Breaking News:

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

विपिन बिखेर रहा अपनी आवाज का जादू, जानिये खबर

pehchan uk

रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड के लोक जीवन में अलग की ताल और लय है, जिसकी छाप यहां के लोकगीत में साफ तौर पर परिलक्षित होती है। यहां के लोकगीत केवल मनोरंजन ही नहीं, बल्कि लोक जीवन के अच्छे-बुरे अनुभवों एवं उनसे सीखने की प्रेरणा भी देते हैं। हालांकि आधुनिक परिवेश के समयचक्र में पहाड़ों में बहुत सारे लोकगीत विलुप्त हो गये हैं। लेकिन बचे हुए लोकगीतों की अपनी पहचान है। यह कहना है उभरते हुये लोक गायक विपिन पंवार का। विपिन पिछले कई सालों से गढ़वाली लोक-संगीत पर काम कर रहे हैं। जल्द ही उनकी नई अलबम बाजार में आने वाली है। रुद्रप्रयाग शहर निवासी लोक गायक विपिन पंवार स्थानीय स्तर पर कई स्थानों पर अपनी आवाज का जादू बिखेर चुके हैं। तीन माह में उनके गाने ‘ताल घर की सरू‘ को यू ट्यूब पर साठ हजार से अधिक लोग देख चुके हैं। ‘तेरू प्यारू हसड़’ को सिर्फ एक माह में पचास हजार से अधिक व्यूज मिल गये हैं। इसके अलावा ‘सोबनी सरकार’, ‘मेरू पहाड़ो , ‘हाथों में हाथ’ आदि गाने भी खूब सराहे गये। विपिन की नई अलबम जल्द मार्केट में आने वाली है। जिसमें ‘उत्तराखंड की भूमि मां’, ‘बसंती होरी’, ‘काॅलेज की शारदा’, ‘तेरा सुपिन्या’ आदि गाने मुख्य हैं।
विपिन कहते हैं कि बचपन से ही उन्हें गढ़वाली गाना गाने का शौक था। धीरे-धीरे उन्होंने लोकगीत-संगीत में कदम रखा। उन्होंने बताया कि वह नोएडा के किसी प्रतिश्ठित होटल में मैनेजर भी हैं। साथ ही पहाड़ के प्रति लगाव के कारण ही वह लोक संस्कृति को आगे बढ़ाना चाहते हैं। उनका कहना है कि उत्तराखंड में हजारों सालों से लोकगीत-नृत्य संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है। हर छोटे-बड़े शुभ मौकों की शुरूआत लोक गीत और संगीत से ही होती है। हमें अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए काम करना होगा। यहां की संस्कृति और परंपराओं को दर्शाने में यहां के संगीत और वाद्ययंत्रों का मुख्य योगदान है। वाद्ययंत्रों के साथ ही लोकगीत गाये जाते हैं।

Leave A Comment