Breaking News:

सोशल मीडिया पर कार्तिक आर्यन की मां की चर्चा , जानिए खबर -

Saturday, June 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1245 , जिनमे 422 मरीज हुए ठीक -

Saturday, June 6, 2020

नेक कार्य : सोनू सूद ने जहाज बुक कर उत्तराखंड के प्रवासियों को घर भेजा -

Saturday, June 6, 2020

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

मां गंगा में 6980 लावारिस अस्थि कलश प्रवाहित , जानिए खबर

pahal

हरिद्वार। हरिद्वार में गंगा में 6980 लावारिस अस्थि कलश प्रवाहित किए गए। इस मौके पर देवोत्थान सेवा सेवा समिति के अध्यक्ष अनिल नरेन्द्र ने कहा कि अब तक उनकी संस्था द्वारा 01 लाख 36 हजार लावारिस अस्थि कलशों को गंगा में प्रवाहित कराया जा चुका है। उन्होंने कहा कि साल दर साल अस्थि कलशों की संख्या में कमी आ रही है। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि लोग अपने पूर्वजो को लेकर जागरुक हो रहेे है। उनकी संस्था का उद्देश्य भी युवाओं में भारतीय संस्कृति को लेकर जागरुकता जगाना है और वे इसमें सफल हो रहे है। पितृपक्ष की सबसे बड़ी व ऐतिहासिक 17वीं अस्थि कलश विसर्जन यात्रा निष्काम सेवा ट्रस्ट भूपतवाला हरिद्वार से किया गया। रास्ते में हड़की पौड़ी सहित कई स्थानों पर धार्मिक और समाजिक संस्थाओं के द्वारा यात्रा का स्वागत किया गया। कनखल के सतीघाट पर पूर्ण विधान से सभी अस्थि कलशों को मां गंगा में प्रवाहित कराया गया। इस मौके पर अनिल नरेन्द्र ने बताया कि इस बार समिति के सदस्यों ने भारत के कई राज्यों हरियाणा, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश व दिल्ली, एनसीआर के श्मसान घाटों से लावारिस अस्थियों को एकत्र किया। उन्होंने कहा कि उनकी संस्था द्वारा लगातार 17 वर्षो से यह कार्य किया जा रहा है। जिसमें सभी का सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व में दो बार पाकिस्तान से भी लावारिस अस्थियों का लाया गया है। अब अमेरिका से भी अस्थियों को लाने का प्रयास किया जा रहा है। कहा कि उन्हें ज्ञात हुआ है कि अमेरिका में रहने वाले एक दंपत्ति ने गंगा में अस्थि विसर्जन की चाह में अस्थियों को कई वर्षो संे संभाल कर रखा है। वे इस संबंध में भारत सरकार से भी वार्ता कर रहे है। अनुमति मिलने पर उन अस्थियों को भी गंगा में प्रवाहित कराया जायेगा। संस्था के महामंत्री विजय शर्मा ने बताया कि 5 झांकी , बैडबाजों और करीब 400 श्रद्धालुओं के साथ यात्रा दिल्ली से हरिद्वार पहुंची। उन्होंने यात्रा में शामिल सभी सदस्यों का आभार व्यक्त किया। धर्मयात्रा महासंघ के अध्यक्ष रविन्द्र गोयल की ओर से सभी सदस्यों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में सुमन गुप्ता, एमएम मेहता, पंकज आंगरा, उमेश कौशिक, रामनाथ लूथरा, सतीश वर्मा सहित अन्य मौजूद रहे। दून डिफेन्स कॅरियर पाॅइन्ट के सेना से अवकाश प्राप्त भूतपूर्व अधिकारी नरेश कान्त थपलियाल जो कि संस्था में छात्रों को एसण्एसण्बी की प्रशिक्षण देते है तथा भूतपूर्व शमशेर सिंह थापा व नितेश थापा जो कि शारीरिक प्रशिक्षण देते है उन्होने भी आयोजित पराक्रम पर्व में छात्रों का उत्साह बढाया तथा उनको सेना में जाने के लिए प्रेरित किया।

Leave A Comment