Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

भू – अध्यादेश,किसान और भारत सरकार

farmer-in india

भूमि अध्यादेश किसानो के लिए एक ऐसा जंजाल है जो सही और गलत का निर्णय भी उनके लिए बेईमानी लगती है.देश में अनेक किसान ऐसे है जिनका सब कुछ लेदेकार केवल उनकी जमीन ही पूँजी सरीक है.यही किसान अपनी जमीन को बेचने या देश के विकास के लिए जमीन को देने में नही हिचकता परंतु किसान अपनी जमीन का सही हक चाहता है.इनसब पर गौर किया जाय तो किसानो की पूँजी ही उनकी एक मात्र जीवन का दर्पण है उनकी भूमि.मोदी सरकार द्वारा भू अध्यादेश तो आया लेकिन किसानो के लिए कितना हितकर होगा ये तो दूर की बात है पर उससे पहले किसानो के लिए कानूनी लिखित रियाते होना भी आवश्यक है जिससे वह अच्छे दिनों की कल्पना कर सके| भारत सरकार किसी भी सन्गठन का राय लेने के बजाय देश के किसानो से सीधे संवाद करे जिससे उनकी समस्याओ का समाधान सत्यपूर्ण हो सके.

अरुण कुमार यादव (सम्पादक )

Leave A Comment