Breaking News:

उत्तराखंड पुलिस ने किया मांउण्ट एवरेस्ट फतह, मुख्यमंत्री ने दी बधाई -

Sunday, May 20, 2018

पीएम मोदी कल करेंगे राष्ट्रपति पुनित के साथ बैठक -

Sunday, May 20, 2018

दिल्ली ने मुंबई इंडियंस को 11 रनों से हराया, मुंबई प्लेऑफ से बाहर -

Sunday, May 20, 2018

छत्तीसगढ़ में नक्सली हमला, आईईडी ब्लास्ट में 6 जवान शहीद -

Sunday, May 20, 2018

रोजा तोड़कर बचाई जान जानिए ख़बर -

Sunday, May 20, 2018

आने वाली पीढ़ियों के लिये रिस्पना को बचाने का प्रयास : सीएम -

Saturday, May 19, 2018

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर प्लेऑफ की दौड़ से बाहर जानिए ख़बर -

Saturday, May 19, 2018

मुख्यमंत्री मोबाइल एप पर शिकायत और मैड मल्ला और तल्ला गाँव के लिए पहुंचा पीने का पानी। -

Saturday, May 19, 2018

फिल्म ‘लस्ट स्टोरीज’ का ट्रेलर हुआ रिलीज -

Saturday, May 19, 2018

पीएम मोदी ने जोजिला सुरंग का किया शिलान्यास, एशिया की सबसे लंबी सुरंग -

Saturday, May 19, 2018

अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम देहरादून पहुंची, तीन जून को पहला मैच -

Saturday, May 19, 2018

उत्तराखण्ड में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश की अपार सम्भावनाएं : अनूप -

Friday, May 18, 2018

कल श्रीनगर जाएंगे पीएम मोदी -

Friday, May 18, 2018

रिस्पना नदी के पुनर्जीवीकरण हेतु अभियान में सभी दे साथ : सीएम -

Friday, May 18, 2018

कीर्ति व कृष्णा बने मिस्टर एंड मिस नाॅर्थ इंडिया ग्लैम हंट -

Friday, May 18, 2018

चार धाम ऑल वेदर रोड निर्माण कार्यो की हुई समीक्षा -

Friday, May 18, 2018

फिल्म ‘नक्काश’ का पोस्टर लॉन्च -

Friday, May 18, 2018

येदियुरप्पा कल साबित करेंगे बहुमत -

Friday, May 18, 2018

हक की लड़ाई : शीला रावत के समर्थन में अनेक समाजिक एवम राजनीतिक संगठन आये आगे -

Thursday, May 17, 2018

मिशन रिस्पना सरकारी आयोजन नही बल्कि महा जन अभियान है : सीएम -

Thursday, May 17, 2018

लोगों के घरों में काम करके अपनी पढ़ाई और घर की जिम्मेदारी उठा रही यह मासूम

pehchan -aap

गाजियाबाद | अगर दिल में जज्बा हो तो कोई भी कार्य आसानी से पूरा किया जा सकता है ऐसे ही एक मासूम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद खेलने की उम्र में अपने परिवार का सहारा बनीं हैं। उम्र मात्र 11 साल लेकिन जज्बा किसी बड़ो से कम नहीं है।बात हो रही है स्लम एरिया में रहने वाली एक मासूम बच्ची का | जो अपने 9 भाई-बहनों को पालने में पिता की सहायता करती है। इन सभी कार्यों के बावजूद पूजा ( बदला हुआ नाम ) रोज 2 घंटे पढ़ने का समय निकालती है। वह रोजाना सुबह 11 से 1 बजे तक पढ़ाई के लिए सेंट्रल पार्क जाती है। पूजा (बदला हुआ नाम) घरों में काम करने के साथ-साथ अपनी पढ़ाई भी कर रही है। घरों में काम करने से उसकी पढ़ाई और परिवार के खर्च निकलते रहते हैं। पढ़ाई का शौक रखने वाली सुनीता सुबह 5 बजे उठकर पहले अपने घर के काम करती है, फिर लोगों के घरों में काम करने जाती है। इसके बाद वह सुबह 10 बजे से स्कूल चली जाती है। इसके बाद दोपहर 2 बजे वह अपने पिता की दुकान पर काम करती है और शाम को फिर से लोगों के घरों में काम करती है। सीमा की उड़ान को अगर लोगों की सहायता की हवा मिल जाए, तो वो भी कुछ अलग कर सकती है। सीमा का सपना है कि उसके परिवार अपना घर हो।

 

 

 

Leave A Comment