Breaking News:

15 गरीब कन्याओं का कराया सामूहिक विवाह -

Wednesday, February 20, 2019

पौड़ी और अल्मोड़ा में सबसे अधिक पलायन -

Tuesday, February 19, 2019

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग ने पाकिस्तान व आतंकियों का फूंका पुतला -

Tuesday, February 19, 2019

शहीद मेजर विभूति शंकर ढ़ौडियाल के अंतिम दर्शन में उमड़ा जनसैलाब, सीएम त्रिवेन्द्र पुष्प चक्र अर्पित कर दी श्रद्धांजलि -

Tuesday, February 19, 2019

भारत को वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना चाहिए: हरभजन -

Tuesday, February 19, 2019

फिल्‍म ‘नोटबुक’ से सलमान खान ने रिप्‍लेस किया सिंगर आतिफ असलम को -

Tuesday, February 19, 2019

त्रिवेंद्र सरकार ने पेश किया 48663.90 करोड़ रु का बजट -

Monday, February 18, 2019

समावेशी विकास को समर्पित है बजट-मुख्यमंत्री -

Monday, February 18, 2019

मुख्यमंत्री ने की प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा -

Monday, February 18, 2019

मोहाली स्टेडियम से पंजाब क्रिकेट संघ ने हटावाईं पाकिस्तानी क्रिकेटरों की तस्वीरें -

Monday, February 18, 2019

तुलाज इंस्टीट्यूट में मनाया गया अमौर -

Monday, February 18, 2019

द न्यू देवतास का बुक डब्लूआईसी इंडिया में हुआ लॉन्च -

Monday, February 18, 2019

मैड ने चलाया अभियान, गंदी दीवारों का किया कायाकल्प -

Monday, February 18, 2019

देहरादून के लिए मिस्टर एंड मिस फैशन आइकॉन ऑडिशन का आयोजन -

Monday, February 18, 2019

वेब मीडिया एसोसिएशन उत्तराखंड प्रदेश कार्यकारणी ने वरिष्ठ पत्रकार चन्द्रशेखर जोशी का किया स्वागत -

Sunday, February 17, 2019

कार्तिक आर्यन ने ठुकराई ,10 करोड़ की फिल्म का ऑफर -

Sunday, February 17, 2019

शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट का पार्थिव शरीर पहुंचा देहरादून -

Sunday, February 17, 2019

उत्तराखण्ड : साहसिक पर्यटन स्थल पर्यटकों के आकर्षण का बना केन्द्र -

Sunday, February 17, 2019

आईएफएसएमएन उत्तराखण्ड प्रदेश कार्यकारणी हुआ गठन -

Sunday, February 17, 2019

भाजपा नेता नरेश बंसल जहरीली शराब के कारण मृत लोगो के परिजनों से की भेंट -

Sunday, February 17, 2019

विपिन बिखेर रहा अपनी आवाज का जादू, जानिये खबर

pehchan uk

रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड के लोक जीवन में अलग की ताल और लय है, जिसकी छाप यहां के लोकगीत में साफ तौर पर परिलक्षित होती है। यहां के लोकगीत केवल मनोरंजन ही नहीं, बल्कि लोक जीवन के अच्छे-बुरे अनुभवों एवं उनसे सीखने की प्रेरणा भी देते हैं। हालांकि आधुनिक परिवेश के समयचक्र में पहाड़ों में बहुत सारे लोकगीत विलुप्त हो गये हैं। लेकिन बचे हुए लोकगीतों की अपनी पहचान है। यह कहना है उभरते हुये लोक गायक विपिन पंवार का। विपिन पिछले कई सालों से गढ़वाली लोक-संगीत पर काम कर रहे हैं। जल्द ही उनकी नई अलबम बाजार में आने वाली है। रुद्रप्रयाग शहर निवासी लोक गायक विपिन पंवार स्थानीय स्तर पर कई स्थानों पर अपनी आवाज का जादू बिखेर चुके हैं। तीन माह में उनके गाने ‘ताल घर की सरू‘ को यू ट्यूब पर साठ हजार से अधिक लोग देख चुके हैं। ‘तेरू प्यारू हसड़’ को सिर्फ एक माह में पचास हजार से अधिक व्यूज मिल गये हैं। इसके अलावा ‘सोबनी सरकार’, ‘मेरू पहाड़ो , ‘हाथों में हाथ’ आदि गाने भी खूब सराहे गये। विपिन की नई अलबम जल्द मार्केट में आने वाली है। जिसमें ‘उत्तराखंड की भूमि मां’, ‘बसंती होरी’, ‘काॅलेज की शारदा’, ‘तेरा सुपिन्या’ आदि गाने मुख्य हैं।
विपिन कहते हैं कि बचपन से ही उन्हें गढ़वाली गाना गाने का शौक था। धीरे-धीरे उन्होंने लोकगीत-संगीत में कदम रखा। उन्होंने बताया कि वह नोएडा के किसी प्रतिश्ठित होटल में मैनेजर भी हैं। साथ ही पहाड़ के प्रति लगाव के कारण ही वह लोक संस्कृति को आगे बढ़ाना चाहते हैं। उनका कहना है कि उत्तराखंड में हजारों सालों से लोकगीत-नृत्य संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है। हर छोटे-बड़े शुभ मौकों की शुरूआत लोक गीत और संगीत से ही होती है। हमें अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए काम करना होगा। यहां की संस्कृति और परंपराओं को दर्शाने में यहां के संगीत और वाद्ययंत्रों का मुख्य योगदान है। वाद्ययंत्रों के साथ ही लोकगीत गाये जाते हैं।

Leave A Comment