Breaking News:

देवभूमि डायलॉग कार्यक्रम : सीएम ने समाज के लिए सराहनीय कार्य करने वालो को किया सम्मानित -

Friday, April 20, 2018

शीला रावत का अनिश्चित कालीन धरना जारी, जानिए खबर -

Friday, April 20, 2018

युवाओं को रोजगार से स्वरोजगार की ओर आना होगा आगे : सीएम -

Friday, April 20, 2018

युवा इंजीनियर भीख मांगते बच्चों का भविष्य बनाने के लिए कर रहा पदयात्रा, जानिए ख़बर -

Friday, April 20, 2018

2020 तक एक लाख युवाओं को कौशल विकास से जोड़कर रोजगार देने का लक्ष्य, जानिए ख़बर -

Friday, April 20, 2018

उत्तराखण्ड राज्य बेहतर फिल्म अनुकूल पर्यावरण के लिए विशेष उल्लेख पुरस्कार के लिए चयनित -

Thursday, April 19, 2018

सहारा समूह को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, अपनी पसंद की संपत्ति बेचने का मिला अधिकार -

Thursday, April 19, 2018

सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया की मौत से जुड़ी जांच याचिकाएं खारिज की -

Thursday, April 19, 2018

जब तक प्रधानमंत्री मेरी मांगें नहीं मानेंगे, मैं अनशन नहीं तोड़ूंगी: स्वाति -

Thursday, April 19, 2018

थाईलैण्ड यात्रा से राज्य में निवेश वृद्धि प्रबल : सीएम -

Thursday, April 19, 2018

भारत की ‘‘लुक ईस्ट’’ और थाईलैण्ड की ‘‘लुक वेस्ट’’ नीति एक दूसरे की पूरक : सीएम -

Wednesday, April 18, 2018

चारधाम यात्रा शुरू, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुले -

Wednesday, April 18, 2018

“इण्डिया स्किल उत्तराखण्ड” पहुँचा ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी, जानिए ख़बर -

Wednesday, April 18, 2018

प्रधानमंत्री मोदी मिले ब्रिटेन की पीएम से -

Wednesday, April 18, 2018

आप के राघव चड्ढा ने 2.5 रुपये मेहनताना गृह मंत्रालय को लौटाया -

Wednesday, April 18, 2018

BCCI भी आएगी RTI के दायरे में , लाॅ कमीशन ने की सिफारिश -

Wednesday, April 18, 2018

देवभूमि डायलॉग : 20 अप्रैल को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र युवाओं से करेंगे सीधा संवाद -

Wednesday, April 18, 2018

दिल्ली गैंगरेपः 20 लाख में माता-पिता ने किया आरोपियों से सौदा -

Tuesday, April 17, 2018

आसाराम केस : जेल में ही सुनाया जाएगा हाईकोर्ट का फैसला -

Tuesday, April 17, 2018

बैंकाॅक में सीएम त्रिवेंद्र ने उत्तराखंड राज्य को दिलाई एक नई पहचान -

Tuesday, April 17, 2018

बेटों ने घर से निकाला तो बिधूना थाना ने बना ल‌िया मां

pahal

पुलिस बहुत अच्छी है। वो मेरा परिवार है। मेरा बहुत ख्याल रखती है। छोटे कप्तान बहुत बढ़िया आदमी हैं। भगवान उनका भला करे।’ औरैया के बिधूना थाना में रह रही 75 साल की सोमवती पुलिस के लिए हर पल ऐसी ही दुआएं करती रहती हैं। सोमवती दो साल से थाना परिसर में ही रह रही हैं। पुलिसकर्मी उनका हर तरह से ख्याल रखते हैं। वह थाना की मेस में ही खाना खाती हैं। सोमवती को बिधूना सर्किल के तत्कालीन सीओ शिवराज ने थाने में रखा था। शिवराज वर्तमान में इटावा में तैनात हैं, लेकिन वक्त मिलते ही सोमवती से मिलने के लिए बिधूना जाना नहीं भूलते। शिवराज ने बताया कि सोमवती मार्च 2014 में बेटे की शिकायत लेकर थाना आई थीं। वह बहुत गुस्से में थीं। उन्हें कुर्सी पर बैठाकर पानी पिलाया और मिठाई खिलाई तो गुस्सा शांत हो गया। फिर समस्या पूछी तो वह रो पड़ीं। बताया बेटा बहुत परेशान करता है। सीओ ने तत्काल पुलिस भेजकर उनकी समस्या का समाधान कर दिया। हालांकि, पुलिस के व्यवहार से वह इतना प्रभावित हुईं कि उन्होंने घर न जाने का फैसला कर लिया।सीओ से बोलीं, वह थाना में ही रहेंगी। इससे शिवराज थोड़ा असहज हो गए। थाना परिसर में बाहरी व्यक्ति, वो भी महिला कैसे रहेगी? कौन उसकी देखरेख करेगा? ऐसे तमाम सवाल उनके सामने खड़े हो गए। डीजीपी के पीआरओ राहुल श्रीवास्तव ने बताया कि शिवराज ने समाज के सामने पुलिस के मानवीय चेहरे का उदाहरण पेश किया है। डीजीपी जावीद अहमद जल्द उन्हें ऑफिस बुलाकर सम्मानित करेंगे। सोमवती थाना में तैनात सभी पुलिसकर्मियों की अम्मा बन गई हैं।

pahal

ड्यूटी सुबह की हो या शाम की, सबसे पहले पुलिसकर्मी अम्मा के पास जाकर उनका हालचाल लेते हैं। अक्सर पुलिसकर्मियों के बीच होने वाले झगड़े में अम्मा ही पंचायत करती हैं।कौन आया है? छोटे कप्तान। दरोगा जी कह दो की चप्पल घिस गयी है और नई साड़ी चाहिए। ये आत्मीय आवाज़ सुनकर पहले तो कुछ आश्चर्य हुआ फिर जब बात समझ में आई तो जो तथ्य पता चले आपको अर्पित हैं।थाना बिधूना में एक बेसहारा वृद्ध महिला कभी अपने घर परिवार और बेटों से परेशान हो थाने न्याय लेने आई थी। थाना पुलिस की आत्मीय कार्यवाही से खुश होकर थाने में ही रुक गयी।लड़कों ने पहले ही घर निकाला कर रखा था खाने के लिए नहीं पूछते थे सो उसने थाने में ही अपना बसेरा बना लिया। मेस का खाना और थाने की आवभगत से बेसहारा को सहारा मिला और अब खुश है पूरे थाने को अपना परिवार मानती है सबकी कुशलता पूछती है, महिला आरक्षी को बेटी मानती है। चप्पल और साड़ी की व्यवस्था हो गयी है वृद्धा मां खुश और थाने वाले खुश। और हाँ जिन को पाल पोस के बड़ा किया उन्हें अब भी बुढ़िया के मरने का इंतज़ार है। छः माह से ज्यादा हो गए कभी देखने नहीं आये। माना खबर २ साल पहले की है लेकिन लोगो में आज भी यह खबर किसी और सोमवती के रूप में आती रहती है |

कौन संवेदन हीन है पुलिस, वृद्धा, उसके बेटे या समाज ?

(बिधूना पुलिस औरैया के पेज से साभार)

Leave A Comment