Breaking News:

उत्तराखंड में वेरिफिकेशन के बाद मिलेगा कश्मीरी छात्रों को दाखिलाः मंत्री धन सिंह -

Thursday, February 21, 2019

वर्ल्ड कप 2019 : भारत-पाकिस्तान मैच पर हो सकती है चर्चा? -

Thursday, February 21, 2019

सलमान खान लेंगे कपिल शर्मा के खिलाफ ऐक्शन, जानिए खबर -

Thursday, February 21, 2019

मनाया जा रहा उत्तराखण्ड में वर्ष 2019 रोजगार वर्ष के रूप में, जानिए खबर -

Wednesday, February 20, 2019

दून में फ्लाईओवरों के नाम शहीदों के नाम पर रखे जाएंः यूकेडी -

Wednesday, February 20, 2019

उत्तराखण्ड के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करना सीएम त्रिवेन्द्र की प्राथमिकता, जानिए खबर -

Wednesday, February 20, 2019

क्षय रोग के प्रति जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन -

Wednesday, February 20, 2019

डीएम लेंगी पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों के परिवार को गोद -

Wednesday, February 20, 2019

रणवीर सिंह की फिल्म ‘गली बॉय’ ने की 88 करोड़ की कमाई -

Wednesday, February 20, 2019

15 गरीब कन्याओं का कराया सामूहिक विवाह -

Wednesday, February 20, 2019

पौड़ी और अल्मोड़ा में सबसे अधिक पलायन -

Tuesday, February 19, 2019

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग ने पाकिस्तान व आतंकियों का फूंका पुतला -

Tuesday, February 19, 2019

शहीद मेजर विभूति शंकर ढ़ौडियाल के अंतिम दर्शन में उमड़ा जनसैलाब, सीएम त्रिवेन्द्र पुष्प चक्र अर्पित कर दी श्रद्धांजलि -

Tuesday, February 19, 2019

भारत को वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना चाहिए: हरभजन -

Tuesday, February 19, 2019

फिल्‍म ‘नोटबुक’ से सलमान खान ने रिप्‍लेस किया सिंगर आतिफ असलम को -

Tuesday, February 19, 2019

त्रिवेंद्र सरकार ने पेश किया 48663.90 करोड़ रु का बजट -

Monday, February 18, 2019

समावेशी विकास को समर्पित है बजट-मुख्यमंत्री -

Monday, February 18, 2019

मुख्यमंत्री ने की प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा -

Monday, February 18, 2019

मोहाली स्टेडियम से पंजाब क्रिकेट संघ ने हटावाईं पाकिस्तानी क्रिकेटरों की तस्वीरें -

Monday, February 18, 2019

तुलाज इंस्टीट्यूट में मनाया गया अमौर -

Monday, February 18, 2019

माँ ने कपड़े सिलकर दूध बेचकर बेटी को पाला आज देश की है टॉपर एथलीट, जानिए खबर

pehchan 1

 

अमृतसर | दिल में जज्बा हो तो कोई भी कार्य आप की सफलता का गाथा लिखता जरूर है ऐसा ही खुश कर दिखाई है एशियाड पदक विजेता खुशबीर कौर की | कौर का परिवार आज भी उस दिन को याद करता है जब वे लोग गौशाला में रहा करते थे और देश की टॉप रेस वॉकर का परिवार एक टूटी चारपाई पर सोता था। 2014 एशियन गेम्स में रजत पदक जीतने वाली खुशबीर का परिवार तंगी के चलते दिन में एक या दो बार का खाना नहीं खाता था। गोशाला से वे किसी तरह एक टूटे-फूटे घर तक आए, जहां बारिश में छत टपकने लगती थी। 25 साल की खुशबीर अब पंजाब पुलिस में डीएसपी हैं और आज भी उस मुश्किल वक्त की यादें ताजा हैं। उनकी मां जसबीर कौर अमृतसर के रसूलपुर कलान गांव में रहती हैं। आने वाले एशियन गेम्स के लिए बेंगलुरु में एक कैंप का हिस्सा बनीं खुशबीर बताती हैं, ‘यह बहुत मुश्किल सफर रहा।’ खुशबीर ने छह साल की उम्र में ही अपने पिता बालकर सिंह को खो दिया था। इसके बाद उनकी मां ने पूरी हिम्मत से चार बेटियों और एक बेटे को कपड़े सिलकर और पास के गांवों में दूध बेचकर पाला।

Leave A Comment