Breaking News:

देहरादून में शुरू हुआ सैनिटाइजेशन का कार्य, जानिए खबर -

Saturday, June 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1303 -

Saturday, June 6, 2020

सोशल मीडिया पर कार्तिक आर्यन की मां की चर्चा , जानिए खबर -

Saturday, June 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1245 , जिनमे 422 मरीज हुए ठीक -

Saturday, June 6, 2020

नेक कार्य : सोनू सूद ने जहाज बुक कर उत्तराखंड के प्रवासियों को घर भेजा -

Saturday, June 6, 2020

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

शहरो की रेडीमेड शादिया और गाँवो की पर्मानेंट

city-vs-village

हमारे देश में जहा एक ओर शादी का वातावरण और रस्म पुराने समय के जैसा उसी तरह महक बिखेरी हुई है वहीँ दूसरी तरफ शादी का रस्म और वातावरण केवल खानापूर्ति रह गया है.देश के गाँव वहीँ छोर है जहां शादी का रस्म और वातावरण दोनों को आज के समय में बाधे हुए है.वहीँ दूसरा छोर शहर है जो शादी के इन रस्मो को रेडीमेड बनाते जा रहे है.गाँव में शादी के समय में जिस घर में शादी का माहोल होता है वह शहर के लिए सिखने के बराबर है.जहां शादी के समय में घर का हर रिश्तेदार एक साथ इक्कठा होते जो रिश्ते के मीठास को आगे बढ़ाते है.साथ ही साथ एकता का ऐसा परिचय भी देती है जो शहरी क्षेत्र के लिये एक सबक है.शहरो की शादियों में एक दूसरे से हाई फ़ाई दिखने के चक्कर में शादी से जुडी सारी रस्मे रेडीमेड बनता दिखता है जोकि रिश्ते को कमजोर बनाती है देश के दोनों छोर यानि गाँव और शहर को एक समानता में लाने के लिए शादी युक्त्त वातावरण का ही सहारा बेहतरीन होगा.

अरुण कुमार यादव (सम्पादक )

Leave A Comment