Breaking News:

उत्तराखण्ड राज्य बेहतर फिल्म अनुकूल पर्यावरण के लिए विशेष उल्लेख पुरस्कार के लिए चयनित -

Thursday, April 19, 2018

सहारा समूह को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, अपनी पसंद की संपत्ति बेचने का मिला अधिकार -

Thursday, April 19, 2018

सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया की मौत से जुड़ी जांच याचिकाएं खारिज की -

Thursday, April 19, 2018

जब तक प्रधानमंत्री मेरी मांगें नहीं मानेंगे, मैं अनशन नहीं तोड़ूंगी: स्वाति -

Thursday, April 19, 2018

थाईलैण्ड यात्रा से राज्य में निवेश वृद्धि प्रबल : सीएम -

Thursday, April 19, 2018

भारत की ‘‘लुक ईस्ट’’ और थाईलैण्ड की ‘‘लुक वेस्ट’’ नीति एक दूसरे की पूरक : सीएम -

Wednesday, April 18, 2018

चारधाम यात्रा शुरू, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुले -

Wednesday, April 18, 2018

“इण्डिया स्किल उत्तराखण्ड” पहुँचा ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी, जानिए ख़बर -

Wednesday, April 18, 2018

प्रधानमंत्री मोदी मिले ब्रिटेन की पीएम से -

Wednesday, April 18, 2018

आप के राघव चड्ढा ने 2.5 रुपये मेहनताना गृह मंत्रालय को लौटाया -

Wednesday, April 18, 2018

BCCI भी आएगी RTI के दायरे में , लाॅ कमीशन ने की सिफारिश -

Wednesday, April 18, 2018

देवभूमि डायलॉग : 20 अप्रैल को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र युवाओं से करेंगे सीधा संवाद -

Wednesday, April 18, 2018

दिल्ली गैंगरेपः 20 लाख में माता-पिता ने किया आरोपियों से सौदा -

Tuesday, April 17, 2018

आसाराम केस : जेल में ही सुनाया जाएगा हाईकोर्ट का फैसला -

Tuesday, April 17, 2018

बैंकाॅक में सीएम त्रिवेंद्र ने उत्तराखंड राज्य को दिलाई एक नई पहचान -

Tuesday, April 17, 2018

जम्मू-कश्मीर सरकार में शामिल बीजेपी के सभी मंत्रियों ने पार्टी अध्यक्ष को दिए इस्तीफे -

Tuesday, April 17, 2018

गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार के 9 सलाहकारों को हटाया, केजरीवाल को झटका -

Tuesday, April 17, 2018

देश के कई शहरों के ATM खाली , हालात जल्द होंगे सामान्य -

Tuesday, April 17, 2018

आ सकते है एनसीईआरटी के दायरे में आइसीएसई बोर्ड के स्कूल, जानिए ख़बर -

Monday, April 16, 2018

मुख्यमंत्री एप पर शिकायत और मिली मृतक आश्रित को नियुक्ति -

Monday, April 16, 2018

शहर और गांव हो तो भुयासारी गांव जैसा , जानिए खबर

देहरादून/जौनपुर | एक तरफ शहर का चकाचौध भरा जीवन तो दूसरी तरफ एक गांव ऐसा भी जहाँ 100 साल से चली आ रही है ऐसी परंपराए शराब और मांस खाना है वर्जित। थत्यूड़ से लगभग 5 से 7 किलो मीटर आगे एक गांव है भुयासारी विकासखंड जौनपुर टिहरी गढ़वाल है। यहां आज भी परम्परा गत शराब और मांस खाना है वर्जित है | यदि देश में शहर और गांव “भुयासारी गांव” जैसा हो तो देश की आधी समस्या दूर हो सकती है |

सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग उत्तराखंड देहरादून में कार्यरत सुरेश भट्ट अपने एक यात्रा के दौरान इस विषय पर सोशल मीडिया पर यह जानकारी दी , उन्होंने बताया यहां एक बुजुर्ग मिले जिनका नाम इंद्रदेव नौटियाल उम्र 84 साल। उनसे बातचीत की तो उन्होंने बताया कि उनके गांव में पिछले 100 से भी ज्यादा समय से कोई भी व्यक्ति न शराब पीता है और न ही मांस खाता है। जब उनसे पूछा कि आज तो समय बदल गया शादी बारात में तो चलता ही होगा, तो वह बोले कि सवाल ही नही है, उनके गांव और आस पास के गांव में आज भी लोग इस नियम को मानते है। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में भगवान शिव की पूजा अलग अलग रूप में होती है। उनके गांव में कोडेश्वर नाम से भगवान शिव का मंदिर हैए जो उनके इस्ट देव भी है। इसके अलावा भगवान शेषनाग की भी पूजा की जाती है। नौटियाल ने बताया कि उनके यहाँ हर किस्म की खेती होती है। खुद उनके 282 नाली जमीन है, जिसकी चकबंदी उन्हीने खुद की है। यहाँ के लोग संस्कार और सेवाभाव में सबसे अलग है। नौटियाल आज 84 की उम्र है लेकिन कोई बीमारी नही है आंखे ठीक है और आज भी अपने खेत से लेकर सब काम खुद करते है। सुरेश भट्ट ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा की बात सोचने वाली लगी कि जब आज सब जगह पहाड़ को शराब के नाम पर ही बदनाम किया जा रहा हो तब ऐसे गाँव हम सबको प्रेरणा देते है कि अगर हम स्वयं से ऐसी शुरुआत करे तो शराब के बढ़ते प्रभाव पर अंकुश लगया जा सकता है। इस विषय को देखे तो सच ही कहा गया पुराना सौ दिन नया एक दिन , यदि पुराने लोगो के विचार और उनके संरक्षण में समाज आगे बड़े तो बहुत से समाजिक समाधान का हल निकल सकता है |

Leave A Comment