Breaking News:

उत्तराखंड : दुकान खुलने का समय प्रातः 7 बजे से सांय 7 बजे तक हुआ -

Thursday, May 28, 2020

कोरोना कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या पहुँची 500 -

Thursday, May 28, 2020

टीवी अभिनेत्री का सड़क हादसे में हुई मौत -

Thursday, May 28, 2020

बिहार की बेटी ज्योति के मुरीद हुए विदेशी भी, जानिए खबर -

Thursday, May 28, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना’’ का शुभारंभ हुआ -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 493 -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री राहत कोष में आज यह दिए दान, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

देहरादून से विशेष ट्रेन द्वारा हज़ारो मजदूर बिहार एंव उत्तर प्रदेश के लिए रवाना, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 469, आज 69 मरीज मिले कोरोना के -

Wednesday, May 27, 2020

ऋषिकेश-धरासू हाइवे पर 440 मीटर लंबी टनल हुई तैयार, सीएम त्रिवेंद्र ने जताया आभार -

Wednesday, May 27, 2020

कोरोना का कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीज हुए 438 -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

संसद का मानसून सत्र स्वाहा

pramod-sharma
प्रमोद शर्मा (दीपनगर देहरादून)
ससंद का सत्र जिस हंगामे के साथ शुरू हुआ उसी हंगामे के साथ खत्म हो गया। ऐसा लगता है कि हमारे देश के नेता नहीं चाहते की संसद चले और काम हो उनको तो बस अपनी राजनीति से मतलब है। जनता और देश के विकास की किसी को फिक्र नहीं। इस सत्र में लोगो के फायदे के किए कोई काम नही हुआ और नही कोई बिल पास हुआ। हमारे देश में करोड़ो लोग बेरोजगार है। हजारों गांवो में पीने के लिए पानी की समस्या बिजली की समस्या, घर की समस्या है परन्तु किसी को इनकी चिन्ता नही है बस अपनी राजनीति करनी है। हमारे देश का अन्न दाता आर्थिक तंग्गी और कर्ज में डूबा हुआ है आत्महत्या कर रहा है। परन्तु सरकार और विपक्ष कोई उनके बारे में नही सोचते। भारत केा एक विकसित देश बनाने के लिए सभी को देश के लिए सोचना चाहिए। अपने द्वारा किये गये लोगो से वादो को पूरा करना चाहिए। संसद में सभी सांसद जनता के जनप्रतिनिधि होते है उनको जनता की समस्या को संसद में उठाना चाहिए। न कि अपनी राजनीति को चमकाना चाहिए। वास्तव में हमारे देश की तरक्की तभी सम्भव है जब सभी राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे के सहयोग से जनता का सहयोग कर देश की तरक्की के लिए सोचे। देश से बेरोजगारी, भुखमरी,बिजली की समस्या,पानी की समस्या,देश में किसानो द्वारा हो रही आत्महत्या के विषय में सोचना चाहिए। संसद न चलने के कारण हुए 261करोड़ का नुकसान नेताओ का नहीं जनता का नुकसान है अगर हमारे देश से बेरोजगारी की समस्या, भ्रष्टाचार की समस्या, शिक्षा एवं भुखमरी की समस्या खत्म हो तो हमारा भारत फिर से सोने की चिडि़या कहलाने लगेगा।ऐसा हाने हमारा देश विकसित देश की श्रेणी में खड़ा हो जायेगा।

Leave A Comment