Breaking News:

सीएम त्रिवेंद्र ने सिल्वर मेडल विजेता सूरज पंवार को सम्मानित किया -

Tuesday, October 23, 2018

मैच फिक्सिंग से निपटने के लिए श्री लंका ने मांगी भारत से मदद -

Tuesday, October 23, 2018

कपिल शर्मा ने की अपनी शादी की डेट कन्फर्म, जानिए खबर -

Tuesday, October 23, 2018

कांग्रेस ने देहरादून नगरनिगम के पार्षद पद के उम्मीदवार की लिस्ट की जारी, जानिए खबर -

Monday, October 22, 2018

26 से 30 नवंबर तक बैंक कर्मचारी हड़ताल पर -

Monday, October 22, 2018

सुनील उनियाल गामा एवं रजनी रावत समेत कई ने किया नामांकन -

Monday, October 22, 2018

बॉक्स ऑफिस पर छाई फिल्म ‘बधाई हो’, बनाया रेकॉर्ड -

Monday, October 22, 2018

भाई-चारे और शांति के प्रतिक पर निर्दलीय प्रत्याशी ने गुलाब का फूल भेंट कर किया नामांकन -

Monday, October 22, 2018

‘यूके आइकन सीजन -2‘ आॅडिशन का शुभारम्भ -

Sunday, October 21, 2018

परेड ग्राउंड में मैड ने चलाया सफाई अभियान -

Sunday, October 21, 2018

कांग्रेस से दिनेश अग्रवाल बीजेपी से सुनील उनियाल गामा मेयर उम्मीदवार -

Sunday, October 21, 2018

राष्ट्रीय दलों की मुसीबतें बढ़ा रहे “बगावती” कार्यकर्ता -

Sunday, October 21, 2018

विकास पुरूष पं. नारायण दत्त तिवारी पंचतत्व में हुए विलीन -

Sunday, October 21, 2018

अल्ट्रा माॅडर्न प्लांट का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारम्भ -

Sunday, October 21, 2018

योग सीखने ऋषिकेश आई युवती के साथ दुष्कर्म, योग प्रशिक्षक गिरफ्तार -

Saturday, October 20, 2018

बद्रीनाथ दर्शन : राज्यपाल ने देश और राज्य की खुशहाली की कामना की -

Saturday, October 20, 2018

भोजन के लिए एक विकेट पर 10 रुपये पाने वाले पप्पू देवधर ट्राफी के लिए तैयार -

Saturday, October 20, 2018

दशहरा पर किसानों को दिया अमिताभ बच्चन ने बड़ा तोहफा, जानिए खबर -

Saturday, October 20, 2018

मेयर पद के लिए “आप” की प्रत्याशी रजनी रावत,अन्य पार्टियों में हलचल तेज -

Friday, October 19, 2018

देहरादून में हर्सोल्लास के साथ मनाया गया दशहरा पर्व -

Friday, October 19, 2018

मजदूरों का बाजार

majdur-ka-bazar

वैसे तो देश में कई बाजार देखने को मिलते हैं,जैसे-पलटनबाजार,मीनाबाजार,बरेली का बाजारआदि लेकिन क्याआपने कभी मजदूरों के बाजार के बारे में सोचा है? जी हां,मैं उस बाजार की बात कर रही हूं जहां मेहनत बेची जाती है या मजदूरों को खरीदा जाता है । हमारे देहरादून में भी यह बाजार कई जगह लगता है घण्टाघर,लालपुल पर कई मजदूर सुबह सात बजे से खडे हो जाते हैं फिर एक दिन के खरीदारआकर उन्हें अपने साथ काम करने के लिए ले जातें हैं। ये मजदूर बिहार उ0 प्र0 से बेरोजगारी की मार से बचने के लिए अपने घर परिवार को छोडकर एक सिपाही की तरह शहर रूपी जंग के मैदान में आते हैं, यही है प्रवास। यहां आकर वह अपनी मेहनत बेचते हैं। प्रतिदिन मजदूरी से उनके घर में चूल्हा जल पाता है, और उसी मजदूरी से वह अपने परिवार के लिए पाई-पाई जोडकर भेजते हैं। जिन्हें काम मिलता है, वह तो काम पर लग जाते हैं, लेकिन दुबले-पतले,बूढे मजदूर को हर रोज काम नहीं मिलता तो वह अपनी किस्मत को कोस कर निराश हो जाते हैं। इन मजदूरो को सरकारी योजनाओं का भी पता नहीं रहता इसलिए वह वंचित रहते हैं। काम की तलाश में पहुंचे बिहार के राम सिंह का कहना है कि मनरेगा के तहत उन्हें न काम मिल पा रहा है, और न ही बेरोजगारी भत्ता। जो थोडी मजदूरी भी मिलती है वो बरसात में ठप्प हो जाती है और इनके घर का चूल्हा नहीं जल पाता है। सर्दी-गर्मी की मार झेलते ये मजदूर इतनी मेहनत करके भी पर्याप्त पैसा नहीं पाते हैं। एक दिन के मजदूर दिवस मनाने से कोई फायदा नहीं जबतक इनकी स्थित में सुधार न आए।

– हीना आजमी, बी ए मास कम्युनिकेशन ( साईं इंस्टीट्यूट )

Leave A Comment