Breaking News:

पहचान : समाजसेवी विजय कुमार नौटियाल को उत्तराखंड गौरव सम्मान -

Saturday, December 15, 2018

कैबिनेट की मुहर : शिक्षकों के लिए 7वें वेतनमान को मंजूरी -

Friday, December 14, 2018

राफेल को लेकर राहुल गांधी ने झूठ फैलाने का किया कार्य : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, December 14, 2018

बर्फबारी के बाद केदारनाथ में मौसम हुआ साफ -

Friday, December 14, 2018

उत्तराखण्ड : सीएम एप से पहली बार बिजली से रोशन हुए कई दूरस्थ गाँव -

Friday, December 14, 2018

आईसीआईसीआई बैंक ने जोड़े ‘ईजीपे‘ पर 1.93 लाख से अधिक ग्राहक -

Friday, December 14, 2018

प्रेसवार्ता : लापता संत गोपालदास की बरामदगी न होने पर रोष -

Thursday, December 13, 2018

हाउस टैक्स को लेकर गामा और चमोली आमने सामने -

Thursday, December 13, 2018

उत्तराखंड : 22 आईपीएस अधिकारियों को समय से पहले हटाया गया -

Thursday, December 13, 2018

अजब गजब : जेठानी ने की नाबालिग के साथ शारीरिक शोषण -

Thursday, December 13, 2018

त्रिवेंद्र सरकार द्वारा आंगनबाङी कार्यकत्रियों को नए वर्ष की सौगात, जानिये खबर -

Thursday, December 13, 2018

बढ़ते अपराधों के बीच दूनवासी दहशत में , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

14 दिसंबर को होगा ‘अपहरण’ सामने , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

कुलपति सम्मेलन 20 दिसम्बर को राजभवन में -

Wednesday, December 12, 2018

दो मुंहा सांप के चक्कर में गए जेल , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

फर्जी पीसीएस अधिकारी को पुलिस ने दबोचा -

Wednesday, December 12, 2018

केदारनाथ धाम में बर्फबारी, जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

छोटे राज्यों का भविष्य राष्ट्रीय दलों के हाथ में सुरक्षित नहींः रतूड़ी -

Wednesday, December 12, 2018

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

राज्य के हर जिले में होगा चाइल्ड फ्रेंडली थाना ,जानिए खबर

police

नई दिल्ली| बच्चे थाने में आकर पुलिस को देखकर डरें नहीं और उन्हें वहां ऐसा माहौल मिले ताकि उनके बाल मन में गलत प्रभाव ना पड़े, इसके लिए जिले थानों में काम हो रहा है। होम मिनिस्ट्री इसके लिए सैद्धांतिक तौर पर सहमत है और जल्द ही इस मसले पर राज्यों से चर्चा की जाएगी। जानकारी हो की नैशनल कमिशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स और होम मिनिस्ट्री के अधिकारियों के बीच इस मसले पर मीटिंग हुई। लेकिन यह काम राज्य सरकारों को करना है इसलिए पहले राज्यों से इस मसले पर चर्चा की जाएगी, और यह भी ध्यान रखना होगा कि पुलिस बल कितना है। जिसके बाद होम मिनिस्ट्री अपनी तरफ से सभी राज्यों को दिशानिर्देश जारी कर सकती है। एनसीपीसीआर ने चाइल्ड फ्रेंड्ली थानों को लेकर एक मानक भी तैयार की है जिसमें बताया गया है कि किस तरह बच्चों के लिए थाने में अलग इंतजाम होना चाहिए। एनसीपीसीआर मेंबर रूपा कपूर कहती हैं कि हमारी कोशिश है कि कम से कम हर जिले में एक चाइल्ड फ्रेंडली थाना जरूर बनाया जाये | यह मुख्य थाने के पास ही अलग कमरे के रूप में हो सकता है। इसे बच्चों के हिसाब से सजाना चाहिए ताकि कोई भी बच्चा चाहे वह पीड़ित हो या आरोपी वह यहां आए तो उसे वहां दूसरे आने वाले आरोपियों से दूर रखा जा सके। वहाँ पुलिस कर्मी सादी कपड़ो में होंगे | ताकि जब बच्चे से किसी बी मामले में बातचीत हो तो बच्चा जवाब देने में मन में किसी प्रकार का डर ना हो। जिससे बच्चा खुलकर अपनी बात बता सकेंगे।

Leave A Comment