Breaking News:

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

लेडी कॉन्स्टेबल ने पानी में फंसे हुए लोगों की बचाई जान, जानिए खबर

pune

पुणे | पुणे की दत्तावाड़ी पुलिस चौकी में कॉन्स्टेबल नीलम रोज की तरह अपना काम कर रही थी । तभी उन्हें एक सीनियर का फोन आया। उनसे मूठा नदी के किनारे के निचले इलाके जनता वसहाट में स्थिति का जायजा लेने के लिए कहा गया। वहां पर नहर की दीवार टूटने से बाढ़ सी स्थिति पैदा हो गई थी। वह फौरन मौके पर पहुंचीं और डेढ़ घंटे तक लोगों, खासकर महिलाओं और बच्चों को, पानी से बाहर निकालती रहीं। इन लोगों को इस स्थिति का बिलकुल अंदेशा नहीं था, इसलिए वह बिना मदद के वहां फंसे थे। उन्होंने बताया कि महिलाएं और बच्चे यहां-वहां थे और घबराहट में परिजन एक-दूसरे को ढूंढ नहीं पा रहे थे। पानी उनके पेट तक पहुंच गया था। उन्होंने बच्चों को पीठ पर लादकर निकाला। करीब 15 लोगों को इस तरह सुरक्षित जगह पर पहुंचाने वाली 28 साल की इस बहादुर महिला को लोगों ने खूब दुआएं दीं। नीलम ने बताया कि जब वह पहुंचीं तो मानो लोग पानी में बह रहे थे। पानी बढ़ता जा रहा था और उन्हें बचाने के लिए कोई नहीं था। उन्होंने बताया, ‘मैंने अपना पर्स और मोबाइल एक अजनबी को थमाया और पानी में कूदने को तैयार हो गई। जब मैं अपने जूते निकाल रही थी तो मैंने देखा कि एक दुकान का मालिक खुद को डूबने से बचाने की कोशिश कर रहा है। मैंने पास के गराज से एक टायर उठाया और दुकानदार की ओर फेंका जिससे वह तैरता रह सके।’ नीलम ने जिन जैनब रिजवी के बेटे और छाया वाघमारे को बचाया वे उनका धन्यवाद करते नहीं थक रही थीं। वहीं, दत्तावाड़ी पुलिस स्टेशन के लोग इस बात से जरा भी हैरान नहीं हैं। सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर देवीदास बताते हैं कि नीलम हमेशा ऐसे स्थितियों में आगे ही रहती हैं। उन्होंने बताया, ‘वह पुणे पुलिस की सबसे बहादुर पुलिस अफसरों में से एक हैं। इस हफ्ते गणपति विसर्जन के वक्त उन्होंने ट्रैफिक कंट्रोल करने और शराबियों को संभालने में अहम भूमिका निभाई थी लेकिन वह कानून तोड़ने वालों और अपराधियों से निपटते वक्त भी उतनी ही आक्रामक होती हैं।

Leave A Comment