Breaking News:

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

पूर्व सीएम हरीश रावत ने किया जनता से संवाद, जानिए खबर -

Sunday, May 31, 2020

प्रदेश में खेती को व्यावसायिक सोच के साथ करने की आवश्यकताः सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, May 31, 2020

अनलॉक के रूप में लॉकडाउन , जानिए खबर -

Saturday, May 30, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 749 -

Saturday, May 30, 2020

रहा है भारतीय पत्रकारिता का अपना एक गौरवशाली इतिहास -

Saturday, May 30, 2020

रमेश सिप्पी, शर्मन जोशी ने छात्रों से की खास मुलाकात , जानिये खबर

uk

देहरादून। तुलाज इंस्टीट्यूट में फिल्म और टेलीविजन उद्योग के सितारों और कॉलेज के छात्रों के बीच एक बातचीत सत्र का आयोजन किया गया। ज्ञान सहाय, रमेश सिप्पी, किरन जुनेजा, सुरेंद्र पाल, राजेंद्र गुप्ता, विवेक वासवानी, प्रभाकर शरण, देवेंद्र भोजानी, परेश गनात्रा और शर्मन जोशी जैसे कलाकारों ने सत्र में प्रतिभाग किया। फिल्म उत्साही छात्रों के लिए एक कार्यशाला भी आयोजित की गई। कार्यशाला में विभिन्न सितारे शामिल हुए और छात्रों को उपयोगी टिप्स और जानकारी भी दी। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न फिल्मों को भी दर्शाया गया, जिनकी छात्रों ने खूब सराहना की। कार्यक्रम कि शुरुवात सिनेमेटोग्राफर ज्ञान सहाय के सत्र के साथ शुरू हुआ। ज्ञान सहाय ने कलयुग और आक्रोश जैसी फिल्मों में काम किया है वह साराभाई वर्सेज साराबाही जैसे धारावाहिकों का हिस्सा रहे हैं। वर्ष 1988 में द्रोणाचार्य के प्रतिष्ठित चरित्र के साथ अपनी शुरुआत करने वाले सुरेंद्र पाल ने भी छात्रों के साथ एक सत्र आयोजित किया। उन्होंने भारतीय टेलीविजन में अपने करियर के लगभग 30 वर्षों के अनुभव को साझा किया। उन्होंने कहा कि उन्हें कई शैलियों में काम करने का विशेषाधिकार मिला है और वह भी बिना किसी प्रतिष्ठा के। इसके बाद भारतीय फिल्म निदेशक और निर्माता रमेश सिप्पी द्वारा एक बहुत प्रतीक्षित सत्र आयोजित किया। रमेश सिप्पी लोकप्रिय फिल्म शोले को निर्देशित करने के लिए जाने जाते है। उन्होंने अपने सत्र में उत्तराखंड के कलाकारों की प्रशंसा की और कहा कि राज्य के बहुत से लोग पहले से ही फिल्म उद्योग में काम कर रहे हैं। उन्होंने दर्शकों के साथ अपनी जानी मानी फिल्म शोले के उपाख्यानों को साझा किया। उन्होंने आगे कहा कि प्रसिद्ध जोड़ी सलीम-जावेद द्वारा पटकथा लेखन के बिना फिल्म की दिशा संभव नहीं थी। जब वी मेट फेम कि अनुभवी अभिनेत्री किरन जुनेजा ने अपने अभिनय स्कूल के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि वह इसके बारे में उत्साहित है और उसे अपना पूरा समय दे रही है। इसके बाद, तनु वेड्स मनु फेम के अभिनेता राजेंद्र गुप्ता ने अभिनय के गुर के बारे में बात की। उन्होंने एक अच्छा कलाकार बनने के लिए क्या किया और एक अभिनेता एक स्टार से अलग कैसे है, इस पर प्रकाश डाला। विवेक वासवानी एक अभिनेता, लेखक और निर्माता हैं जो शाहरुख खान को शुरुवाती दिनों में मुकाम दिलाने के लिए जाने जाते हैं । उन्होंने बताया कि कोई पिक्चर कैसे बॉक्स ऑफिस हिट बनायीं जाती है। उन्होंने कहा कि एक स्टार सिर्फ फिल्म को बेचने के लिए जिम्मेदार होता है और अपनी परफॉरमेंस के लिए नहीं। छात्रों ने कॉमेडियन खयाली शरण, देवेन भोजानी और परेश गनात्रा द्वारा सत्र का आनंद लिया। उन्होंने छात्रों का मनोरंजन किया जिससे छात्र मंत्रमुग्ध हो गए। प्रभाकर सरन जो लैटिन अमेरिकी फिल्मों में काम करते हैं, उन्होंने छात्रों को विदेशी सिनेमा में कामकाजी संस्कृति के बारे में बताया। छात्रों ने भारतीय फिल्म और थियेटर अभिनेता शर्मन जोशी से मुलाकात करने पर अपनी खुशी व्यक्त की, जो 3 इडियट्स, हेट स्टोरी 3, रंग दे बसंती, गोलमाल इत्यादि जैसी फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा जाने जाते हैं। उन्होंने बच्चों के साथ फोटो खिचवाईं और उनके लिए कई ऑटोग्राफ भी साइन करे। इस अवसर पर अध्यक्ष तुलाज इंस्टिट्यूट सुनील कुमार जैन, सचिव संगीता जैन, कार्यकारी निदेशक सिल्की जैन, उपाध्यक्ष रौनक जैन, एडवाइजर तुलाज इंस्टिट्यूट जी जी गर्ग, उपराष्ट्रपति प्रौद्योगिकी राघव गर्ग, रजिस्ट्रार तुलाज इंस्टिट्यूट पवन कुमार चैबे और निदेशक डीआईएफएफ राजेश शर्मा मौजूद रहे।

Leave A Comment