Breaking News:

उत्तराखंड बोर्ड के 10वीं और 12वीं के नतीजे आज आएंगे जानिए ख़बर -

Saturday, May 26, 2018

चार वर्षों में देश आर्थिक, सामाजिक समृद्धि एवं विकास की नई ऊँचाइयों को छुआ : सीएम -

Friday, May 25, 2018

हेमकुंड साहिब के कपाट खुले, यात्रा शुरू -

Friday, May 25, 2018

टिहरी महोत्सव का शुभारंभ, सीएम ने किया योजनाओं का शिलान्यास -

Friday, May 25, 2018

राम रहीम का केस लड़ेंगे तलवार दंपति को बरी कराने वाले वकील जानिए ख़बर -

Friday, May 25, 2018

मेजर गोगोई मामले में आर्मी चीफ ने दिए कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी के आदेश -

Friday, May 25, 2018

शक्ति पम्पस का इस वर्ष वित्तीय लाभ में हुआ बढ़ोत्तरी -

Friday, May 25, 2018

उत्तराखण्ड : सीएम ने प्रयोगशाला काॅम्पलेक्स का किया उद्घाटन -

Thursday, May 24, 2018

विराट कोहली ने मोदी को दिया फिटनेस चैलेंज, पीएम ने किया स्वीकार -

Thursday, May 24, 2018

फिल्म एप्रिसिएशन कोर्स हेतु आवेदन की तिथि हुई 30 मई, जानिए ख़बर -

Thursday, May 24, 2018

डोनाल्ड ट्रंप ने किम से होने वाली मुलाकात रद्द की जानिए ख़बर -

Thursday, May 24, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने उच्च स्तरीय कमेटी गठित करने के निर्देश दिए, जानिए खबर -

Thursday, May 24, 2018

फिल्म ‘स्टूडेंटऑफ द इयर 2’ का पहला पोस्टर रिलीज़ -

Thursday, May 24, 2018

एक साथ दो महिलाओं से शादी जानिए ख़बर -

Thursday, May 24, 2018

अगर तैयारी पूरी थी तो परिणाम क्यों नहीं, जानिए खबर -

Wednesday, May 23, 2018

देश मे तापमान 40 डिग्री के पार, उत्तराखण्ड में अलर्ट -

Wednesday, May 23, 2018

स्वरोजगार से लगेगा पलायन पर अंकुश : मुख्यमंत्री -

Wednesday, May 23, 2018

दिल्ली सरकार ने 575 निजी स्कूलों को दिया बढ़ी फीस वापस करने का आदेश -

Wednesday, May 23, 2018

पीएम द्वारा चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के प्रगति की सराहना, जानिए ख़बर -

Wednesday, May 23, 2018

कुमारस्वामी बने कर्नाटक के सीएम, विपक्षी ने दिखाई एकता -

Wednesday, May 23, 2018

बीमार माँ और भाई-बहनों के लिए 10 साल का रोहित जूते पॉलिश कर चला रहा घर

pehchan

भरतपुर | इस खबर को पढ़ कर आप को विडंबना ही लगेगा की 10 साल की उम्र के बच्चों के खेलने-कूदने की होती है,लेकिन भरतपुर के वी नारायण गेट इलाके के रैगर मोहल्ला में रहने वाले रोहित ने इतनी सी उम्र में पूरे परिवार की जिम्मेदारियों का बोझ अपने नाजुक कंधों पर उठा रखा है | इतने कम उम्र में पिता का साया सिर से उठ जाने के बाद इस मासूम ने घर की जिम्मेदारियों को एक व्यक्ति की तरह बखूबी संभाल रखा है | यही नहीं रोहित के सर पर एक पहाड़ और टूट पड़ा वह उसकी माँ का बिमारी के कारण विस्तर पकड़ लेना | रोहित घर के सारे काम करता है रोज सुबह छोटे भाई-बहनों और मां के लिए खाना बनाता है और बाद में खर्चा चलाने के लिए बाजार में फुटपाथ पर मोची की दुकान लगाकर शाम को दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करके ही घर वापस लौटता है | विदित हो की 4 महीने पहले बीमारी के चलते दस वर्षीय रोहित के पिता गोविंद की मौत हो गई, तो परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा. गोविंद की मौत के बाद उसकी पत्नी सुनीता घर-घर जाकर लोगों के झूठे बर्तन साफ करने लगी और जैसे-तैसे अपने बच्चों का पालन-पोषण करने लगी, लेकिन वह भी धीरे-धीरे बीमार रहने लगी.बीमारी का ठीक से इलाज नहीं करा पाने की वजह से वह कमजोर होती गई और फिर उसने भी काम पर जाना बंद कर दिया | घर में कोई और कमाने वाला नहीं होने की वजह से उसने अपना छोटा सा मकान भी गिरवी रख दिया.पाॉलिश करने का काम शुरू कर दिया. रोहित के पिता भी मोची का काम किया करते थे| वह मोरी चार बाग में जमीन पर बैठकर लोगों के फटे-टूटे जूते चप्पलों की मरम्मत करता है और उन्हें पॉलिश करता है. इस तरह किसी दिन वह 50 रुपये कमा लेता है तो किसी दिन 100 रुपये की कमाई हो जाती है | मासूम रोहित के ऊपर बचपन में ही परिवार का साया दूर होने पर गरीबी और तंगहाली में जीवन काटने पर मजबूर उसके मोहल्ले के लोग भी आहत हैं | रोहित के मोहल्ले के आस पास के लोग परिवार को आर्थिक मदद देने के लिए सरकार और प्रशासन से गुहार भी लगाई है |

Leave A Comment