Breaking News:

गरीबी से लड़कर अपना एक अलग मुकाम हासिल किया हिमा दास ने -

Sunday, July 15, 2018

विम्बलडन मैदान का एक बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, जानिये खबर -

Sunday, July 15, 2018

ट्विंकल खन्ना के लिए अक्षय का ट्वीट मचा रहा धमाल -

Sunday, July 15, 2018

सबका साथ-सबका विकास की भावना ही सच्ची देशभक्ति : उपराष्ट्रपति -

Saturday, July 14, 2018

नाबालिगों से रेप मामले में मृत्युदंड कानून लाने पर सीएम का जताया आभार, जानिये खबर -

Saturday, July 14, 2018

जल्द बनेगा काशी स्मार्ट सिटी : मोदी -

Saturday, July 14, 2018

साहसिक खेलों से संबंधित उपकरणों की पर्यटन विभाग लगाएगा प्रदर्शनी -

Saturday, July 14, 2018

तीन अगस्त से दून में इडिया इंटरनेशनल फैशन डिजाइनर वीक -

Saturday, July 14, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने विकास कार्यों में तेजी लाने के दिए निर्देश -

Saturday, July 14, 2018

सेब की नई प्रजाति विकसित की, पौधे में एक वर्ष में ही शुरु हो जाता उत्पादन -

Saturday, July 14, 2018

स्कूल हो रोशन इस लिए बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दिया एक दिन का वेतन , जानिए खबर -

Friday, July 13, 2018

किसानों को धान का मूल्य समय पर : त्रिवेन्द्र सिंह रावत -

Friday, July 13, 2018

मुझे रेस 3 में काम करने से रोका गया था : अनिल कपूर -

Friday, July 13, 2018

भारत में पाकिस्तानी रेसलर दिखाएँगे अपनी पहलवानी , जानिये खबर -

Friday, July 13, 2018

केजरीवाल सरकार जनता के दरवाजे तक पहुंचाएगी 100 सुविधाएं -

Friday, July 13, 2018

बॉक्स ऑफिस पर नए रिकार्ड की ओर “संजू” -

Friday, July 13, 2018

उत्तराखंड : बच्चियों के साथ रेप पर अपराधियों को जल्द से जल्द होगी फांसी -

Thursday, July 12, 2018

हक के लिए हार नहीं मानेंगे : शीला रावत -

Thursday, July 12, 2018

मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन अब बॉलीवुड में करेगी एंट्री ! -

Thursday, July 12, 2018

सरकारी स्कूल और स्लम इलाकों में पीरियड्स को लेकर 3 सहेलियां कर रहीं जागरूक, जानिए खबर -

Thursday, July 12, 2018

संत टेरेसा ने गरीबी का अपराध करने वाले विश्व के नेताओं को शर्म से झुका दियाः पोप फ्रांसिस

mother-teresa

जो अब तक कोलकाता की मदर टेरेसा थीं, अब इस शहर की संत टेरेसा हो गई हैं। रविवार को इटली की वेटिकन सिटी के सेंट पीटर्स चैराहे पर पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को संत की उपाधि से सम्मानित किया। इस मौके पर भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ 12 सदस्यों का प्रतिनिधमंडल भी वेटिकन पहुंचा हुआ था. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी इसमें शामिल थे। इस मौके पर वेटिकन सिटी में दुनिया भर से लाखों लोग आए थे, वहीं भारत भर के गिरिजाघरों में भी इस खास दिन विशेष प्रार्थना के लिए कई लोग मौजूद थे. इसके साथ ही आज मुंबई में मदर टेरेसा को मिली इस संत की उपाधि के मौके पर एक डाक टिकट भी जारी किया गया है। इस समारोह में पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को दयालु संत बताते हुए कहा कि वह बीमार और त्यागे हुए लोगों की जीवन रक्षक थीं जिन्होंने गरीबी का अपराध खड़ा करने वालेश् विश्व नेताओं को शर्म से झुका दिया था। सेंट पीटर बेसालिका की सीढिय़ों से पोप फ्रांसिस ने कहा – संत टेरेसा ने दुनिया के ताकतवर लोगों तक अपनी आवाज़ पहुंचाई ताकि वह लोग गरीबी के उस अपराध के लिए खुद को दोषी महसूस कर सकें जिसे उन्होंने ही खड़ा किया है। 20वीं सदी के सबसे लोकप्रिय हस्तियों में से एक मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को मैकेडोनिया गणतंत्र में हुआ था और 18 साल वहां रहने के बाद वह आयरलैंड आ गईं और वहां से भारत जहां उन्होंने अपनी जिंदगी का काफी बड़ा हिस्सा बिताया. इन्होंने 1950 में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की स्थापना की थी. कोलकाता समेत दुनिया भर में किसी भी धर्म विशेष को किनारे रखकर गरीबों की मदद और उनके प्रति करुणा भाव रखने के लिए मदर टेरेसा को जाना जाता है. 1979 में मदर टेरेसा को नोबल के शांति पुरस्कार से भी नवाज़ा गया था। वेटिकन के नियम के अनुसार संत का दर्जा पाने के लिए कम से कम दो चमत्कार करना जरूरी है. 1997 में मदर टेरेसा का निधन हो गया था लेकिन उनके नाम से दो बीमारियों के चमत्कारिक ढंग से ठीक होने के बाद वेटिकन ने उन्हें संत बनाने का फैसला लिया. इनमें से एक दावा पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिंजापुर जिले की आदिवासी मोनिका बसरा ने किया था जिनका कहना है कि उनके पेट में अल्सर था और 1998 में जब मदर टेरेसा की तस्वीर से निकली कुछ चामत्कारिक किरणों ने उन्हें छुआ तब वह बिल्कुल ठीक हो गईं। इस दावे के बाद वह 2003 में पोप जॉन पॉल द्वितीय से रोम में मिलीं. वैटिकन ने मोनिका के दावे की पुष्टि की और मदर टेरेसा को धन्य (बिटिफ़िकेशन) घोषित किया गया. इसके बाद अलबानिया में जन्मी यह नन संतवाद के थोड़ा और करीब पहुंच गईं. इसी साल पोप फ्रांसिस ने ब्राजील के इंजीनियर मार्सिलियो एंड्रीनो के उस दावे की पुष्टि की जिसके मुताबिक मदर टेरेसा के चमत्कार से उन्हें ब्रेन ट्यूमर से निजात मिली.एंड्रीनो का कहना था कि 2008 में उनके पादरी द्वारा मदर टेरेसा से प्रार्थना करने के बाद ही उनके दिमाग में मौजूद सभी ट्यूमर दूर हो गए। मदर टेरेसा को भी अपने हिस्से की आलोचना भी झेलनी पड़ी हैं. आलोचक आरोप लगाते रहे हैं कि उनके द्वारा चलाए जा रहे अस्पतालों में सफाई की खासी कमी नजर आती है, साथ ही यह भी कि कल्याणकारी काम के लिए वह तानाशाहों से भी पैसे ले लेती थीं।

Leave A Comment