Breaking News:

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

पहल : तीन बेटियों ने डेढ़ सौ परिवारों के पास घर-घर पहुंचाया खाने का सामान -

Thursday, April 2, 2020

हम सब उत्तराखंड पुलिस को सहयोग करे: दीपक सक्सेना -

Thursday, April 2, 2020

लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Thursday, April 2, 2020

डीडी उत्तराखंड का प्रसारण 24 घंटे का हुआ -

Wednesday, April 1, 2020

फेक न्यूज या गलत जानकारी देने पर प्रशासन द्वारा होगी कानूनी कार्रवाई -

Wednesday, April 1, 2020

लाकडाऊन के दौरान रखे संयम: पीआरएसआई देहरादून चैप्टर -

Wednesday, April 1, 2020

लॉकडाउन : डीएम के आदेश को रखा ठेंगे पर, जानिए खबर -

Wednesday, April 1, 2020

मुंबई की सड़कों पर खाना बाँटते नज़र आये अली फजल, जानिए कैसे -

Wednesday, April 1, 2020

बेटियों के पैदा होने पर बैंडबाजे के साथ निकली बारात, जानिए खबर

सूरत | गुजरात के सूरत में धूमधाम से बैंडबाजे के साथ एक बारात निकाली गई। इस बारात में लोग नाचते-गाते एक घर में पहुंचे। घर को फूलों और लाइटों से सजाया गया था। खास बात यह है कि बारात में साथ चल रही बग्घी में दूल्हा नहीं बल्कि दो बच्चियां मौजूद थीं और यह बारात किसी दुल्हन को ब्याहने नहीं बल्कि नवजात बच्चियों को उनके घर ले जाने के लिए निकाली गई। ट्रैवल फर्म चलाने वाले आशीष जैन की पत्नी प्रियम ने जुड़वां बच्चियों को जन्म दिया था। बच्चियों के जन्म के बाद प्रियम अस्पताल से अपने मायके गईं। बच्चियों को घर लाने से पहले उन्होंने अपने घर को किसी शादी समारोह की तर्ज पर सजवाया। इस आयोजन में रिश्तेदारों और मेहमानों को बुलाया गया। बच्चियों को उनके ननिहाल से सजी हुई बग्घी में घर तक लाया गया। इस दौरान रास्ते में बैंड-बाजे के धुन पर रिश्तेदार नाचते नजर आए। आशीष ने कहा कि इस तरह से बेटियों को घर लाने के पीछे उनका मकसद था कि समाज को यह संदेश दे सकें कि बेटा-बेटी एक समान होते हैं। बच्चियों को किसी तरह की असावधानी न हो इसलिए उन्होंने बग्घी का इंतजाम किया। घर में डीजे पार्टी आयोजित की गई जिसमें सारे रिश्तेदार और दोस्त-यार जमकर नाचे। उन्होंने कहा की दो बच्चियां मिल गई हैं अब उन्होंने कोई और बच्चा नहीं चाहिए। शायद बेटे के होने पर उन्हें इतनी खुशी नहीं होती जितनी दो बेटियों के पिता बनने पर हुई है। उन्होंने बेटियों के इस जश्न में पंद्रह लाख रुपये खर्च किए।

Leave A Comment