Breaking News:

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

पहल : तीन बेटियों ने डेढ़ सौ परिवारों के पास घर-घर पहुंचाया खाने का सामान -

Thursday, April 2, 2020

हम सब उत्तराखंड पुलिस को सहयोग करे: दीपक सक्सेना -

Thursday, April 2, 2020

लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Thursday, April 2, 2020

डीडी उत्तराखंड का प्रसारण 24 घंटे का हुआ -

Wednesday, April 1, 2020

फेक न्यूज या गलत जानकारी देने पर प्रशासन द्वारा होगी कानूनी कार्रवाई -

Wednesday, April 1, 2020

लाकडाऊन के दौरान रखे संयम: पीआरएसआई देहरादून चैप्टर -

Wednesday, April 1, 2020

लॉकडाउन : डीएम के आदेश को रखा ठेंगे पर, जानिए खबर -

Wednesday, April 1, 2020

मुंबई की सड़कों पर खाना बाँटते नज़र आये अली फजल, जानिए कैसे -

Wednesday, April 1, 2020

कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष पद की अपवाह से तूफान, जानिए खबर -

Tuesday, March 31, 2020

आकाश इंस्टीट्यूट ने कोरोना वायरस से मुकाबले को केंद्र सरकार को एक करोड़ रु की सहायता दी -

Tuesday, March 31, 2020

हजारों ई-बुक फ्री में उपलब्ध करने की घोषणा, जानिए खबर -

Tuesday, March 31, 2020

सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराया जाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Tuesday, March 31, 2020

सीएम त्रिवेंद्र पांच माह का देंगे वेतन , जानिए खबर -

Tuesday, March 31, 2020

महिला ने डीजीपी पर लगाया यौन शोषण का आरोप

uk

देहरादून। रेलवे की एक पूर्व महिला कर्मचारी ने उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक बीएस सिद्धू पर यौन शोषण का आरोप लगाया है। उसका कहना है कि वह इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने के लिए पिछले 12 वर्षों से कोशिश कर रही है लेकिन बीएस सिद्धू के दबाव में उसकी एफआईआर दर्ज नहीं हुई। उसने अपने को बीएस सिद्धू से खतरा भी बताया। उत्तराँचल प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में यशोवन टावर टीएच कटारिया मार्ग माहिम वेस्ट मुंबई निवासी एक महिला ने बताया कि वह 2004 में रेवले मुंबई में तैनात थी। उसने बताया कि उस समय उत्तराखंड के मौजूदा डीजीपी बीएस सिद्धू डेप्यूटेशन पर आरपीएफ में मुम्बई आए थे। उसने आरोप लगाया कि एक दिन उन्होंने उसे अपने केबिन में बुलावाया, जब वह उनके कमरे में गई तो बीएस सिद्धू कंप्यूटर पर अश्लील फिल्म देख रहे थे और उन्होंने मुझे भी इस फिल्म देखने का इशारा करते हुए अपने करीब आने और डीनर पर साथ चलने को कहा। महिला ने कहा कि वह यह सब देख और सुनकर भौंचकी रह गई और उन्हें लताड़ते हुए उस कमरे से बाहर जाने लगी तो उसे रोक लिया और कहा कि किसी को कुछ पता नहीं चलेगा, जैसा तुम चाहोगी वैसा ही होगा। महिला का कहना है कि वह हिम्मत कर सिद्धू को धकियाते हुए कमरे से बाहर आ गई, आफिस के लोग बाहर खड़े होकर सब तमाशा देख रहे थे। उसका कहना है कि बीएस सिद्धू के डिनर के प्रस्ताव को जब ठुकरा दिया और साथ जाने से मना कर दिया तो उसी दिन से उसका मानसिक उत्पीड़न शुरु हो गया। उसका मुंबई से पूना तबादला कर दिया गया, इस दौरान उसने बीएस सिद्धू के द्वारा किए गए यौन शोषण, मानसिक उत्पीड़न के विरुद्ध जगह-जगह उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र प्रेषित किए। उसका कहना है कि सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन विशाखा बनाम भारत सरकार के निर्देशानुसार बीएस सिद्धू ने अपने पद से जूनियर अधिकारियों की एक जांच कमेटी को आधार बनाकर सर्विस से उसे बर्खास्त कर दिया। उसका कहना है कि जांच कमेटी बीएस सिद्धू से उच्चाधिकारियों की बननी चाहिए थी, लेकिन सिद्धू द्वारा अपने से कनिष्ठ अधिकारियों की जांच कमेटी बनाई गई। उसका कहना है कि बीएस सिद्धू उच्च पद पर आसिन थे, इसलिए उनके दबाव में उसकी रिपोर्ट भी थाने में नहीं लिखी गई।

Leave A Comment