Breaking News:

‘कलंक’ फिल्म देखने को बेहद उत्‍साहित हैं जाह्नवी कपूर, जानिए ख़बर -

Monday, March 18, 2019

गोवा के मुख्यमंत्री बनेगे बीजेपी के प्रमोद सावंत , जानिए ख़बर -

Monday, March 18, 2019

दो साल में प्रदेश के ढाई लाख युवाओं को जोड़ा गया रोजगार से : सीएम -

Monday, March 18, 2019

युवा मतदाताओं के लिए ‘‘इन्टरेविटव सेशन‘‘ का हुआ आयोजन -

Monday, March 18, 2019

होली खेलें समय त्वचा का रखें खास ख्यालः डा. आशुतोष -

Monday, March 18, 2019

शहर कोतवाल के मौसेरे भाई की गोली मारकर हत्या -

Monday, March 18, 2019

कांग्रेस और भाजपा के बीच एक नई वॉर शुरू -

Sunday, March 17, 2019

उत्तरांचल प्रेस क्लब ने मनाया धूमधाम से होली मिलन समारोह -

Sunday, March 17, 2019

लंबे समय से कैंसर से पीड़ित ,गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का निधन -

Sunday, March 17, 2019

प्रिया प्रकाश की फिल्‍म ‘श्रीदेवी बंगलो’ का टीजर रिलीज -

Sunday, March 17, 2019

राजनीतिक विज्ञापनों का पूर्व सर्टिफिकेशन आवश्यक , जानिए खबर -

Sunday, March 17, 2019

लोकसभा निर्वाचन में मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण : डीएम दीपक रावत -

Sunday, March 17, 2019

बीसी खंड़ूड़ी के पुत्र मनीष खंडूड़ी हुए कांग्रेस में शामिल -

Saturday, March 16, 2019

देहरादून रैली : पीएम मोदी पर जमकर बरसे राहुल गांधी -

Saturday, March 16, 2019

बीसीसीआई ने शहीदों के परिवारों के लिए उठाया सराहनीय कदम -

Saturday, March 16, 2019

‘नोटबुक’ में आतिफ असलम की जगह खुद गाया , सलमान खान ने ‘मैं तारे’! -

Saturday, March 16, 2019

एससी एसटी एक्ट रद्द करने की मांग , जानिए खबर -

Saturday, March 16, 2019

प्रिंसिपल ने गरीब बच्चों को 1700 डेंगू प्रोटेक्शन किट किये वितरित -

Saturday, March 16, 2019

लोकसभा चुनाव उत्तराखण्ड : मीडिया वर्कशाॅप का आयोजन -

Saturday, March 16, 2019

सुप्रीम कोर्ट ने निरस्त किया श्रीसंत पर लगा बैन, जानिए ख़बर -

Friday, March 15, 2019

भारत में लोकतन्त्र का भविष्य

india

भारत विश्व का सबसे बडा लोकतन्त्र है। लगभग 36 करोड से अधिक लोगों को राज्यों की विधान सभाओं और केेन्द्र में लोक सभा के सदस्यों को चुनने के लिए मताधिकार प्राप्त है। 26 जनवरी, 1950 को हमारे संविधान के लागू होेने के पश्चात् लोक सभा के नौ और राज्य विधानसभाओं के लिए इससे भी कई अधिक बार आम चुनाव सम्पन्न हो चुके हैं। इस पूरी अवधि में लोकतान्त्रिक क्रिया कलाप भारत में भली प्रकार होते रहें हैं, जिन्होंने भारतीय लोकतन्त्र को विश्वसनीयता प्रदान की है। जबकि हमारे पडौस में पश्चिम और पूरब दोनों में ही कुछ हद तक उत्तर में भी विभिन्न प्रकार की तानाशाही का उदय होता रहता है। यह प्रवृत्ति अब भी जारी है, भारतीय लोकतन्त्र समय की कसौटी पर खरा उतरा है और इसकी लोकतान्त्रिकता की पश्चिमी देशों में बहुत से नेताओं द्वारा प्रशंसा की गई है। भारत में लोकतन्त्र की इस सफलता के पश्चात् भी, इसके विषय में संदेह एवं भय प्रकट किये गए हैं, निराशावादियों का कहना है कि भारत में लोकतन्त्र की वर्तमान सफलता केवल एक अस्थायी स्थिति है। उनके अनुसार, भारत में लंबी अवधि तक गुलामी का सहा है, इतनी कि दासता की भावना हमारी प्रतिभा और चरित्र का प्रमुख अंग बन चुकी है। भारतीय राजनीति में बहुत से ऐसे तत्व हैं जो भारत को पुनः गुलामी की ओर जाने को मजबूर कर देगें। साम्प्रदायवाद भारत में इतना गहरा समाया हुआ है, और वह लोकतन्त्र की आत्मा को अग्राहय है। भारत में बेहद गरीबी है और गरीबी और निर्धनता लोकतन्त्र एवं लोकतान्त्रिक परम्पराओं के विकास के लिए स्वास्थ्यप्रद नहीं है, क्या उन नागरिकों के जीवन में जीवन का लोकतान्त्रिक तरीका समा सकता है, जोकि घोर सामाजिक और आर्थिक असमानताओं के शिकार हैं। क्षेत्रवाद और प्रान्तवाद भी ऐसे तत्व हैं जोकि भारत में लोकतन्त्र के जिन्दा रहने तक के लिए खतरा बने हुए हैं, जाति, धर्म और भाषा के नाम पर संकुचित वफादारियां हमारे लाखों लोगों को सम्पूर्ण राष्ट्र के संदर्भ में सोचने से रोकती हैं, इसके अतिरिक्त निराशावादियों का यह भी कहना है कि भारतीयों को पर्याप्त राजनीतिक प्रशिक्षण भी प्राप्त नहीं हैं, वे मुश्किल से ही यह जानते हैं कि मताधिकार का प्रयोग कैसे किया जाता है, वे धन के प्रभाव से अपने को मुक्त नहीं रख पाते जिसकी भारतीय चुनावों में बहुत बडी भूमिका हो चली है।

Leave A Comment