Breaking News:

धूमधाम से मना एसएन मैमोरियल स्कूल का वार्षिकोत्सव ’नवरस’ -

Monday, May 20, 2019

अब ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी नहीं रखने होंगे साथ, जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

उत्तराखंड बोर्ड का 10वीं व 12वीं का रिजल्ट 30 मई को -

Monday, May 20, 2019

अटल आयुष्मान योजना के मरीजों से अवैध वसूली पर होगी कार्यवाही -

Monday, May 20, 2019

पाकिस्तानी क्रिकेटर की 2 वर्षीय बेटी का कैंसर से निधन -

Monday, May 20, 2019

‘लाल कप्तान ‘ का फर्स्ट लुक रिलीज,जानिए ख़बर -

Monday, May 20, 2019

जब तक शरीर साथ देगा तब तक लिखता रहूंगाः रस्किल बांड -

Sunday, May 19, 2019

स्थाई राजधानी बनाये जाने की मांग को लेकर धरना जारी रखा, जानिए खबर -

Sunday, May 19, 2019

बाबा केदार व बदरीविशाल के दर्शन किये पीएम मोदी , दिल्ली रवाना -

Sunday, May 19, 2019

पारंपरिक संगीत के साथ हुआ स्वागत , वोट डालने पहुंचे पहले वोटर का -

Sunday, May 19, 2019

एक ही फ्रेम में नजर आयी भारतीय हसीनाएं, जानिए ख़बर -

Sunday, May 19, 2019

लॉन्च हुआ वर्ल्ड कप का ऑफिशल सॉन्ग ‘स्टैंड बाई’ -

Saturday, May 18, 2019

राखी सावंत के लिए आशा भोसले ने गाया आइटम नंबर -

Saturday, May 18, 2019

‘भिक्षा नहीं शिक्षा दें’ ……… -

Friday, May 17, 2019

मिनी साईबर थाने में तब्दील होगी प्रदेश के सभी थाने , जानिए खबर -

Friday, May 17, 2019

सुरक्षित प्रसव से ही घटेगा मातृ-शिशु मृत्युदरः डा. सुजाता संजय -

Friday, May 17, 2019

केदारनाथ यात्रा के लिए हेली सेवा का किराया निर्धारित -

Friday, May 17, 2019

हम वर्ल्ड कप जीत के असली दावेदार है : चहल -

Friday, May 17, 2019

‘छपाक’ में दीपिका के साथ काम करने वाले थे राजकुमार राव -

Friday, May 17, 2019

असम से 29 सालों बाद हटने जा रहा है AFSPA -

Friday, May 17, 2019

बाल विवाह से बचकर भागी लड़की, बोर्ड परीक्षा में लाई 90% नंबर

मैसूर | कर्नाटक के मैसूर में बाल विवाह से बचने के लिए अपना घर छोड़कर भागी एक लड़की हाल ही में प्री यूनिवर्सिटी परीक्षा का रिजल्ट घोषित किया गया, अब उसी लड़की ने परीक्षा में 90 पर्सेंट नंबर हासिल किए हैं। चिक्काबल्लापुरा जिले के कोत्तुरु गांव की रेखा वी 18 साल की हैं और आईएएस अधिकारी बनना उनका सपना है। जानकारी के मुताबिक, दो साल पहले रेखा ने 10वीं की बोर्ड परीक्षा में 74 पर्सेंट नंबर हासिल किए थे। घरों में नौकरानी का काम करने वाली उनकी मां ने रेखा पर दबाव बनाना शुरू किया था कि वह शादी कर लें। रेखा ने इसका विरोध किया और घर छोड़कर अपनी एक दोस्त के साथ बेंगलुरु आ गईं। बेंगलुरु में बिना समय गंवाए उन्होंने एक कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर जॉइन कर लिया। कंप्यूटर कोर्स से संतुष्ट ना होने के बाद रेखा ने चाइल्ड हेल्पलाइन 1098 पर कॉल करके अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए मदद मांगी। बाद में बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने उनकी मदद की और उन्हें स्पर्श ट्र्स्ट में रहने की व्यवस्था की। उन्होंने नेहामांगला स्थित सरकारी प्री यूनिवर्सिटी स्कूल में रेखा का ऐडमिशन भी कराया। हाल ही में आए रिजल्ट में रेखा को 600 में से 542 नंबर मिले हैं। इतिहास विषय में उन्हें 100 में से 100 नंबर मिले हैं। अब वह इतिहास, राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में बीए करना चाहती हैं। स्पर्श ट्र्स्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी आर गोपीनाथ कहते हैं, ‘रेखा अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित थी। बाल कल्याण समिति की टीम ने उसकी मदद की थी। हमें उसकी सफलता पर गर्व है।’

Leave A Comment