Breaking News:

बढ़ते अपराधों के बीच दूनवासी दहशत में , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

14 दिसंबर को होगा ‘अपहरण’ सामने , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

कुलपति सम्मेलन 20 दिसम्बर को राजभवन में -

Wednesday, December 12, 2018

दो मुंहा सांप के चक्कर में गए जेल , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

फर्जी पीसीएस अधिकारी को पुलिस ने दबोचा -

Wednesday, December 12, 2018

केदारनाथ धाम में बर्फबारी, जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

छोटे राज्यों का भविष्य राष्ट्रीय दलों के हाथ में सुरक्षित नहींः रतूड़ी -

Wednesday, December 12, 2018

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

मधुमेह बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा …..

Dr priti

देहरादून। मधुमेह का दिल के दौरे से गहरा संबंध है। हाल में किये गए अध्ययन से भी इस बात की पुष्टि हुई है। इस अध्ययन के बारे में मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, देहरादून की एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. प्रीति शर्मा ने बताया, ‘‘दिल के स्वास्थ्य पर मधुमेह के तीव्र प्रभाव को इस अध्ययन से अच्छी तरह से समझा जा सकता है जिसमें पाया गया है कि दिल के दौरे से पीड़ित लगभग आधे रोगियों में मधुमेह होता है और इन मरीजों में स्ट्रोक, पेरिफेरल आर्टरी डिजीज, हार्ट फेल्योर और एट्रियल फाइब्रिलेशन का अधिक खतरा होता है। डॉ. प्रीति शर्मा ने बताया एंजियोप्लास्टी प्रक्रिया में स्टेंट की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से मधुमेह रोगियों के लिए और सबसे अच्छा उपचार विकल्प स्टेंट का उपयोग करना है जिसमें 0 प्रतिशत एसटी दर्ज दी गई है और जो मधुमेह के साथ-साथ सीएडी से पीड़ित रोगियों समेत लगभग सभी रोगियों में उपयोग करने के लिए सबसे सुरक्षित है। सीएडी के साथ-साथ मधुमेह से पीड़ित रोगियों के प्रबंधन के लिए दवा से लेकर इंटरवेंशन प्रक्रिया तक कई उपचार विकल्प उपलब्ध हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यदि आपको मधुमेह है तो आप अपने रक्त ग्लूकोज के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखें ताकि कोरोनरी हृदय रोग और अन्य कार्डियोवैस्कुलर बीमारियांे के आपके जोखिम को कम करने में मदद मिल सके। समय के साथ मधुमेह में रक्त ग्लूकोज का उच्च स्तर रक्त वाहिकाओं और नसों को नुकसान पहुंचा सकता है जो हमारे दिल और रक्त वाहिकाओं को नियंत्रित करते हैं। जिस व्यक्ति को जितना लंबे समय तक मधुमेह होता है, उसे दिल की बीमारी होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है। मधुमेह से पीड़ित लोगों में मधुमेह रहित लोगों की तुलना में कम उम्र में ही हृदय रोग होने की प्रवृत्ति होती है। यह पाया गया है कि मधुमेह नियंत्रण का कोरोनरी धमनी रोग की गंभीरता से भी संबंध है। जिन मरीजों ने मधुमेह पर नियंत्रण नहीं रखा उनमें दिल के दौरे से पहले एचबीए 1 सी 9 से अधिक था, दिल में कई जगह रुकावट थी और एचबीए 1 सी 8 से कम वाले रोगियों की तुलना में अधिक गंभीर था। दिल के दौरे से पीड़ित मधुमेह के रोगियों का उपचार के बाद की जटिलताओं को रोकने के लिए सावधानीपूर्वक इलाज किया जाना चाहिए क्योंकि मधुमेह स्वस्थ होने की प्राकृतिक प्रक्रिया में देरी करता है।

Leave A Comment