Breaking News:

अगर तैयारी पूरी थी तो परिणाम क्यों नहीं, जानिए खबर -

Wednesday, May 23, 2018

देश मे तापमान 40 डिग्री के पार, उत्तराखण्ड में अलर्ट -

Wednesday, May 23, 2018

स्वरोजगार से लगेगा पलायन पर अंकुश : मुख्यमंत्री -

Wednesday, May 23, 2018

दिल्ली सरकार ने 575 निजी स्कूलों को दिया बढ़ी फीस वापस करने का आदेश -

Wednesday, May 23, 2018

पीएम द्वारा चारधाम महामार्ग विकास परियोजना के प्रगति की सराहना, जानिए ख़बर -

Wednesday, May 23, 2018

कुमारस्वामी बने कर्नाटक के सीएम, विपक्षी ने दिखाई एकता -

Wednesday, May 23, 2018

उत्तराखण्ड में होगी टी.वी. सीरियल स्पिलिट विला सीजन 11 की शूटिंग जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

कुमारस्वामी कल लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ -

Tuesday, May 22, 2018

हाईकोर्ट ने एकलपीठ के आदेश को किया रद्द, निकाय चुनाव कराने का रास्ता साफ -

Tuesday, May 22, 2018

फिल्म ‘सूरमा’ का नया पोस्टर रिलीज, फिल्म 13 जुलाई को होगी रिलीज -

Tuesday, May 22, 2018

एसबीआई का घाटा 7718 करोड़ पर पहुंचा जानिए ख़बर -

Tuesday, May 22, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने केदारनाथ धाम में 10 बैड के अस्पताल का किया उद्घाटन -

Monday, May 21, 2018

शराब दुकानों के आवंटन में करोड़ो का खेल : विकेश सिंह नेगी -

Monday, May 21, 2018

एक खतरनाक वायरस जो चमगादड़ से फैलता है जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

पुजारी ने सीएम नायडू पर लगाया 100 करोड़ के घोटाले का आरोप, जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

हरियाणा बोर्ड ने 10वीं का रिजल्‍ट जारी किया, 51% बच्‍चे पास -

Monday, May 21, 2018

आंध्र प्रदेश स्पेशल ट्रेन में ग्वालियर के पास 4 डिब्बों में लगी आग जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

भारत ने किया ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण जानिए ख़बर -

Monday, May 21, 2018

उत्तराखंड पुलिस ने किया मांउण्ट एवरेस्ट फतह, मुख्यमंत्री ने दी बधाई -

Sunday, May 20, 2018

पीएम मोदी कल करेंगे राष्ट्रपति पुनित के साथ बैठक -

Sunday, May 20, 2018

युवा इंजीनियर भीख मांगते बच्चों का भविष्य बनाने के लिए कर रहा पदयात्रा, जानिए ख़बर

रुद्रप्रयाग। सड़कों पर भीख मांगते बच्चों को लगभग हम रोज ही देखते हैं। कई लोग उन्हें कुछ पैसे देते हैं तो कुछ लोग ऐसा न करने की नसीहत देकर चलते बनते हैं। वहीं, कुछ लोग उनकी इस हालत के लिए सरकार को कोसते हैं। जबकि सच्चाई यह है कि लगभग हर प्रदेश में भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए सरकारी स्तर पर विभाग भी हैं और योजनाएं भी। इतना ही नहीं ज्यादातर शहरों में भिक्षुक गृह भी बने हैं, लेकिन उनमें से अधिकतर खाली ही हैं। ऐसे में दिल्ली के युवा इंजीनियर आशीष शर्मा ने बाल भिक्षावृत्ति रोकने के लिए एक अनोखे अभियान की शुरुआत की है। आशीष पूरे देश में 17 हजार किलोमीटर की पदयात्रा कर इसे रोकने के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। आशीष शर्मा ने बताया कि वह कक्षा छह से ही वृद्धाश्रम जा रहे हैं। जल्द ही उन्हें अहसास हो गया कि इस समस्या की जड़ बच्चों में ही है। अगर बच्चे ही खुश नहीं होंगे तो बुजुर्ग कैसे सुखी रह सकेंगे। सड़कों पर हजारों बच्चे भीख मांगते दिख जाते हैं, लेकिन कोई उनके लिए कुछ नहीं करता है। वे उनके लिए कुछ करना चाहता थे। लेकिन पता था कि व्यक्तिगत रूप से 50 से 100 बच्चों से मिल सकते हैं, इसलिए आशीष ने अपने लक्ष्य को पाने के लिए पूरी युवा पीढ़ी को जोड़ने की शुरुआत की। उन्होंने बताया कि मैकेनिकल इंजीनियर से पढ़ाई करने के बाद अपने वन गो वन इम्पैक्ट को पूरा करने के लिए जॉब छोड़ दी और बीती 22 अगस्त 2017 से अपने सपने को पूरा करने के लिए पदयात्रा पर निकले। अशीष अब तक पहले चरण मे 4,219 किलोमीटर से ज्यादा चल चुके हैं। दुआएं फाउंडेशन के तहत 17 हजार किमी की पदयात्रा को आशीष ने उनमुक्त भारत का नाम दिया है। इस अभियान के तहत देश के 29 राज्यों व सात केंद्र शासित राज्यों के 4900 गांवों में बाल भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए जागरूक किया जाएगा। उनका कहना है कि वे लोगों को यह बताना चाहते हैं कि भीख मांगते बच्चों को गाली न दें और शोषण करने के बजाय उन्हें समाज की मुख्यधारा में शामिल करने में मदद करें। अपने इस अभियान के तहत आशीष स्कूल-कॉलेजों के प्रिंसिपल और अधिकारियों से भी मिलकर जागरूकता फैलाने के लिए सहयोग मांग रहे हैं। बाल भिक्षुओं को समाज में शामिल कर एक बेहतर भविष्य देने की कवायद में उनको सहयोग भी मिल रहा है। वह आगामी 14 जून 2018 को उनमुक्त दिवस मनाने की तैयारी कर रहे हैं। वह चाहते हैं कि इस आयोजन में लोग भीख मांगने वाले बच्चों की बेहतर शिक्षा दिलाने व एक आदर्श समाज बनाने की शपथ लें। आशीष एक मोबाइल एप भी डेवलप कर रहे हैं, जिसकी मदद से पांच किलोमीटर के दायरे में किसी भी बाल भिक्षुक दिखने पर उसकी जानकारी अपलोड की जाए, ताकि आसपास के पुलिस अधिकारी व अनाथाश्रम उस बच्चे की मदद कर सकें। वह अभी तक जम्मू, हिमाचल, पंजाब, हरयाणा, राजस्थान, गोआ, दमन, सिलवासा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश का सफर तय कर चुके है।

 

 

Leave A Comment