Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

बुर्का नहीं पहनने पर मौत देने वालों ने ही लगाया बैन

burqa

मोसुल/इराक। बुर्का नहीं पहनने पर महिलाओं को मौत के घाट उतार देने वाले आतंकी संगठन आईएसआईएस ने अब बुर्के पर ही बैन लगा दिया है। आईएसआईएस ने मोसुल की महिलाओं के लिए ये सख्त निर्देश जारी किए हैं। हालांकि मोसुल में सुरक्षा संस्थानों के अलावा सभी जगहों पर बुर्का पहनने अनिवार्य होगा। आईएसआईएस के इस यूटर्न की वजह सुरक्षा कारण बताए जा रहे हैं। ये किस तरह के सुरक्षा कारण हैं इसका खुलासा नही किया गया है। वहीं इसे पिछले महीने आईएस कमांडरों पर हुए जानलेवा हमलों से जोड़ कर भी देखा जा रहा है। इन हमलों को बुर्का पहने महिलाओं ने ही अंजाम दिया था। यह नया फरमान इसलिए भी ज्यादा चैंकाने वाला है कि बुर्का नहीं पहनने के चलते यही संगठन सैंकड़ों महिलाओं को मौत के घाट उतार चुका है। फिलहाल, ये पाबंदी मोसुल के सिक्युरिटी सेंटर्स में जाने वाली महिलाओं के लिए है। आईएस के कब्जे वाले शहर के बाकी हिस्सों में बुर्का कम्पलसरी बना रहेगा। ईरान फ्रंट पेज वेबसाइट को भी इराक के निन्वेह में मौजूद सूत्रों से बैन की जानकारी मिली है। इस नए कानून से पहले, इस्लामिक स्टेट की मोरल पुलिस ने महिलाओं को बुर्का पहनने के लिए विवश ही किया था। जिन्होंने ऐसा करने से इनकार किया, उनकी पिटाई की गई और कई बार आतंकियों द्वारा हत्या भी कर दी गई। हालांकि, रिपोट्र्स में कहा गया है कि नियमों में यह बदलाव सिर्फ मोसुल के सुरक्षा केंद्रों पर ही लागू किया जाए। पिछले महीने, अमेरिका समर्थित सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्सेस अडवांस्ड आईएसआईएस ने सीरियाई शहर मांबिज पर कब्जा किया था जिसके बाद आम नागरिकों को आईएस के चंगुल से छुड़ाया गया। इस अहम घटना के बाद महिलाओं ने अपने बुर्का और हिजाब सामूहिक रूप से जलाए थे।

Leave A Comment