Breaking News:

देहरादून देश के दस शीर्ष रेलवे स्टेशनों की सूची में , जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के न्यू इंडिया के सपने को करना है साकार : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 15, 2018

प्रदेश में हरेला पर्व हो सरकारी तौर पर आयोजित -

Wednesday, August 15, 2018

पत्रकार चारूचन्द के स्वास्थ्य का हाल जानने पहुंचे महानिदेशक सूचना दीपेन्द्र चौधरी एवं मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट -

Tuesday, August 14, 2018

शहीद प्रदीप सिंह रावत की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : निष्कासित कर्मचारियों का उग्र आन्दोलन की चेतावनी -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : 343 किस्म की दवाओं को बेचने पर रोक -

Tuesday, August 14, 2018

त्रिवेंद्र सरकार की पर्यटन नीतियों के बदौलत पर्यटकों में आपार वृद्धि , जानिए खबर -

Tuesday, August 14, 2018

‘पलटन’ फिल्म के नए गीत के साथ आजादी का जश्न -

Tuesday, August 14, 2018

सूचना महानिदेशक दीपेन्द्र चौधरी नज़र आये शिक्षक की भूमिका में, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

सीएम त्रिवेंद्र शहीद जवान प्रदीप सिंह रावत को दी श्रद्धांजलि -

Monday, August 13, 2018

उत्तराखंड : खिलाड़ी गरिमा जोशी को दवाओं के साथ दुआवों की जरूरत, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आधारित लघु फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग में सीएम हुए शामिल -

Monday, August 13, 2018

माँ ने कपड़े सिलकर दूध बेचकर बेटी को पाला आज देश की है टॉपर एथलीट, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

मनुष्य जीवन अपने तक न हो सीमित,सबके सहयोग में बने भागीदार : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, August 12, 2018

धाविका गरिमा जोशी के ईलाज का पूरा खर्च उठाएगी त्रिवेन्द्र सरकार -

Sunday, August 12, 2018

देहरादून फैशन वीक एंड लाइफ स्टाइल शो का आयोजन , जानिए खबर -

Sunday, August 12, 2018

राजपुर वूमेंस क्लब ने मनाया तीज , जानिए खबर -

Sunday, August 12, 2018

बुजुर्ग महिला को यूबीआई को देना ही पड़ेगा हर्जाना, जानिए खबर -

Sunday, August 12, 2018

जब धान की रोपाई करने खेत में उतरे मुख्यमंत्री ,जानिए खबर -

Sunday, August 12, 2018

ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन, 76 वर्ष के थे

दुनिया के जाने माने वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन हो गया है। वह 76 वर्ष के थे। ब्रिटिश प्रेस एसोसिएशन ने उनके परिवार के प्रवक्ता के हवाले से आज यह जानकारी दी। हॉकिंग एक ऐसी बीमारी से पीड़ित थे, जिसके चलते उनके शरीर के कई हिस्सों पर लकवा मार गया था। इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और विज्ञान के क्षेत्र में नई खोज जारी रखी। हॉकिंग ने ब्लैक होल और बिग बैंग थ्योरी को समझने में अहम भूमिका निभाई थी। हॉकिंग के पास 12 मानद डिग्रियां थीं और अमेरिका का सबसे उच्च नागरिक सम्मान उन्हें दिया गया था। यूनिवर्सिटी ऑफ केम्ब्रिज में गणित और सैद्धांतिक भौतिकी के प्रोफ़ेसर रहे स्टीफऩ हॉकिंग की गिनती आईंस्टीन के बाद सबसे बड़े भौतकशास्त्रियों में होती थी। हॉकिंग का जन्म इंग्लैंड में आठ जनवरी 1942 को हुआ था। हमेशा व्हील चेयर पर रहने वाले हॉकिंग किसी भी आम इंसान से अलग दिखते थे। विश्व प्रसिद्ध महान वैज्ञानिक और बेस्टसेलर रही किताब ‘अ ब्रीफ़ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ के लेखक हॉकिंग ने शारीरिक अक्षमताओं को पीछे छोड़ते हुए यह साबित किया था कि अगर इच्छा शक्ति हो तो इंसान कुछ भी कर सकता है। अपनी खोज के बारे में हॉकिंग ने कहा था कि मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि मैंने ब्रह्माण्ड को समझने में अपनी भूमिका निभाई, इसके रहस्य लोगों के खोले और इस पर किये गये शोध में अपना योगदान दे पाया। मुझे गर्व होता है जब लोगों की भीड़ मेरे काम को जानना चाहती है। हॉकिंग के परिवार के बच्चों लुसी, रॉबर्ट, और टिम ने घोषणा करते हुए बताया है कि “हम बहुत दुखी हैं क्योंकि आज हमारे प्यारे पिता का निधन हो गया है। वह एक महान वैज्ञानिक और असाधारण व्यक्ति थे, जिनका काम और नाम कई वर्षों तक जीवित रहेगा। वह हमेशा दुनियाभर के लोगों को प्रेरणा देते रहे हैं। उन्होंने कहा था कि यह कभी यूनिवर्स न बनता अगर यहां प्यार वाले लोग न रहते। हम उन्हें हमेशा याद करेंगे। अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि ”मैं अपने गाल की मांसपेशी के जरिए, अपने चश्मे पर लगे सेंसर को कम्प्यूटर से जोड़कर ही बातचीत करता हूं”। बता दें कि स्टीफन हॉकिंग के दिमाग को छोड़कर उनके शरीर का कोई भी भाग काम नहीं करता थाय़ यहां तक कि स्टीफन हॉकिंग ने इस बीमारी से लड़ते हुए बड़े-बड़े वैज्ञानिक खोज किए और ब्रह्मांड के रहस्यों को सुलझाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वे आखिरी वक्त तक पढ़ाने के लिए यूनिवर्सिटी जाते रहे। दुनिया के सबसे प्रसिद्ध भौतिकीविद और ब्रह्मांड विज्ञानी पर 2014 में ‘थ्योरी ऑफ एवरीथिंग नामक फिल्म भी बन चुकी है।’

Comments
One Response to “ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन, 76 वर्ष के थे”
Leave A Comment