Breaking News:

हरेला पर पूरे प्रदेश में किया जाएगा वृक्षारोपण, जानिए खबर -

Tuesday, January 21, 2020

व्यावसायिक एवं आवासीय भवन के करों में वृद्धि पर कांग्रेसियों ने सौंपा ज्ञापन -

Tuesday, January 21, 2020

मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष पोर्टल का हुआ शुभारम्भ, जानिए खबर -

Tuesday, January 21, 2020

महिला दलाल ने कॉलगर्ल भेजा निकली उसकी पत्नी….. -

Tuesday, January 21, 2020

संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत -

Tuesday, January 21, 2020

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम : उत्तराखंड कोटद्वार के छात्र ने पीएम से किया सवाल -

Monday, January 20, 2020

24 जनवरी को घर वापसी : नवग्रहों में सबसे विलक्षण शनिदेव -

Monday, January 20, 2020

हद है : चोरों ने सोलर ऊर्जा लाइट की बैटरियों पर किया हाथ साफ -

Monday, January 20, 2020

दबोचे गए लाखों की शराब सहित दो तस्कर -

Monday, January 20, 2020

जेईई मेन्स परीक्षा: बंसल क्लासेस के छात्र हर्षित पंत ने संस्थान का किया नाम रोशन -

Monday, January 20, 2020

शुरू हुआ देहरादून में वन-वे ट्रैफिक प्लान -

Sunday, January 19, 2020

हरिद्वार: होटल में मिला देहरादून की महिला का शव -

Sunday, January 19, 2020

उत्तराखण्ड स्टेट मास्टर्स बैडमिंटन चैंपियनशिप- 2020 का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारम्भ -

Sunday, January 19, 2020

निओ विज़न संस्था पिछले 8 वर्षों से गरीब बच्चों को दे रहा निःशुल्क शिक्षा -

Sunday, January 19, 2020

यश वर्मा शतक बनाने वाले सबसे युवा बल्लेबाज बने, जानिए खबर -

Sunday, January 19, 2020

जरा हटके : छोटे नोट भी बना सकते है आप को लखपति, जानिए खबर -

Saturday, January 18, 2020

सफलता : ठगी में नाइजीरियन समेत दो गिरफ्तार -

Saturday, January 18, 2020

जरूरतमंद विद्यार्थियों को ट्रैक सूट वितरित -

Saturday, January 18, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने पीएम मोदी से की भेंट, जानिए खबर -

Saturday, January 18, 2020

डब्लयूआईसी ने मनाया रस्किन बॉन्ड के कार्यों का जश्न -

Saturday, January 18, 2020

लोस अध्यक्ष व सीएम ने किया पीठासीन अधिकारियों एवं सचिवों के 79वें वार्षिक सम्मेलन का शुभारंभ

देहरादून । लोक सभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने बुधवार को प्रेमनगर स्थित स्थानीय होटल में भारत के विधायी निकायों के पीठासीन अधिकारियों एवं सचिवों के 79वें वार्षिक सम्मेलन का दीप प्रज्ज्वलन कर शुभारम्भ किया। भारत के विधायी निकायों के पीठासीन अधिकारियों एवं सचिवों का उत्तराखण्ड में पहला सम्मेलन है। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि गंगा यमुना के उद्गम की धरती देवभूमि उत्तराखण्ड में आयोजित इस सम्मेलन में लोकतंत्र की मजबूती के लिए व्यापक स्तर पर चर्चा होगी। भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यहां पूरी पारदर्शिता के साथ चुनाव होते हैं।

एक दिन भी संसद की कार्यवाही नहीं हुई स्थगित

लोकतंत्र के प्रति देशवासियों का विश्वास बढ़ा है, जिसके परिणामस्वरूप 17वें लोक सभा चुनाव में 67.40 प्रतिशत मतदान हुआ। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि संसदीय सत्र में सभी सदस्यगणों को अपना पक्ष रखने का पूरा मौका मिले। 17वीं लोक सभा के गठन के बाद पहला सत्र 37 दिन तक चला, जिसमें 35 विधेयक पारित हुए। इस दौरान एक दिन भी संसद की कार्यवाही स्थगित नहीं हुई। प्रश्नकाल एवं शून्यकाल में सदस्यों के अधिकतम प्रश्नों को रखने का मौका दिया। पहली बार निर्वाचित होने वाले सदस्यों को सदन में अधिक से अधिक बोलने के लिए आग्रह किया। पहले सत्र में संसद की 125 प्रतिशत प्रोडक्टिविटी रही। दूसरे सत्र में भी सदस्यों को चर्चा करने के लिए पर्याप्त अवसर दिया गया, इस सत्र में भी 115 प्रतिशत प्रोडक्टिविटी रही। लोक सभा अध्यक्ष ओम बिड़ला है कि देहरादून में आयोजित इस सम्मेलन में विधानसभा एवं लोक सभा के मन्दिरों को कैसे और अधिक मजबूत किया जा सकता है, इस पर व्यापक स्तर पर चर्चा होगी। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि देवभूमि के अन्दर जो दो दिवसीय चर्चा होगी, इसके आने वाले समय में अनेक सकारात्मक परिणाम होंगे। 2021 में इस सम्मेलन को 100 साल पूरे होंगे, जबकि 2022 में भारत अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनायेगा। हमारा प्रयास है कि लोकतंत्र के इन मंदिरों में सभी की जनता के प्रति जवाबदेही हो। विधानसभा सदन अधिक से अधिक चले इसके लिए भी इस सम्मेलन में चर्चा होगी। हमारा प्रयास होगा कि जो भी लक्ष्य निर्धारित करें, वह अवश्य पूर्ण हो। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने इस सम्मेलन में प्रतिभाग कर रहे सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि यह पहला मौका है जब उत्तराखंड को इस तरह के आयोजन की मेजबानी मिली है। यह हमारे लिए गर्व की बात है।

संसद की तरह ही विधानसभाऐं भी बेहतर परफॉरमेंस दें : त्रिवेंद्र

एक स्वस्थ और मजबूत लोकतंत्र में आप जैसे लोगों की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सदन का अध्यक्ष एक अभिभावक की तरह होता है। सदन में सबको अधिकतम अवसर देना, सबकी सुनने का दायित्व होता है, इसके लिए विशेष कौशल की जरूरत होती है, जिसका सभी बड़ी कुशलता से निर्वहन कर रहे हैं।  उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिस तरह लोक सभा में कार्य हो रहा है, वह एक ऐतिहासिक कार्य हो रहा है। लोकसभा अध्यक्ष श्री बिड़ला जी ने कुशलता से सदन को संचालित किया है। उत्तराखण्ड में भी विधानसभा अध्यक्ष जी ने विधानसभा में सदस्यों को अधिकतम प्रश्न उठाने का मौका दिया है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए सबसे जरूरी है कि सदन सुचारु रूप से चलता रहे। सदन ही वो जगह है, जहां से देश को या राज्यों को चलाने के लिए गंभीर चर्चाएं होती हैं, कानून बनते हैं, सदन में ही जनता से जुड़े मुद्दे उठते हैं। जिस तरह से संसद में अध्यक्षीय शोध कदम के तहत नए नए शोध और तकनीकों को बढ़ावा मिल रहा है, राज्यों की विधान सभाओं में भी इसे लागू किया जाना चाहिए। जितना शोध, रिसर्च और जनता के मुद्दों पर व्यापक विचार विमर्श होगा उतना ही अच्छा आउटपुट हमें मिलेगा। संसद की तरह ही विधानसभाऐं भी बेहतर परफॉरमेंस दें। जिस तरह की प्रोडक्टिविटी संसद में देखी जा रही है, अगर इसी तरह की प्रोडक्टिविटी राज्यों की विधान सभाओं में आ गई तो जिस न्यू इंडिया के निर्माण का सपना हम सबने मिलकर देखा है, वो जल्द साकार होगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड की भारत में विशिष्ट पहचान है, भारत में जो 16 प्रकार की जलवायु हैं, उनमें से 14 प्रकार की जलवायु उत्तराखण्ड में है। हम उत्तराखण्ड में ई-कैबिनेट की शुरूआत करने जा रहे हैं। हमारा प्रयास है कि राज्य में जल्द ही ई-विधानसभा की शुरूआत की जाय।

Leave A Comment