Breaking News:

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

ऑटो-रिक्शा चालकों ने की आर्थिक सहायता की मांग -

Sunday, May 24, 2020

दुःखद : महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या -

Sunday, May 24, 2020

अन्नपूर्णा रोटी बैंक चैरिटेबल ट्रस्ट पुलिस कर्मियों को पुष्प भेंट किया सम्मान -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो कि संख्या हुई 317 -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड: राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 298 -

Sunday, May 24, 2020

पानी में डूबकर दम घुटने से हुई युवती की मौत -

Saturday, May 23, 2020

उत्तराखंड में कोरोना का कहर , मरीजो की संख्या हुई 244 -

Saturday, May 23, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कांस्टेबल स्व0 संजय गुर्जर की पत्नी को 10 लाख रूपये का चेक सौंपा -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 173 हुई -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना की मार: ठेले पर फल बेच जीविका चलाने को मजबूर यह कलाकार -

Saturday, May 23, 2020

सचिन आनंद एंव गणेश चन्द्र ठाकुर चुने गए कोरोना वॉरियर्स ऑफ द डे -

Friday, May 22, 2020

मैड संस्था तेज़ बारिश में नागरिक मुद्दों के लिए की मार्च

MAD

भारी पुलिस उपस्थिति और कठोर मौसम के बीच, दून के शिक्षित छात्रों के संगठन, मेकिंग ए डिफ्फेरेंस बाय बीइंग द डिफ्फेरेंस (मैड) ने 50 से अधिक स्वयंसेवकों के साथ दून सुधारने के लिए उच्च न्यायालय के निर्देशों के लिए अपना समर्थन दिखाने के लिए मार्च किया। गांधी पार्क सर शुरू हुई यह मार्च नगर निगम में नगर आयुक्त जोगदंडे को एक ज्ञापन सौंपने के साथ समाप्त हुई। मैड सदस्यों ने बताया कि वह समय समय पर अपने सुझाव और रिपोर्ट नगर निगम के साथ साँझा करते हैं पर नगर निगम के किसी भी कार्यकर्ता से शायद ही कभी कोई प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है। आज शाम 5 बजे मैड के करीब 50 सदस्यों ने मिलकर गांधी पार्क से नगर निगम तक एक मार्च अपने इस सन्देश को व्यक्त करने के लिए करी कि देवभूमि के नागरिक उच्च न्यायालय के फैसलों और देहरादून शहर में प्रशासन की स्थिति के बारे में किए गए उनके अवलोकनों के साथ पूरी तरह से सहमत हैं। फैसले में जो कहा गया है, उसके अलावा मैड कुछ और सुझाव नगर निगम को देना चाहता है। रिस्पना और बिंदाल नदियों के तल पर बसी बस्तियों के पुनर्जीवन को नगर निगम को गंभीरता से लेना चाहिए। राजनीतिक दबाव को खारिज करते हुए, नगर निगम को एक कट ऑफ डेट स्थापित करनी चाहिए और फिर अतिक्रमण हटाने की ओर आगे बढ़ना चाहिए। यहां तक कि दुर्भाग्यपूर्ण सरकारी अध्यादेश में भी दी गई समय सीमा तीन साल है। इससे पहले कि यह तीन साल खत्म हो और इस सन्दर्भ में कोई योजना, काम या कोई कार्रवाई नहीं की जाती है, मैड सरकार और विशेष रूप से नगर निगम से आग्रह करते हैं कि वे उच्च न्यायालय के निर्देशों को गंभीरता से लें और अपना होमवर्क तैयार करें। इनके अन्य मुद्दों में नगर निगम को सभी पुनर्स्थापित सार्वजनिक स्थानों के लिए नीति तैयार करनी चाहिए। शहर में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां उच्च न्यायालय के निर्देशों के बाद किए गए अतिक्रमण को हटाने के बाद, फुटपाथ और चक्र लेन बनाने के लिए पर्याप्त जगह उपलब्ध है। लेकिन इन्हें बनाने में पर्यावरण अनुकूल प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए और क्षेत्र के पेड़ों का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। चूंकि यह नगर निगम के लिए एक सुनहरा समय है, जहां यह राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त है, इस अवसर का फायदा उठाया जाना चाहिए और देहरादून के सुधार के लिए कठिन निर्णय लागू किए जाने चाहिए। शहर को आज बेहतर जल निकासी व्यवस्था की जरूरत है, इसे इसके क्रुद्ध बुनियादी ढांचे के लिए समाधान की जरूरत है। मैड जोगदंडे जी को नगर निगम आयुक्त के रूप में एक दृष्टि बयान के साथ आने का आग्रह करते हैं कि आप देहरादून के लिए क्या योजना बना रहे हैं और यह अंत कैसे प्राप्त होगा। नगर आयुक्त विजय जोगदंडे ने मैड के इन सुझावों को सकारात्मक रूप में लिया और सभी सुझावों पर काम करने का वादा भी किया। इसके बाद उन्होंने मैड सदस्यों को चाय का निमंत्रण भी दिया। इस मार्च के दौरान संस्थापक अध्यक्ष अभिजय नेगी, सात्विक निझों, हृदयेश शाही, विजय प्रताप सिंह, विनोद बगियाल, शरद माहेश्वरी, शार्दुल असवाल, आर्ची सहित अन्य सदस्य मौजूद रहे।

Leave A Comment