Breaking News:

उत्तराखण्ड के सभी विधायकों ने शहीदों के परिवार को एक माह का वेतन देने की घोषणा की -

Friday, February 15, 2019

दुःख की इस घड़ी में हम सब शहीदों के परिजनों के साथ हैः मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Friday, February 15, 2019

गरीब बच्चों को भोजन कराकर रोटी क्लब ने मनाया रोटी महोत्सव -

Friday, February 15, 2019

सीएम ने की स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट योजनाओं की समीक्षा -

Friday, February 15, 2019

कोई शिकायत तो डायल करें सीएम हेल्पलाईन 1905 -

Friday, February 15, 2019

भारत बनेगा विश्व गुरू : नरेश बंसल -

Friday, February 15, 2019

CRPF के काफिले पर आतंकी हमला, 40 जवान शहीद -

Thursday, February 14, 2019

रूद्रपुर में हुआ 3340 करोड़ रू. की समेकित सहकारी विकास परियोजना का शुभारम्भ -

Thursday, February 14, 2019

पीएम मोदी का विरोध करने जा रहे पूर्व सीएम हरीश रावत, इंदिरा हृदयेश गिरफ्तार -

Thursday, February 14, 2019

सीएम त्रिवेन्द्र की सलाह : निजी चीनी मिलों के बाहर धरना दे हरीश रावत -

Thursday, February 14, 2019

आयकर आयुक्त श्वेताभ सुमन को सात साल कैद , जानिए खबर -

Thursday, February 14, 2019

विपक्ष ने किया गन्ना किसानों के बकाया भुगतान को लेकर सदन में जमकर हंगामा -

Thursday, February 14, 2019

“डेस्टिनेशन उत्तराखण्ड” के प्रभावी नतीजे आने शुरू, जानिए खबर -

Wednesday, February 13, 2019

‘भारत’ के क्लाइमेक्स में 10 करोड़ का सेट बर्बाद -

Wednesday, February 13, 2019

समाजसेवी एवं उद्योगपति सुशील अग्रवाल हुए सम्मानित -

Wednesday, February 13, 2019

बड़ी खबर : उत्तराखण्ड में खुलेगी नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी -

Wednesday, February 13, 2019

सी-विजिल एप से आसानी से कर सकेंगे आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत, जानिये खबर -

Wednesday, February 13, 2019

चारधाम यात्रा की तैयारियों को लेकर प्रशासन हुआ चुस्त -

Wednesday, February 13, 2019

200 करोड़ लागत की मसूरी पेयजल योजना को केन्द्र से मिली मंजूरी -

Wednesday, February 13, 2019

राजभवन कूच कर रहे अधिवक्ताओं को पुलिस ने रोका -

Wednesday, February 13, 2019

भारत की ‘‘लुक ईस्ट’’ और थाईलैण्ड की ‘‘लुक वेस्ट’’ नीति एक दूसरे की पूरक : सीएम

बैकाॅक / देहरादून | मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह रावत आज  (बैकाॅक)थाईलैण्ड में भारत सरकार के सहयोग से थाईलैण्ड एवं उत्तराखण्ड सरकार द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित ‘‘‘इण्डिया योर डेस्टिनी, योर न्यू डेस्टिनेशन’’ (फोकस आॅन उत्तराखण्ड) को सम्बोधित किया। उन्होंने इस आयोजन केे लिये भारतीय राजदूत के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि थाईलैण्ड भारत के लिये बहुत महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि वर्ष 2016 में थाई प्रधानमंत्री की भारत यात्रा के दौरान दोनों देश द्विपक्षीय सहयोग और व्यापार संवर्धन को मजबूत करने पर सहमत हुए थे। थाईलैण्ड भारत का एक विश्वसनीय और एक मूल्यवान दोस्त है और दक्षिण-पूर्व  एशिया में हमारे करीबी साझेदारों में से एक है।’’ दोनों देशों के बीच, लोगों के मध्य आपसी सम्बन्धों में प्रगाढ़ता आने से दस लाख से अधिक भारतीय प्रतिवर्ष थाईलैण्ड भ्रमण पर जा रहे है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की ‘‘लुक ईस्ट’’ और थाईलैण्ड की ‘‘लुक वेस्ट’’ नीति एक दूसरे की पूरक है, जिसमें भारत और थाईलैण्ड द्विपक्षीय व्यापार को बढावा देने के लिये सहयोग हेतु संयुक्त रूप से काम कर रहे हैं। वास्तव में, इसके परिणामस्वरूप, भारत और थाईलैण्ड के बीच द्विपक्षीय व्यापार पिछले दशक में दोगुने से अधिक हो गया है और दोनों देशों के बीच के सम्बन्धों से कई क्षेत्रों में व्यापक विस्तार हुआ है। भारत में प्रधानमंत्री जी के दूरदर्शी नेतृत्व के तहत मजबूत सकारात्मक बदलाव की लहर देखी गयी है। आज, हमारा देश अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर रूपये 154.5 खरब की अर्थव्यवस्था के साथ खड़ा है, जो विश्व में भारत की सबसे तेजी से बढती अर्थव्यवस्था का प्रतीक है।  मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड ने औद्योगिक नीति, स्टार्ट-अप पाॅलिसी और अन्य सेक्टर-विशिष्ट की नीतियों के माध्यम से नीतिगत पहल कर सरकार ने अपनी अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में निवेश का नियमित प्रवाह सुनिश्चित किया है। इन पहलों के परिणामस्वरूप उत्तराखण्ड के सकल राज्य घरेलू उत्पाद में 2004-05 से 2015-16 के बीच 16.03 प्रतिशत की एक समग्र वार्षिक वृद्वि दर से वृद्वि हुई है ।’’ईज आॅफ डुईग बिजनेस’’ इस प्रकार की एक और पहल है, जिसके परिणामस्वरूप भारत ने विश्व बैंक ग्लोबल ’’डुईग बिजनेस’’ रैंकिंग में 30 अंको की ऊंची छलांग लगाकर शीर्ष 100 देशों की सूची में अपना स्थान बनाया है। यह पहल राज्य स्तर पर भी कार्यान्वित की जा रही है, जिससे राज्यों के बीच एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के साथ व्यवसाय को प्रारम्भ करने और उनके संचालन के लिये उपयुक्त वातावरण तैयार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र सिंह ने कहा कि अपनी उद्यमशीलता की भावना, नवीन दृष्टिकोण और एक स्थिर, सुलभ सरकार द्वारा संचालित उत्तराखण्ड विकास की ओर अग्रसर हो रहा है और भारत के सबसे प्रगतिशील राज्यों में से एक है, जिसमें एक जीवंत और उत्पादक औद्योगिक वातावरण, निवेशकों के अनुकूल नीतियों, उत्कृष्ट मानव संसाधन, गुणवत्तायुक्त बुनियादी ढांचा, अनुकूल श्रम कानून, पूरे वर्ष उत्कृष्ट मौसम और सामाजिक बुनियादी ढांचा निवेश के लिये मौजूद है।  उत्तराखण्ड दुर्लभ जैव विविधता से समृद्ध है और राज्य में 175 से अधिक दुर्लभ सुगन्धित और औषधीय पौध प्रजातियां पायी जाती है। राज्य में सभी प्रमुख जलवायु क्षेत्र हैं, जिससे बागवानी, पुष्पकृषि तथा कृषि के क्षेत्र में कई व्यवसायिक अवसरों के लिये इसे सक्षम बनाया जा सकता है। उत्तराखण्ड भारत के अग्रणी फलोत्पादक राज्यों में है। वर्तमान परिवेश में जबकि कई क्षेत्रों ने औद्योगिकरण की कीमत चुकायी है, किन्तु  उत्तराखण्ड ने अपने पर्यावरण के संरक्षण का ध्यान रखा है। उत्तराखण्ड की 70 प्रतिशत से अधिक भूमि वनों से आच्छादित है। उत्तराखण्ड राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के बहुत करीब है। शांत ओर शांतिपूर्ण  परिवेश में राज्य रोगियों के स्वास्थ्य संवर्धन के लिए राज्य को एक मेडिकल पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करना चाहता है। उत्तराखण्ड उत्कृष्ट शैक्षणिक केन्द्र के रूप में पहचाना जाता है और राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय कई शिक्षण संस्थान यहां है। यह सुनिश्चित करता है कि उद्योगों के लिए रोजगार हेतु राज्य में जनशक्ति तैयार करने के लिए पूर्ण संसाधन है। राज्य ने विश्व स्तरीय अवस्थापना सुविधाओं युक्त एकीकृत औद्योगिक आस्थानों को विकसित किया है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि कारोबारी माहौल में सुधार के लिए राज्य में निवेशक-अनुकूल वातावरण तैयार किया गया है। राज्य की वर्तमान नीतियों को अन्य प्रदेशों, औद्योगिक संगठनों तथा उद्यमियों के सुझाव/परामर्श से उत्तराखण्ड के हित में तैयार किया गया है और यह राज्य सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। उत्तराखण्ड ने विकास और समृद्धि का रास्ता चुना है और हम समान लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये उत्तराखण्ड में थाईलैण्ड की कम्पनियों से भागीदारी के लिए आग्रह करते हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि उत्तराखण्ड में उपलब्ध विशाल अवसरों के उपयोग के लिए थाईलैण्ड की कम्पनियों उत्तराखण्ड में निवेश के लिये आगे आयेंगी। हमारा यह प्रयास थाईलैण्ड के निवेशको एवं उत्तराखण्ड राज्य दोनों के उज्ज्वल भविष्य के लिये उपयोगी होगा।

Leave A Comment