Breaking News:

2019 के शैक्षणिक सत्र में आधा हो जाएगा NCERT का पाठ्यक्रम -

Sunday, February 25, 2018

आपदा पुनर्निर्माण कार्य में मानकों की उड़ाई जा रही धज्जियां -

Sunday, February 25, 2018

एनएच-74 मुआवजा घोटाले की 300 करोड़ की राशि कहां गई : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत -

Sunday, February 25, 2018

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर 2-1 से सीरीज पर किया कब्जा -

Sunday, February 25, 2018

श्रीदेवी का 54 की उम्र में आकस्मिक निधन -

Sunday, February 25, 2018

जीएसटी ‘ई-वे बिल’ एक अप्रैल से लागू किया जा सकता है -

Saturday, February 24, 2018

सुपर डांसर के टॉप-5 में पहुंचे, देहरादून के आकाश थापा -

Saturday, February 24, 2018

भारत में गरीब और गरीब हो रहे हैं… -

Saturday, February 24, 2018

‘इन्वेस्टर मीट’ की सजावट में खर्च हो गए करोड़ रुपये -

Saturday, February 24, 2018

हेमकुंड साहिब के कपाट 25 मई को खुलेंगे -

Saturday, February 24, 2018

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

यूसीए ने बीसीसीआई मान्यता के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

cri

देहरादून | उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को सत्रह वर्ष के लम्बे इंतजार के बाद भी बीसीसीआई से मान्यता न मिलने से क्षुब्ध उत्तराखण्ड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) ने देश की सर्वोच्च अदालत का दरवाजा खटखटाया है। यूसीए के सचिव दिव्य नौटियाल ने उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को बीसीसीआई से मान्यता दिलाने के संबंध में एक अपील सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की है। उत्तराखण्ड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के सचिव दिव्य नौटियाल ने बताया कि, उत्तराखण्ड को नये राज्य के तौर पर 17 वर्ष हो गये हैं। बावजूद इसके बोर्ड आॅफ कंट्रोल फाॅर क्रिकेट इन इण्डिया (बीसीसीआई) ने उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को मान्यता नहीं दी है। बोर्ड का मत है कि प्रदेश के कार्यरत चारों क्रिकेट एसोसिएशनें एक मंच पर आये तो वो मान्यता प्रदान करेगा। वहीं प्रदेश सरकार भी इस मामले में कोई विशेष दिलचस्पी नही ले रही है। असल में बीसीसीआई प्रदेश की चंद एसोसिएशनों के कर्ताधर्ताओं के रसूख के चलते कोई फैसला लेने से बच रहा है। दिव्य नौटियाल ने बताया कि, जब कोई भी जिम्मेदार महानुभाव हमारी बात सुनने को तैयार नहीं है और जान-बूझकर सच्चाई व तथ्यों की अनदेखी की जा रही है। ऐसे में उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट एवं प्रतिभाशाली क्रिकेटरों के भविष्य की खातिर हमने सर्वोच्च न्यायालय की शरण ली है। उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को बीसीसीआई से मान्यता दिलाने के संबंध में 29 नंबवर 2017 को एक हस्तक्षेप याचिका हमने सुप्रीम कोर्ट आफ इण्डिया में दाखिल की थी। जिस पर सुनवाई करते हुये चीफ जस्टिस आॅफ इण्डिया जस्टिस दीपक मिश्र जी, जस्टिस ए.एम. खानविलकर जी एवं जस्टिस डी.वाई. चंद्रचूड़ जी तीन जजों की बेंच ने मामला बीसीसीआई की प्रशासनिक कमेटी को सौंप दिया है। सुप्रीम कोर्ट के समक्ष संस्था का पक्ष जाने-माने वकील सोली सोराब एवं सुमन ज्योति खेतान ने रखा। उत्तराखण्ड क्रिकेट एसोसिएशन (यूसीए) के अध्यक्ष रामशरण नौटियाल ने बताया कि, जस्टिस लोढा कमेटी की सिफार्यिाों के क्रम में बीसीसीआई ने सर्वोच्च न्यायालय में जुलाई 2016 में उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को पूर्ण सदस्यता देने के लिये अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल करने के लगभग डेढ वर्ष बीत जाने के बाद भी इस संबंध में कोई ठोस पहल व निर्णय बीसीसीआई ने नहीं लिया है। यूसीए के सचिव दिव्य नौटियाल ने बताया कि, पिछले 12 वर्षों से हमारी एसोसिएशन उत्तराखण्ड राज्य क्रिकेट को बीसीसीआई से मान्यता दिलाने के लिये प्रयासरत है। इसके लिए हमने माननीय प्रधानमन्त्री, माननीय मुख्यमन्त्री, खेल मन्त्री भारत सरकार एवं बीसीसीआई एडमिनिस्ट्रेटर को प्रत्यावेदन भेजकर, व्यक्तिगत तौर पर मिलकर विभिन्न साक्ष्यों के माध्यम से मान्यता प्रदान करने का आवेदन और निवेदन किया है। वर्तमान में भी हमारे प्रयास जारी हैं। बीती 16 अक्टूबर को माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत जी ने मान्यता के संबंध में एक बैठक बुलायी थी, जो चंद एसोसिएशनों के अड़ियल रवैये ओर गलत बयानबाजी के चलते बेनतीजा रही।

Leave A Comment