Breaking News:

जान की बाजी लगा कर अपने कर्तव्यों से होमगार्ड्स पीछे नहीं हटते : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, December 7, 2019

हैदराबाद : एनकाउंटर में मारे गये चारो बलात्कारी -

Friday, December 6, 2019

इस अभिनेत्री को एक घंटे के परफॉर्मेंस के लिए मिलेंगे 3 करोड़ -

Friday, December 6, 2019

उत्तराखंड : सरकार ने सदन में पेश किया अनुपूरक बजट -

Friday, December 6, 2019

स्वीडन के राजा और रानी ने की मां गंगा की पूजा -

Friday, December 6, 2019

11 साल के छात्र ने बनाया हवा से चलने वाली बाइक -

Friday, December 6, 2019

देहरादून रेलवे स्टेशन दिखेगा नए रंग और ढंग में, जानिए खबर -

Friday, December 6, 2019

हरिद्वार में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का हुआ लोकार्पण, जानिए खबर -

Thursday, December 5, 2019

वर्तमान पीढ़ी अपने माता-पिता के त्याग एवं समर्पण को सदैव याद रखे : राज्यपाल -

Thursday, December 5, 2019

बलात्कार की क्रूर घटनाओ का कारण है पोर्न साइट्स : भास्कर चुग -

Thursday, December 5, 2019

दुःखद : ट्रेन से कट कर युवक की मौत -

Thursday, December 5, 2019

गैरसैंण: पूर्व सीएम हरीश रावत का उपवास -

Thursday, December 5, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने पोर्टल ‘सहयोग’ किया लांच -

Thursday, December 5, 2019

ऑपरेशन मुक्ति : पठन-पाठन सामग्री एवं जूते और स्वेटर वितरित -

Wednesday, December 4, 2019

प्याज 120 रुपये प्रति किलो तक बिका, जानिए खबर -

Wednesday, December 4, 2019

उत्तराखंड विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू, जानिए खबर -

Wednesday, December 4, 2019

डिजिटल फैशन, फैशन इंडस्ट्री और ग्राहकों की सोच को बदल रहाः रूपल दलाल -

Wednesday, December 4, 2019

नागरिकता बिल के प्रस्तावित संशोधन का स्वागत : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, December 4, 2019

खेत खोद हज़ारों रुपयों के प्याज़ चुरा ले गये चोर, जानिए खबर -

Wednesday, December 4, 2019

एक ही परिवार के दो लोगो की हत्या , हत्या कर तीनों ने की आत्महत्या -

Tuesday, December 3, 2019

युवाओं ने झोपड़ी में गुजारा कर रहे शहीद के परिवार को भेंट किया , खूबसूरत घर

मध्यप्रदेश के देपालपुर में पीर पीपलिया के हवलदार मोहन सिंह सुनेर बीएसएफ (सीमा सुरक्षा बल) का हिस्सा थे। वह त्रिपुरा में आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए थे। उनके निधन के 27 वर्षों बाद भी उनका परिवार झोपड़ी में अपनी जिंदगी गुजार रहा था। सरकार ने भी शहीद के परिवार की सुध नहीं ली! शहीद के परिवार की हालत देख कुछ युवाओं ने ‘वन चेक-वन साइन’ नाम से एक अभियान शुरू किया। अभियान से जुड़े विशाल राठी बताते हैं कि मकान बनाने के लिए 11 लाख रुपये इकट्ठा हुए थे, जिनमें से 10 लाख में घर तैयार हुआ।

युवाओं ने शहीद की विधवा राजू बाई को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक आलीशान घर भेंट किया, जिसकी खूब तारीफ हो रही है। सबसे शानदार पल था गृह प्रवेश का मौका। इसके लिए सभी भाइयों ने उनसे राखी बंधवाई। उसके बाद उन्होंने अपनी हथेलियां जमीन पर बिछा दीं, जिसपर चलकर ही वह घर में दाखिल हुईं। जानकारी हो की मोहन सिंह का परिवार मजदूरी करके अपना पेट भर रहा था, क्योंकि 700 रुपये की पेंशन तीन लोगों के लिए काफी नहीं थी। परिवार को किसी सरकारी योजना का लाभ नहीं मिला।

Leave A Comment