Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

मिसाल : 4 अनाथ बच्चे को दंपती ने लिए गोद , जानिए ख़बर

गुवाहाटी | असम के जोरहाट में पति देवव्रत और पत्नी संतना शर्मा ने अपने जीवन का बड़ा हिस्सा युवाओं को पढ़ाने और बच्चों के साथ समय व्यतीत करने में बिताया। इस दंपती ने मानवता की मिसाल पेश की है। लेकिन जब इस दंपती के निजी जीवन की बात आई, तो वे 25 साल तक अपनी स्वेच्छा से निःसंतान रहे। हाल ही में उत्तरी असम में चाय बागानों में हुई एक त्रासदी ने उनका जीवन बदल दिया। उन्होंने चार अनाथ बच्चों को गोद लिया है। असम के गोलाघाट और जोरहाट में इस फरवरी में अवैध शराब पीने से 150 से अधिक लोगों की मौत हो गई और उनके कई बच्चे अनाथ हो गए। दंपती ने ऐसे ही चार अनाथ भाई-बहनों को पालने का फैसला लिया। उन्होंने अप्रैल के अंत में बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) की सहमति के बाद चारों बच्चों को अपना लिया और घर ले आए। देवव्रत जोरहाट कॉलेज के प्रिंसिपल हैं, जबकि उनकी पत्नी संतना जोरहाट जाति विद्यालय के प्रिंसिपल हैं। जोरहाट जाति विद्यालय एक क्षेत्रीय भाषाई स्कूल है जो सामुदायिक सहायता से चलता है। चारों बच्चे हलमीरा चाय के बागान में अपने माता-पिता के साथ रहते थे। यह वही स्थान है जहां पर जहरीली शराब पीने से सबसे ज्यादा मौतें हुई थीं। जो बच्चे पढ़ाई-लिखाई से दूर थे वे शर्मा परिवार में कदम रखते ही, किताबों की दुनिया में डूब गए। यहां आकर चारों भाई-बहनों को अपने जीवन का एक नया अर्थ जानने को मिला।

Leave A Comment