Breaking News:

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

गांधी पार्क में ओपन जिम का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Monday, November 18, 2019

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

शीघ्र ही नई शिक्षा नीति : निशंक -

Sunday, November 17, 2019

उत्तराखंड : युवा इनोवेटर्स ने विकसित किए ऊर्जा दक्ष वाहन -

Sunday, November 17, 2019

यमकेश्वर : कार्यरत स्टार्ट अप को मुख्यमंत्री ने दिए 10 लाख रूपए -

Sunday, November 17, 2019

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भारत से साध्वी भगवती सरस्वती ने किया सहभाग -

Saturday, November 16, 2019

देहरादून में हुआ भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा का भव्य स्वागत, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

भिक्षा मांग रहे बच्चो को भिक्षा की जगह शिक्षा दे : एडीजी अशोक कुमार -

Friday, November 15, 2019

हरिद्वार : पर्यटकों के लिए खुले राजा जी रिजर्व पार्क के दरवाजे -

Friday, November 15, 2019

शहर में दूसरा प्लास्टिक बैंक हुई स्थापित, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

माँ ने कपड़े सिलकर दूध बेचकर बेटी को पाला आज देश की है टॉपर एथलीट, जानिए खबर

pehchan 1

 

अमृतसर | दिल में जज्बा हो तो कोई भी कार्य आप की सफलता का गाथा लिखता जरूर है ऐसा ही खुश कर दिखाई है एशियाड पदक विजेता खुशबीर कौर की | कौर का परिवार आज भी उस दिन को याद करता है जब वे लोग गौशाला में रहा करते थे और देश की टॉप रेस वॉकर का परिवार एक टूटी चारपाई पर सोता था। 2014 एशियन गेम्स में रजत पदक जीतने वाली खुशबीर का परिवार तंगी के चलते दिन में एक या दो बार का खाना नहीं खाता था। गोशाला से वे किसी तरह एक टूटे-फूटे घर तक आए, जहां बारिश में छत टपकने लगती थी। 25 साल की खुशबीर अब पंजाब पुलिस में डीएसपी हैं और आज भी उस मुश्किल वक्त की यादें ताजा हैं। उनकी मां जसबीर कौर अमृतसर के रसूलपुर कलान गांव में रहती हैं। आने वाले एशियन गेम्स के लिए बेंगलुरु में एक कैंप का हिस्सा बनीं खुशबीर बताती हैं, ‘यह बहुत मुश्किल सफर रहा।’ खुशबीर ने छह साल की उम्र में ही अपने पिता बालकर सिंह को खो दिया था। इसके बाद उनकी मां ने पूरी हिम्मत से चार बेटियों और एक बेटे को कपड़े सिलकर और पास के गांवों में दूध बेचकर पाला।

Leave A Comment