Breaking News:

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

बढ़ सकती है आधार लिंक करने की आखिरी तारीख -

Thursday, December 7, 2017

अपर निदेशक सूचना ने दिवंगत पत्रकार की पत्नी को तीन लाख का चैक सौंपा -

Wednesday, December 6, 2017

तो इटली में विराट और अनुष्का बधेंगे शादी के बंधन में …! -

Wednesday, December 6, 2017

एबीवीपी ने मनाया सामाजिक समरसता दिवस -

Wednesday, December 6, 2017

सीएम ने मृतक होमगार्ड जवानों की पत्नियों को 5-5 लाख की धनराशि किये वितरित -

Wednesday, December 6, 2017

भीख मांगते मिली थी मेजर की बेटी, जानिए खबर -

Tuesday, December 5, 2017

17 दिसम्बर को आयोजित मैराथन में भाग जरूर ले , जानिये खबर -

Tuesday, December 5, 2017

लोगों के घरों में काम करके अपनी पढ़ाई और घर की जिम्मेदारी उठा रही यह मासूम

pehchan -aap

गाजियाबाद | अगर दिल में जज्बा हो तो कोई भी कार्य आसानी से पूरा किया जा सकता है ऐसे ही एक मासूम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद खेलने की उम्र में अपने परिवार का सहारा बनीं हैं। उम्र मात्र 11 साल लेकिन जज्बा किसी बड़ो से कम नहीं है।बात हो रही है स्लम एरिया में रहने वाली एक मासूम बच्ची का | जो अपने 9 भाई-बहनों को पालने में पिता की सहायता करती है। इन सभी कार्यों के बावजूद पूजा ( बदला हुआ नाम ) रोज 2 घंटे पढ़ने का समय निकालती है। वह रोजाना सुबह 11 से 1 बजे तक पढ़ाई के लिए सेंट्रल पार्क जाती है। पूजा (बदला हुआ नाम) घरों में काम करने के साथ-साथ अपनी पढ़ाई भी कर रही है। घरों में काम करने से उसकी पढ़ाई और परिवार के खर्च निकलते रहते हैं। पढ़ाई का शौक रखने वाली सुनीता सुबह 5 बजे उठकर पहले अपने घर के काम करती है, फिर लोगों के घरों में काम करने जाती है। इसके बाद वह सुबह 10 बजे से स्कूल चली जाती है। इसके बाद दोपहर 2 बजे वह अपने पिता की दुकान पर काम करती है और शाम को फिर से लोगों के घरों में काम करती है। सीमा की उड़ान को अगर लोगों की सहायता की हवा मिल जाए, तो वो भी कुछ अलग कर सकती है। सीमा का सपना है कि उसके परिवार अपना घर हो।

 

 

 

Leave A Comment