Breaking News:

जब पीएम मोदी ने रखी अरविन्द के कंधे पर हाथ … -

Monday, September 25, 2017

टेस्ट के बाद वनडे में भी नंबर 1 टीम बनी भारत -

Monday, September 25, 2017

पूरा जीवन पंडित दीनदयाल उपाध्याय का समाज सेवा के लिए रहा समर्पित : सीएम -

Monday, September 25, 2017

बाबा केदार व बदरीविशाल के राष्ट्रपति ने किए दर्शन -

Sunday, September 24, 2017

राजभवन परिसर में राष्ट्रपति ने लगाया चंदन का पौधा -

Sunday, September 24, 2017

समाधान पोर्टल के शिकायतों का समाधान कब… -

Sunday, September 24, 2017

नगर निगम में 67 गांवों को जोड़ने का हुआ विरोध -

Sunday, September 24, 2017

बादलो की गरज के साथ सरकार के खिलाफ गरजे ग्राम प्रधान -

Sunday, September 24, 2017

दो दिवसीय दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे उत्तराखंड -

Saturday, September 23, 2017

भारी बरसात के चलते छः लिंक मार्ग हुए बंद -

Saturday, September 23, 2017

सेना के जवानो ने चलाया स्वच्छता अभियान -

Saturday, September 23, 2017

फिल्म ‘गोलमाल अगेन’ एक बार फिर अगेन …. -

Saturday, September 23, 2017

हुंडाई गाडी 15 लोगों ने कराई एक साथ बुक -

Friday, September 22, 2017

“सरकार” ने 13 विभागों को पूर्व से सृजित विभागों में किया समायोजित -

Friday, September 22, 2017

बढ़ती महंगाई के खिलाफ “आप” का प्रदर्शन कार्यकर्ता -

Friday, September 22, 2017

बाल अधिकार संरक्षण आयोग के प्रति जन जागरूकता फैलाने की जरूरत -

Friday, September 22, 2017

विधानसभा अध्यक्ष ने किया रामलीला का उद्घाटन -

Friday, September 22, 2017

ज्ञान-दर्शन व सेवा भाव के प्रति समर्पित थे स्वामी दयानंद सरस्वतीः राज्यपाल -

Friday, September 22, 2017

केंद्रीय मंत्री विजय सांपला दिखेंगे रामलीला के मंच पर -

Thursday, September 21, 2017

पीएम को सोनिया गांधी ने महिला आरक्षण बिल को लेकर लिखी चिट्ठी -

Thursday, September 21, 2017

संत टेरेसा ने गरीबी का अपराध करने वाले विश्व के नेताओं को शर्म से झुका दियाः पोप फ्रांसिस

mother-teresa

जो अब तक कोलकाता की मदर टेरेसा थीं, अब इस शहर की संत टेरेसा हो गई हैं। रविवार को इटली की वेटिकन सिटी के सेंट पीटर्स चैराहे पर पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को संत की उपाधि से सम्मानित किया। इस मौके पर भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ 12 सदस्यों का प्रतिनिधमंडल भी वेटिकन पहुंचा हुआ था. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी इसमें शामिल थे। इस मौके पर वेटिकन सिटी में दुनिया भर से लाखों लोग आए थे, वहीं भारत भर के गिरिजाघरों में भी इस खास दिन विशेष प्रार्थना के लिए कई लोग मौजूद थे. इसके साथ ही आज मुंबई में मदर टेरेसा को मिली इस संत की उपाधि के मौके पर एक डाक टिकट भी जारी किया गया है। इस समारोह में पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को दयालु संत बताते हुए कहा कि वह बीमार और त्यागे हुए लोगों की जीवन रक्षक थीं जिन्होंने गरीबी का अपराध खड़ा करने वालेश् विश्व नेताओं को शर्म से झुका दिया था। सेंट पीटर बेसालिका की सीढिय़ों से पोप फ्रांसिस ने कहा – संत टेरेसा ने दुनिया के ताकतवर लोगों तक अपनी आवाज़ पहुंचाई ताकि वह लोग गरीबी के उस अपराध के लिए खुद को दोषी महसूस कर सकें जिसे उन्होंने ही खड़ा किया है। 20वीं सदी के सबसे लोकप्रिय हस्तियों में से एक मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को मैकेडोनिया गणतंत्र में हुआ था और 18 साल वहां रहने के बाद वह आयरलैंड आ गईं और वहां से भारत जहां उन्होंने अपनी जिंदगी का काफी बड़ा हिस्सा बिताया. इन्होंने 1950 में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की स्थापना की थी. कोलकाता समेत दुनिया भर में किसी भी धर्म विशेष को किनारे रखकर गरीबों की मदद और उनके प्रति करुणा भाव रखने के लिए मदर टेरेसा को जाना जाता है. 1979 में मदर टेरेसा को नोबल के शांति पुरस्कार से भी नवाज़ा गया था। वेटिकन के नियम के अनुसार संत का दर्जा पाने के लिए कम से कम दो चमत्कार करना जरूरी है. 1997 में मदर टेरेसा का निधन हो गया था लेकिन उनके नाम से दो बीमारियों के चमत्कारिक ढंग से ठीक होने के बाद वेटिकन ने उन्हें संत बनाने का फैसला लिया. इनमें से एक दावा पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिंजापुर जिले की आदिवासी मोनिका बसरा ने किया था जिनका कहना है कि उनके पेट में अल्सर था और 1998 में जब मदर टेरेसा की तस्वीर से निकली कुछ चामत्कारिक किरणों ने उन्हें छुआ तब वह बिल्कुल ठीक हो गईं। इस दावे के बाद वह 2003 में पोप जॉन पॉल द्वितीय से रोम में मिलीं. वैटिकन ने मोनिका के दावे की पुष्टि की और मदर टेरेसा को धन्य (बिटिफ़िकेशन) घोषित किया गया. इसके बाद अलबानिया में जन्मी यह नन संतवाद के थोड़ा और करीब पहुंच गईं. इसी साल पोप फ्रांसिस ने ब्राजील के इंजीनियर मार्सिलियो एंड्रीनो के उस दावे की पुष्टि की जिसके मुताबिक मदर टेरेसा के चमत्कार से उन्हें ब्रेन ट्यूमर से निजात मिली.एंड्रीनो का कहना था कि 2008 में उनके पादरी द्वारा मदर टेरेसा से प्रार्थना करने के बाद ही उनके दिमाग में मौजूद सभी ट्यूमर दूर हो गए। मदर टेरेसा को भी अपने हिस्से की आलोचना भी झेलनी पड़ी हैं. आलोचक आरोप लगाते रहे हैं कि उनके द्वारा चलाए जा रहे अस्पतालों में सफाई की खासी कमी नजर आती है, साथ ही यह भी कि कल्याणकारी काम के लिए वह तानाशाहों से भी पैसे ले लेती थीं।

Leave A Comment