Breaking News:

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

बढ़ सकती है आधार लिंक करने की आखिरी तारीख -

Thursday, December 7, 2017

अपर निदेशक सूचना ने दिवंगत पत्रकार की पत्नी को तीन लाख का चैक सौंपा -

Wednesday, December 6, 2017

तो इटली में विराट और अनुष्का बधेंगे शादी के बंधन में …! -

Wednesday, December 6, 2017

एबीवीपी ने मनाया सामाजिक समरसता दिवस -

Wednesday, December 6, 2017

सीएम ने मृतक होमगार्ड जवानों की पत्नियों को 5-5 लाख की धनराशि किये वितरित -

Wednesday, December 6, 2017

भीख मांगते मिली थी मेजर की बेटी, जानिए खबर -

Tuesday, December 5, 2017

17 दिसम्बर को आयोजित मैराथन में भाग जरूर ले , जानिये खबर -

Tuesday, December 5, 2017

भाजपा नेताओं को कैग रिपोर्ट ठीक से पड़नी नही आयी : सुरेन्द्र कुमार

surendra-uk

मुख्यमंत्री के मीडिया प्रभारी सुरेन्द्र कुमार ने भाजपा नेताओं द्वारा आपदा व कैग रिपोर्ट पर की गई बयानबाजी पर पलटवार करते हुए कहा है कि शायद भाजपा नेताओं को कैग रिपोर्ट ठीक से पड़नी नही आयी है। कैग रिपोर्ट में जो उल्लेख किया गया है, उसके अनुसार यह कहा गया कि यदि आपदा से निपटने के पूर्व व्यवस्थाएं की जाती तो, मानव जीवन को बचाया जा सकता था। भाजपा के दोस्तो को याद दिलाना चाहूंगा कि वर्ष 1988 में मालपा की त्रासदी और वर्ष 2010 में राज्य हुई दैवीय आपदा की घटना से यदि भाजपा के दोस्तो ने सबक लिया होता और भविष्य में ऐसी आपदाओं से निपटने के लिए ठोस कार्ययोजना बनायी होती तो, शायद कैग को ऐसी टिप्पणी न करनी पड़ती। श्री कुमार ने कहा कि वर्ष 2013 में जो आपदा आयी थी, वह साधारण किस्म की आपदा नही थी, बल्कि महाप्रलय थी। आपदा के ऐसे समय भाजपा नेताओं ने देश-दुनिया से आने वाले पर्यटकों को दो साल तक उत्तराखण्ड न आने की बात कही थी और यह भी कहा था कि आये तो सिर पर कफन बांध कर आये। लेकिन वो भूल रहे है कि राज्य सरकार ने उपलब्ध संसाधनों के बल पर इस महाप्रलय का मुकाबला किया और अधिक से अधिक मानव जीवन को सुरक्षित बचाया। आपदा के कारण ध्वस्त हो चुकी चारधाम यात्रा और बाबा केदारनाथ के पुनर्निर्माण कार्य को तेजी से आगे बढ़ाया। राज्य सरकार के प्रयासों का फल है कि इस वर्ष केदारनाथ सहित चारधाम यात्रा पर देश-विदेश से लगभग 10 लाख से अधिक तीर्थ यात्री आये। भाजपा नेता केन्द्र सरकार की असफलताओं और अपने भविष्य को अंधकारमय देखकर बैचैन है। भाजपा की यह बेचैनी गैरसैण के पिछले सत्र और इस बार के सत्र में साफी देखी जा सकती है। इस बार के गैरसैण सत्र में भाजपा नेताओं ने मर्यादाओं को तार-तार किया है। विधान सभा की पीठ लोकतंत्र में विश्वास का प्रतीक होता है। भाजपा नेताओं ने पीठ के विरूद्ध जिस प्रकार से अमार्यादित टिप्पणी की है, उससे लगता है कि वह नई परम्परा शुरू कर रहे है।

Leave A Comment