Breaking News:

दर – दर भटक रही है अपने बच्चे के साथ यह महिला, जानिए खबर -

Thursday, January 18, 2018

बिग बॉस के इस प्रतिभागी का चेहरा सर्जरी से हुआ खराब, जानिए है कौन -

Thursday, January 18, 2018

प्रदेश में भू कानून में परिवर्तन की मांग को लेकर “हम” का धरना -

Thursday, January 18, 2018

शासकीय योजनाओं का हो व्यापक प्रचार-प्रसार : डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय -

Thursday, January 18, 2018

केंद्रीय वित्तमंत्री के समक्ष सीएम ने रखी ग्रीन बोनस की मांग -

Thursday, January 18, 2018

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह -

Wednesday, January 17, 2018

पर्वतीय राज्यों को मिले 2 प्रतिशत ग्रीन बोनस : सीएम -

Wednesday, January 17, 2018

सिर दर्द हो तो करे यह उपाय …. -

Monday, January 15, 2018

उत्तरायणी महोत्सव में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम -

Monday, January 15, 2018

सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का दिया प्रस्तुतीकरण -

Monday, January 15, 2018

सीएम ने ईको फ्रेण्डली किल वेस्ट मशीन का किया उद्घाटन -

Monday, January 15, 2018

औद्योगीकरण को बढ़ावा देने को लेकर प्रदेश में सिंगल विंडो सिस्टम लागू -

Monday, January 15, 2018

युवा क्रिकेटर के लिए भारतीय तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मांगी मदद -

Sunday, January 14, 2018

कक्षा सात की बालिका ने प्रधानमंत्री के लिए लिखी चिट्ठी, जानिए खबर -

Sunday, January 14, 2018

हरियाली डेवलपमेंट फाउंडेशन ने की गरीब, अनाथ एवं बेसहारा लोगो की मदद -

Sunday, January 14, 2018

रेडिमेड वस्त्रों के 670 सेंटर स्थापित किये जायेंगेः सीएम -

Sunday, January 14, 2018

सीएम ने 14 विकास योजनाओं का किया शिलान्यास -

Saturday, January 13, 2018

मेजर ध्यानचंद देश के रत्न फिर भी नहीं मिला भारत रत्न

mejar dhyanchand

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद कौन हैं ?और क्यों जनता अक्सर उन्हें भारतरत्न देने की मांग करती है | स्वतंत्रता के पहले जब भारतीय हॉकी टीम विदेशी दौरे पर थी, भारत ने 3 ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते और खेले गए 48 मैचो में से सभी 48 मैच भारत ने जीते| भारत 20 वर्षो से हॉकी में अपराजेय था| हमने अमेरिका को खेले गए सभी मेचो में करारी मात दी,इसी के चलते अमेरिका ने कुछ वर्षों तक भारत पर प्रतिबन्ध लगा दिया था, ध्यानचंद के प्रशंसको की लिस्ट में हिटलर का नाम सबसे ऊपर आता है| हिटलर ने ध्यानचंद को जर्मनी की नागरिकता लेने के लिए प्रार्थना की, साथ ही जर्मनी की ओर से खेलने के लिए आमंत्रित किया’उसके बदले उन्हें सेना में अधिकारी का पद और बहुत सारा पैसा देने की बात कही लेकिन जवाब में ध्यानचंद ने उन्हें कहा कि “मैं पैसों के लिए नहीं देश के लिए खेलता हूँ…!” कैसे हिटलर ध्यानचंद के प्रशंसक बने? जब जर्मनी में हॉकी वर्ल्डकप चल रहा था तब एक मैच के दौरान जर्मनी के गोल कीपर ने उन्हें घायल कर दिया| इसी बात का बदला लेने के लिए ध्यानचंद ने टीम के सभी खिलाडियों के साथ एक योजना बनाई, भारतीय टीम ने गोल तक बॉल पहुचाने के बाद भी गोल नहीं किया और बॉल को वहीं छोड़ दिया.यह जर्मनी के लिए बहुत शर्म की बात थी. एक मैच ऐसा भी था,जिसमे ध्यानचंद एक भी गोल नहीं कर पा रहे थे .इस बीच उन्होंने रेफरी से कहा-“मुझे मैदान की लम्बाई कम लग रही है..!”जांच करने पर ध्यानचंद सही पाए गए, और मैदान को ठीक किया गया.उसके बाद ध्यानचंद ने उसी मैच में 8 गोल दागे |वे एक अकेले भारतीय थे जिन्होंने आजादी से पहले भारत में ही नहीं जर्मनी में भी भारतीय झंडे को फहराया| उस समय हम अंग्रेजो के गुलाम हुआ करते थे,भारतीय ध्वज पर प्रतिबंध था.इसलिए उन्होंने ध्वज को अपनी नाईटड्रेस में छुपाया और उसे जर्मनी ले गए | इस पर अंग्रेजी शासन के अनुसार उन्हें कारावासहो सकती थी,लेकिन हिटलर ने ऐसा नहीं किया. जीवन के अंतिम समय में उनके पास खाने के लिए पैसे नहीं थे.इसी दौरान जर्मनी और अमेरिका ने उन्हें कोच का पद ऑफर किया लेकिन उन्होंने यह कहकर नकार दिया कि “अगर मैं उन्हें हॉकी खेलना सिखाता हूँ, तो भारत और अधिक समय तक विश्व चैंपियन नहीं रहेगा..!” लेकिन भारत की सरकार ने उन्हें किसी प्रकार की मदद नहीं की तदुपरांत भारतीय आर्मी ने उनकी मदद की|एक बार ध्यानचंद अहमदाबाद में एक हॉकी मैच देखने गए. लेकिन, उन्हें स्टेडियम में प्रवेश नहीं दिया गया,स्टेडियम संचालको ने उन्हें पहचानने से इनकार कर दिया .इसी मैच में जवाहरलाल नेहरु भी उपस्थित थे|आख़िरकार क्रिकेट के आदर्श सर डॉन ब्रेडमैन ने कहा आप बताएं क्या ध्यानचंद की उपलब्धियां भारतरत्न के लिए पर्याप्त नहीं है? लगभग 50 से भी अधिक देशों द्वारा उन्हें 400 से अधिक अवार्ड प्राप्त हुए| सरकार ध्यानचंद की उपलब्धियाँ को ध्यान में रखते हुए भारत रत्न से नवाज कर उनके देश भक्ति को जीवित रखे |

Leave A Comment