सर्जरी में विशेषज्ञता हासिल है और वे नियमित रूप से 50 साल से कम उम्र के वैसे मरीजों में यह सर्जरी करते हैं जिन्हें बाईपास सर्जरी की जरूरत होती है। चिकित्सकों की टीम ने हार्ट – लंग मशीन का इस्तेमाल किए बगैर बीटिंग हार्ट सर्जरी की नवीनतम तकनीक की मदद से सर्जरी की। सर्जरी के बाद तीन दिन के भीतर मरीज की हालत स्थिर हो गई और मरीज को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। ट्रिपल वेसल कोरोनरी आर्टरी रोग से ग्रस्त अनेक मरीजों का हाल के दिनों में सफलतापूर्वक उपचार किया गया है। इस संवाददाता सम्मेलन में इस जानलेवा स्थिति से ग्रस्त मरीजों के इलाज के बारे में अध्ययन रिपोर्ट भी प्रस्तुत की गई। संवाददाता सम्मेलन में झुशल करकोटी, गुड्डू बेग, वंश गोपाल अग्निहोत्री, प्रयाग दत्त पांडे और भुवन चंद्र त्रिपाठी भी मौजूद थे जिन्होंने अपने रोग एवं उपचार के बारे में संवाददाताओं को बताया। ब्रिटेन और अमेरिका जैसे उन्नत देशों में भी ऐसी सर्जरी की सफलता दर 15-20 प्रतिशत है। डॉ. भुयान ने बताया कि हालांकि युवा मरीजों (जिनकी उम्र 45 वर्ष से कम है) में ट्रिपल वेसल कोरोनरी आर्टरी रोग (टीवीसीएडी) आम है। खराब जीवन षैली के कारण इस रोग का प्रकाप बढ़ रहा है। उम्र बढ़ने एवं पारिवारिक इतिहास के अलावा, सिगरेट अधिक पीने, कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर, उच्च सिस्टोलिक रक्तचाप आदि कारणों से एथरोस्क्लेरोसिस का जोखिम करीब 90 प्रतिशत तक बढ़ता है। ऐसी स्थितियों के बारे में जागरूकता पैदा करने की बहुत अधिक जरूरत है क्योंकि ऐसी स्थितियों में समय पर चिकित्सकीय उपाय करने काफी मरीजों की जान बचाई जा सकती है और उन्हें विकलांगता से बचाया जा सकता है। मंझोले एवं छोटे शहरों में भी ऐसे मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया गया है।

Leave A Comment