Breaking News:

आईपीएल : पंजाब टीम ने कोटला की पिच को धीमा करार दिया -

Friday, April 19, 2019

दून संस्कृति ने धूमधाम से मनाई बैसाखी -

Friday, April 19, 2019

सचिवालय कूच करेंगे 108 सेवा के कर्मचारी , जानिए ख़बर -

Friday, April 19, 2019

हनुमान जयंती पर सुंदरकांड का आयोजन, 51 किलो का लड्डू चढ़ाया -

Friday, April 19, 2019

दिव्यांग बच्चे किसी से कम नहीं होते : राज्यपाल -

Friday, April 19, 2019

फिल्म ‘मेंटल है क्या’ के लिए खड़ी हुई नई मुश्किल , जानिए ख़बर -

Friday, April 19, 2019

विभिन्न सामाजिक कार्यों के साथ अनमोल इंडस्ट्रीज ने पूरे किये अपने 25 वर्ष -

Thursday, April 18, 2019

पत्रकार बिजेन्द्र कुमार यादव पर हुए प्राणघातक हमले के मामले की होगी जांच, डीजीपी ने दिए आदेश -

Thursday, April 18, 2019

IPL 2019: ‘ब्रोमांस’ करते नजर आए धवन और पंड्या -

Thursday, April 18, 2019

सेना अधिकारी है दिशा की बहन शेयर की वर्दी वाली तस्वीर -

Thursday, April 18, 2019

दो बच्चों की मां छह बच्चों के पिता के साथ शादी की जिद पर अड़ी, जानिये खबर -

Thursday, April 18, 2019

उत्तराखंड : अप्रैल में बर्फबारी …. -

Thursday, April 18, 2019

बल्लीवाला फ्लाईओवर तीन सालों के भीतर ली 20 लोगों की मौते -

Thursday, April 18, 2019

जून के पहले सप्ताह में उत्तराखण्ड बोर्ड का परीक्षा परिणाम ! -

Wednesday, April 17, 2019

चैपिंयन मामले में अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व का : भट्ट -

Wednesday, April 17, 2019

उत्तराखंड : बारिश और बर्फबारी से फिर ठंड ने दी दस्तक -

Wednesday, April 17, 2019

बारातघर में घुसी बेकाबू कार, तीन लोगों की मौत -

Wednesday, April 17, 2019

बेटे रोहित की मौत प्राकृतिक : उज्जवला शर्मा -

Tuesday, April 16, 2019

ऊंचाई वाले इलाकों में हुई बर्फवारी -

Tuesday, April 16, 2019

स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ करने को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव से चर्चा की -

Tuesday, April 16, 2019

मजदूरों का बाजार

majdur-ka-bazar

वैसे तो देश में कई बाजार देखने को मिलते हैं,जैसे-पलटनबाजार,मीनाबाजार,बरेली का बाजारआदि लेकिन क्याआपने कभी मजदूरों के बाजार के बारे में सोचा है? जी हां,मैं उस बाजार की बात कर रही हूं जहां मेहनत बेची जाती है या मजदूरों को खरीदा जाता है । हमारे देहरादून में भी यह बाजार कई जगह लगता है घण्टाघर,लालपुल पर कई मजदूर सुबह सात बजे से खडे हो जाते हैं फिर एक दिन के खरीदारआकर उन्हें अपने साथ काम करने के लिए ले जातें हैं। ये मजदूर बिहार उ0 प्र0 से बेरोजगारी की मार से बचने के लिए अपने घर परिवार को छोडकर एक सिपाही की तरह शहर रूपी जंग के मैदान में आते हैं, यही है प्रवास। यहां आकर वह अपनी मेहनत बेचते हैं। प्रतिदिन मजदूरी से उनके घर में चूल्हा जल पाता है, और उसी मजदूरी से वह अपने परिवार के लिए पाई-पाई जोडकर भेजते हैं। जिन्हें काम मिलता है, वह तो काम पर लग जाते हैं, लेकिन दुबले-पतले,बूढे मजदूर को हर रोज काम नहीं मिलता तो वह अपनी किस्मत को कोस कर निराश हो जाते हैं। इन मजदूरो को सरकारी योजनाओं का भी पता नहीं रहता इसलिए वह वंचित रहते हैं। काम की तलाश में पहुंचे बिहार के राम सिंह का कहना है कि मनरेगा के तहत उन्हें न काम मिल पा रहा है, और न ही बेरोजगारी भत्ता। जो थोडी मजदूरी भी मिलती है वो बरसात में ठप्प हो जाती है और इनके घर का चूल्हा नहीं जल पाता है। सर्दी-गर्मी की मार झेलते ये मजदूर इतनी मेहनत करके भी पर्याप्त पैसा नहीं पाते हैं। एक दिन के मजदूर दिवस मनाने से कोई फायदा नहीं जबतक इनकी स्थित में सुधार न आए।

– हीना आजमी, बी ए मास कम्युनिकेशन ( साईं इंस्टीट्यूट )

Leave A Comment